Connect with us

Hi, what are you looking for?

सियासत

यूनियन बैंक ने बसपा के नोटबंदी के बाद जमा राशि की सूचना देने से मना किया

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया ने 08 नवम्बर 2016 को नोटबंदी के आदेश के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) द्वारा बैंक की करोलबाग शाखा में जमा की गयी धनराशि से जुड़े अभिलेख देने से मना कर दिया है. एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर द्वारा आरटीआई में मांगी गयी जानकारी पर बैंक ने कहा कि यह वाणिज्यिक विश्वास से जुड़ा मामला है जिसका किसी लोक हित तथा लोक कार्य से कोई सम्बन्ध नहीं है. उन्होंने यह कहते हुए इसके खिलाफ अपील किया है कि बसपा कोई वाणिज्यिक संगठन नहीं बल्कि एक राजनैतिक पार्टी है, अतः उसके कार्यों को वाणिज्यिक गतिविधि नहीं कहा जा सकता और इनका जनहित से सीधा संबंध है. बसपा ने  08 नवम्बर को नोटबंदी के बाद इस बैंक में 104 करोड़ रुपये जमा कराये थे. 

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-7095147807319647", enable_page_level_ads: true }); </script><p>यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया ने 08 नवम्बर 2016 को नोटबंदी के आदेश के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) द्वारा बैंक की करोलबाग शाखा में जमा की गयी धनराशि से जुड़े अभिलेख देने से मना कर दिया है. एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर द्वारा आरटीआई में मांगी गयी जानकारी पर बैंक ने कहा कि यह वाणिज्यिक विश्वास से जुड़ा मामला है जिसका किसी लोक हित तथा लोक कार्य से कोई सम्बन्ध नहीं है. उन्होंने यह कहते हुए इसके खिलाफ अपील किया है कि बसपा कोई वाणिज्यिक संगठन नहीं बल्कि एक राजनैतिक पार्टी है, अतः उसके कार्यों को वाणिज्यिक गतिविधि नहीं कहा जा सकता और इनका जनहित से सीधा संबंध है. बसपा ने  08 नवम्बर को नोटबंदी के बाद इस बैंक में 104 करोड़ रुपये जमा कराये थे. </p>

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया ने 08 नवम्बर 2016 को नोटबंदी के आदेश के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) द्वारा बैंक की करोलबाग शाखा में जमा की गयी धनराशि से जुड़े अभिलेख देने से मना कर दिया है. एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर द्वारा आरटीआई में मांगी गयी जानकारी पर बैंक ने कहा कि यह वाणिज्यिक विश्वास से जुड़ा मामला है जिसका किसी लोक हित तथा लोक कार्य से कोई सम्बन्ध नहीं है. उन्होंने यह कहते हुए इसके खिलाफ अपील किया है कि बसपा कोई वाणिज्यिक संगठन नहीं बल्कि एक राजनैतिक पार्टी है, अतः उसके कार्यों को वाणिज्यिक गतिविधि नहीं कहा जा सकता और इनका जनहित से सीधा संबंध है. बसपा ने  08 नवम्बर को नोटबंदी के बाद इस बैंक में 104 करोड़ रुपये जमा कराये थे. 

Advertisement. Scroll to continue reading.

Union Bank refuses BSP post-demonetization deposit Info

The Union Bank of India has refused to provide documents related with money deposited by Bahujan Samaj Party (BSP) in Union Bank of India, Karol Bagh branch, after demonetization notification on 08 November 2016. To the RTI query sought by activist Dr Nutan Thakur, CPIO of the Bank said that the information sought is covered under commercial confidence, which has no relation to public activity or interest. She has appealed against this refusal, saying that the BSP is no commercial entity but a registered political party. Hence its actions cannot be termed as commercial transactions, but involve large scale public interest. BSP had deposited Rs. 104 crores cash money in old currency after 08 November.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement