OK INDIA NEWS में थानेश्वर शर्मा से परेशान हैं मीडियाकर्मी!

हाल में ही लांच हुए चैनल OK INDIA NEWS का हाल खस्ता है. कहने को तो ये नेशनल चैनल है, पर दिखने के नाम पर ये मात्र सिर्फ और सिर्फ अपने ऑफिस के अंदर ही दिखता है. आई विटन्स न्यूज के सेटप को खरीदने वाले जोगिंदर सिह ने इस चैनल को आरंभ करवाया है. सबसे पहले यहां संजय दिवेदी थे. बाद में यश मेहता ने यहां पांव पसारने आरंभ किया जिसको हरियाणा में इंसा एमएसजी बाबा राम रहिम के चैनल फॉर रियल न्यूज को चलाने की जिम्मेदारी दी गई थी लेकिन यह बंद हो गया.

यश मेहता के द्वारा लाया गया आदमी थानेश्वर शर्मा है, जो खुद को डॉक्टरेट बताता है. वो किसी ढंग के आदमी को यहां रहने नहीं देता. थानेश्वर मालिक के खास वाईस चेयरमैन संजय मुद्गल को भी पढ़ाता-लिखाता रहता है. मुद्गल ना तो खुद पत्रकार है, ना पत्रकारिता से उसका दूर-दूर तक कोई नाता रहा है. थानेश्वर लगातार फ्लोर पर अपने सामने दूसरों को बेइज्जत करता रहता है. OK INDIA NEWS में थानेश्वर के कारण हर कोई परेशान है. थानेश्वर के जनता टीवी, जैन टीवी, आई विटन्स न्यूज, साधना प्राइम के कई किस्से सबको पता हैं. इनपुट में थानेश्वर की करीबी रिंकी है जो सिर्फ गेस्ट कॉडिनेशन का काम करती है, पर वाकई में इनपुट हेड वही है, ऐसा कहा जाता है.

एक मीडियाकर्मी द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएंhttps://chat.whatsapp.com/BPpU9Pzs0K4EBxhfdIOldr
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “OK INDIA NEWS में थानेश्वर शर्मा से परेशान हैं मीडियाकर्मी!

  • Himashu Garg says:

    सबसे पहले अपडेट ये कि ये चैनल अभी तक ऑन एयर नहीं हुआ है ना ही इनफार्मेशन मिनिस्ट्री यानि सुचना प्रसारण मंत्रालय से इसे इजाज़त नहीं मिली है दूसरी बात ये कि खुद के तथाकतिथ श्री नाम के आगे डॉक्टर की उपाधि लगाने वाले थानेश्वर शर्मा को कर्नल की स्पेल्लिंग तक नही आती जनाब को इंजीनियर की स्पेल्लिंग ढूंढने के लिए गूगल का सहारा लेना पड़ता है , पत्रकारिता क्या होती है इस ज्ञान का उन्हें घोर आभाव है ,हाँ बस जुगार तंत्र में माहिर होने की वजह से और मालिकों के आगे पीछे करके नौकरी पाने में जरुर माहिर है
    चलिए अब इनकी पत्रकारिता की कुंडली पर नज़र दाल देते है
    CNEB : इस न्यूज़ चैनल में ये जनाब असाइनमेंट पर हुआ करते थे और स्टिंगर से पैसे अपने अकाउंट और ख़बर चलवाने के एवज में गिफ्ट लेने के आरोप में चैनल से निकाल दिए गए , फिर उसके बाद तीन साल तक किसी चैनल में नौकरी नहीं मिली उसके बाद थक हार कर दिल्ली के मोती नगर से चलने वाले जनता टीवी के चक्कर काटने शुरू कर दिए , कई दिनों तक मालिक गुरबिंदर सिंह को फ़ोन करने और रिसेप्शन पर घंटो इंतज़ार करने के बाद आखिरकार अपने शातिर अंदाज़ से मालिक को सेट करके इनपुट हेड के तौर पर नौकरी पाने में कामयाब रहे
    JANTA TV : अब इसे जनता टीवी का दुर्भाग्य कहें या थानेश्वर जी का सौभाग्य जब थानेश्वर शर्मा जी की श्री चरण इस चैनल में पड़े तो ये चैनल नेशनल चैनल के तौर पर अपनी पहचान बनाने में जुटा हुआ था और दिल्ली , हरियाणा ., उत्तर प्रदेश , मध्यप्रदेश , गुजरात , बिहार में onair था , चूकी चैनल को शुरू हुए अभी एक साल भी नही हुआ था लेकिन चैनल अपनी पहचान बनाने में जुटा हुआ था लेकिन थानेश्वर शर्मा ने यहाँ भी चैनल की नैया डूबा दी, चैनल को नेशनल से हटाकर सिर्फ उत्तराखंड तक सीमित कर दिया ताकि स्ट्रिंगर की मदद से उगाही का खेल शुरू हो सके लेकिन जब यहाँ भी जब FIR दर्ज हो गई तो चैनल को रीजनल बनांते हुए सिर्फ हरियाणा तक सीमित करवा दिया , पुरानी टीम को धीरे -धीरे परेशांन करते रहे और उनकी छुट्टी करवाते रहे शर्मा जी आए तो थे इनपुट हेड बनकर लेकिन एक साल के भीतर ही सीधे न्यूज़ हेड बन बैठे , फिर तक़रीबन तीन साल तक तमाम स्ट्रिंगर को अपनी सेवा में लगाने के बाद , शर्मा जी ने iwitness न्यूज़ में इनपुट हेड के तौर पर नौकरी पाने में सफलता हासिल की
    हलाकि थानेश्वर जी आपभी जनता टीवी में एक महीने के नोटिस पीरियड पर थे लेकिन चैनल से पुरानी फुटेज डिलीट करने और उसे अपनी हार्ड डिस्क में कॉपी करने के दौरान मालिक की नज़र पड़ने की वजह से आनन फानन में मिठाई का डब्बा दे कर नौकरी से नोटिस पीरियड ख़त्म होने से पहले ही निकाल दिया गया
    Iwitness : इस चैनल में भी सब कुछ जनता टीवी जैसा ही था सबसे पहले इस चैनल के एडिटर इन चीफ को चैनल से निकलवाया फिर आउटपुट हेड को फिर महज 6 महीने के भीतर बन बैठे चैनल के excutive एडिटर और नतीजा ये हुआ की चैनल एक साल में ही बंद हो गया , फिर शर्मा जी करीबन एक साल तक बेरोजगार रहे और फिर रोहतक से चलने वाले “ ख़बर फ़ास्ट” में आउटपुट हेड के तौर पर ज्वाइन किया ,फिर उस चैनल की हालत महज 6 महीने में खराब हो गई और चैनल लगभग बंद की कगार पर आ गया , 100 लोगों से घटकर चैनल में सिर्फ कुल 10 लोग रह गए , लगभग 8 महीने काम करने के बाद थानेश्वर शर्मा वहां से भी नमस्ते कर दिए गए , फिर कुछ महीनो बाद ये जनाब आ पहुंचे “ख़बरें अभी तक” बतोर इनपुट हेड.
    यहाँ भी थानेश्वर शर्मा चैनल के लिए मनहूस साबित हुए और चैनल महज 4 महीने में ही बंद हो गया . फिर तीन महीने बाद ये पहुंचे
    I witness न्यूज़ चैनल जिसका नाम बदल कर अब ओके इंडिया न्यूज़ किये जाने की बात की जा रही है लेकिन सवाल ये उठता है कि आखिर जब चैनल के मलिक किसी को नौकरी देते है तो उसकी कर्म कुंडली क्यों नही जाँच लेते . , मालिकों की इसी बड़ी गलती का खामियाजा खुद उनके साथ –साथ चैनल में काम करने वाले पत्रकारों को भी भुगतना पड़ता है

    Reply
  • Sanjay Mudgal and thaneshwar both are cheaters. Sanjay Mudgal accounts mai Hera feri karta hai or company kaisa khata hai

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *