Connect with us

Hi, what are you looking for?

गुजरात

ओरिका न्यूज चैनल के फर्जीवाड़े की कहानियां रुकने का नाम नहीं ले रहीं!

Dear Sir

I would like to bring to your attention that oriqa news has not paid me my money for Oriqa presents Fashionista and not even paid to anyone for food, Camera and production or not even given what was promised for contestant in the show.

Advertisement. Scroll to continue reading.

Oriqa news has done big fraud which I will be sharing you as well but after I am getting my all money or I will give this all fraud done by oriqa limited and oriqa news will be telecasted.

Owner Mr Manthan Rajguru and Mr Maulik Patel have jointly committed fraud of crore’s of rupees.

Advertisement. Scroll to continue reading.

They were just thrown out of their houses as well and were also beaten up by landlord’s of the property for giving wrong identity of his father as Commissioner of police and not paying rent.

Oriqa news has made fake promises to contestant of bringing Oriqa entertainment channel and took 20,000 rupees from them and then closed it. Oriqa news has opened pharma business where there is no license and still lying that they got big company.

Advertisement. Scroll to continue reading.

Oriqa Wafers and Namkeen did fraud of printing the packets of oriqa and then filling Balaji Wafers into their brand without the authorisation.

I am employee of Oriqa Limited and will give you my ID card or whatever you need if anything is required.

Advertisement. Scroll to continue reading.

Please help me getting my money back or get me some way to make him give everyone’s salary and money.

I would like to inform you many things about it. ORIQA news has done many fraud with middle class people and also with big people on the name of Narendra Modi Sir and Amit Shah Sir and also Nitin Patel Sir.

Advertisement. Scroll to continue reading.

If anyone goes to him to complain that give me my money back he threatens everyone that you cannot win from media and I will call the politicians and I will put you behind bars etc. He threatens to not pay them and he has not pais salary or even the public money to them.

एक मीडियाकर्मी द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

Advertisement. Scroll to continue reading.

ये पत्र भी पढ़ें-

ओरिका न्यूज़ गुजराती ने कर्मचारियों को दिया झांसा, गहराया वित्तीय ‘संकट’

Advertisement. Scroll to continue reading.

गुजरात में हालिया दौर में लांच हुए ओरिका न्यूज चैनल का सूत्र है ‘आरंभ से ही अग्रेसर’। लेकिन कंपनी के लोगों की नीयत के चलते ‘आरंभ से ही अंत’ दिखने लगा है। शुरू में यह चैनल ओरिका एडिबल के जरिए संचालित होता था। कुछ महीनों बाद अचानक चैनल पर आर्थिक संकट काबिज़ हो गया। इससे काफी कामगारों का वेतन नहीं मिला।

बता दूं कि मैं कंपनी की शुरुआत से ही में जुड़ा हुआ था, लेकिन एचआर ने मुझे फोन कर आफिस आने से मना कर दिया! हैरत है कि महीनों श्रम कराने के बाद अचानक ही मेरी प्रोफाइल होल्ड पर चली गई! मैंने बचपन में जादूगर तो देखा है, लेकिन इन ‘गिरगिटों’ जैसा नहीं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

दिहाड़ी काटी गई। दिसंबर का महेनताना आधा‌‌ ही दीया और जनवरी की तनख्वाह के दीदार दुर्लभ हैं! मैंने पगार काटने को लेकर एचआर से संपर्क किया, तो उन्होंने माखौल उड़ाते हुए कहा कि आपको न तो केज्युअल और न ही मेडिकल अवकाश दिए जाते हैं। अपोइंटमेंट लेटर भी कुछ समय पहले ही प्राप्त हुआ है। लेटर में महज तीन माह का प्रोबेशन पीरियड लिखा गया था, इसके बाद कर्मियों के हित में उचित सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।

इस चैनल के रुतबे का इसी बात से लगाया जा सकता है कि संपादक के पद पर अखबार के एक स्ट्रिंगर की नियुक्ति की गई है। चैनल मालिक मंथन राज्यगुरू से उधारी वसूलने के लिए मजमा लगा रहता है! संस्थान में नवाबी ठाठ बाठ और रसूख दिखाने हेतु 7 लाख रुपए का यूपीएस और 6 लाख रुपए कि LED लगाई है। उधारी में लगाए एसी के भी पैसे किसी ने नहीं चुकाए।

Advertisement. Scroll to continue reading.

गौरतलब है कि चैनल में काम कर रहे इलेक्ट्रिशियन और आईटी वालों तक से उधारी में सामान मंगवा कर पैसे भी नहीं दिए और बोनस में सैलरी भी डकार ली!

कुल मिलाकर बारिश के बाद जैसे बिल्लियों के टोप हर जगह निकल आते हैं ठीक उसी तरह गुजरात में भी न्यूज़ चैनल शुरू होने के कुछ समय में गर्दिश के सितारे बन जाते हैं। भविष्य में ऐसे चैनलों से सावधान रहकर अपना करियर बर्बाद होने से बचाएं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

एक मीडियाकर्मी द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement