संस्कृत संस्थान में अनियमिता, स्मृति ईरानी से गुहार

लखनऊ स्थित सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर ने मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी से मानव संसाधन विकास मंत्रालय में सलाहकार नियुक्त किये गए चमुकृष्ण शास्त्री द्वारा राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान में अनुचित और अवैधानिक हस्तक्षेप की कथित शिकायत की जांच कराये जाने की मांग की है. 

उन्होंने कहा है कि संस्कृत संस्थान के कुलपति पद हेतु बनी सर्च कमिटी ने पूर्व आईपीएस डॉ के अरविन्द राव सहित दो संस्कृत आचार्य प्रो अर्कनाथ चौधरी तथा प्रो पी एन शास्त्री के नाम भेजे जिनमे डॉ अरविन्द राव 10 साल प्रोफ़ेसर नहीं होने और प्रो शास्त्री के पीजी  में निर्धारित 55% अंक नहीं होने के कारण नाम पर आपत्ति लग गयी और अर्कनाथ चौधरी अकेले योग्य प्रत्याशी बचे.  

डॉ ठाकुर के अनुसार इसके बाद श्री चमुकृष्ण ने श्री अर्कनाथ पर नियुक्ति के पहले संस्थान के कर्तव्यनिष्ठ रजिस्ट्रार डॉ बिनोद कुमार सिंह को हटवाने की अनुचित मांग रखी और मना करने पर अयोग्य पाए गए पी एन शास्त्री को कार्यवाहक कुलपति नियुक्त करवा दिया. अतः उन्होंने सुश्री ईरानी से इस प्रकरण को तत्काल दिखवाते हुए सही नियुक्ति कराने और चमुकृष्ण शास्त्री की भूमिका की जांच कराये जाने का निवेदन किया है.

समाचार अंग्रेजी में पढ़ें –

Impropriety in Sanskrit Sansthan, complain to Smriti Irani  

Lucknow based social activist Dr Nutan Thakur has written to HRD minister Smriti Irani to get the complaints of improper interference by Ministry Advisor Chamukrishna Shastry in Rashtriya Sanskrit Sansthan enquired. 

She said that the Search Committee for Vice Chancellor for Sanskrit Sansthan recommended ex IPS Dr K Arvind Rao along with two Sanskrit scholars Prof Arknath Chaudhari and Prof P N Shastri. Among them Dr Arvind was rejected for not being professor for 10 years while Prof Shastri was rejected for having less than mandatory 55% marks in Med, leaving Prof Arknath lone suitable candidate.

As per Dr Thakur, before Prof Arknath’s appointment Sri Chamukrishna approached him asking commitment to remove the upright and no-nonsense Sansthan Registrar Dr Binod Kumar Singh and when Prof Arkrnath refused this offer, he got his relative Prof P N Shastri appointed adhoc VC.

Hence she has requested Ms Irani to get the matter enquired and get the correct person appointed, at the same time looking into the role of Sri Chamushastry in the entire episode.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *