न्यूयार्क में राजदीप सरदेसाई को सरेआम थप्पड़ मारा, मीडिया जगत स्तब्ध

नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे के दौरान आज वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई को एक व्यक्ति ने सरेआम थप्पड़ मार दिया. आरोप है कि थप्पड़ मारने वाला युवक मोदी समर्थक था और वह खुद को प्रखर राष्ट्रवादी बता रहा था. राजदीप ने अपने साथ हुई बदसलूकी पर कुछ भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. राजदीप सरदेसाई इन दिनों टीवी टुडे ग्रुप से जुड़े हुए हैं और मोदी दौरे का कवरेज करने अमेरिका पहुंचे हैं. नीचे तस्वीर में देखें, बाईं तरफ खड़े राजदीप के चेहरे पर दाईं तरफ से एक युवक ने घूंसा चेहरे पर मार रखा है.

ऐसी चर्चा है कि राजदीप सरदेसाई की विचारधारा को लेकर भाजपा के ‘गरम खेमे’ के कई लोग उनसे बेहद खफा रहते हैं. ऐसे ही एक सिरफिरे युवक ने राजदीप सरदेसाई को सामने देख उन पर हमला बोल दिया और उन्हें दोनों हाथों से पकड़कर झकझोरते हुए थप्पड़ मार दिया. इस पूरे प्रकरण को कुछ कैमरों ने कैद कर लिया है. राजदीप सरदेसाई के साथ की गई बदसलूकी के वीडियो को एबीपी न्यूज पर कुछ देर के लिए दिखाया गया. पत्रकार दिबांग और विनोद शर्मा ने इस घटना की निंदा की और अमेरिकी दौरे के दौरान भारत के वरिष्ठ पत्रकार के साथ इस तरह की हरकत को शर्मनाक करार दिया. राजदीप के साथ हुए घटनाक्रम को टीवी टुडे समूह के न्यूज चैनलों पर अभी तक नहीं दिखाया गया है जबकि राजदीप इसी समूह के लिए कवरेज करने की खातिर अमेरिका गए हुए हैं. भड़ास के एडिटर Yashwant Singh ने कहा है कि हमले जैसा कुकृत्य निंदनीय है. यह घटनाक्रम परम निंदनीय है. वैचारिक असहमतियों के कारण कोई किसी पर हमला कर दे, यह फासिज्म ही तो है…

विजय सोनकर शास्त्री समेत कई भाजपा नेताओं ने भी राजदीप सरदेसाई पर हुए हमले की निंदा की है और कहा है कि ऐसी किसी हरकत को सपोर्ट नहीं किया जा सकता. राजदीप सरदेसाई के साथ सरेआम की गई मारपीट की घटना से भारतीय मीडिया जगत स्तब्ध है. हर कोई इस हरकत को अंजाम देने वाले शख्स को कड़ी से कड़ी सजा देने मांग कर रहा है. पर खुद राजदीप ने इस घटना पर कुछ कहने बताने से इनकार कर दिया है. राजदीप सरदेसाई के साथ मारपीट की यह घटना नरेंद्र मोदी के मेडिसन स्क्वायर पर भाषण के कुछ देर पहले हुई. बताया जा रहा है कि हमलावर भाजपा और मोदी का प्रचंड समर्थक है. वह राजदीप सरदेसाई को उनकी विचारधारा और उनके आलोचनात्मक दृष्टिकोण के कारण पसंद नहीं करता था. राजदीप पर अटैक करने वाला हमलावर एनआरआई है और काफी संपत्ति वाले घर का बताया जाता है.

मारपीट के वीडियो को देखने के लिए इस यूट्यूब लिंक पर क्लिक करें…

https://www.youtube.com/watch?v=DZyKEUOF1R4

पढ़िए इसके आगे की खबर….

हाथापाई प्रकरण को लेकर ट्विटर और फेसबुक पर तीव्र प्रतिक्रिया, राजदीप सरदेसाई भी बोले…

Tweet 20
fb-share-icon20

भड़ास व्हाटसअप ग्रुप ज्वाइन करें-

https://chat.whatsapp.com/JcsC1zTAonE6Umi1JLdZHB

भड़ास तक खबरें-सूचना इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “न्यूयार्क में राजदीप सरदेसाई को सरेआम थप्पड़ मारा, मीडिया जगत स्तब्ध

  • patrkar par hue hamle ki main ninda karta hun ……..patrkar jab tak kamiyon ko nahin batyega rajneta apne ko kaise sudhrega chatukarita me nirankush ho jyega …….

    Reply
  • repoerteron ko waqt ke saath apni secuirity nd rights ke liye sarkar se maang karni chahiye …nahi toh aaj rajdeep ko thapad pada hai toh kal kisi aur ko aur phir baari baari sab maar khate rehna. media management ko jaldi se kuchh karna hoga nahi toh insecure reporter dheere 2 apna profession bhi chhod sakte hain.aur us waqt aam public ko bhi pata lagega ki reprter apne individual efforts se bhi kitna kaam karte thye

    Reply
  • Artiman Tripathi says:

    पिटाई किसी की भी हो, गलत है, अपराधियों के साथ होने वाली पुलिस की पिटाई भी. यह तो आदिम काल की प्रवृत्ति है. पर एक बात सामने नहीं आ रही है कि यह पिटाई हुई क्यों ? कोई पागल कुत्ता तो है नहीं कि बिना बात के ही दौड़ा लेगा.
    यह बात तो गले उतरती नहीं कि किसी मोदी समर्थक ने यूं ही पिटाई कर दी.
    अगर ऐसा ही है, तब तो सरदेसाई साहब की भारत में ही जब-तब पिटाई होती रहनी चाहिए थी, क्योंकि यहाँ तो राष्ट्रवादियों की तादाद कहीं ज्यादा है.
    पिटाई की नौबत आने के कुछ न कुछ तो जरूर हुआ रहा होगा, और यह भी सामने लाये जाने की जरूरत है, वरना इस पर सारी टिप्पणियां एक पक्षीय ही रहेंगी.

    Reply
  • chandra kant gupta says:

    jis tarah Bapu ko sarey aam galat nahin kah sakte ushi prakar PM ko purvahgrahi vivechana nahin karna chahiye

    Reply
  • आभिमन्यू य. अळतेकर says:

    सूज्ञ महोदय,

    मेरे दोही सवाल है, इस पर विचार/ चर्चा किया जाए ये बिनती है.

    १) चाहे कितना भी महान हो लेकिन आतंकवादियों को छोडने वाले इन्सान को भारत रत्न दिया जा सकता है क्या ? तो कहा गयी है अब इनकी नैतिकता ?
    २) और ऐसे महान इन्सान का महान साथी अगले राष्ट्रपती पद का (२०१७) उम्मीदवार हो सकता है क्या ?

    अभिमन्यू यशवंत अळतेकर, भूतपूर्व संघ स्वयंसेवक
    महाराष्ट्र

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *