बल्लभगढ़ में दंगे के खिलाफ़ हरियाणा भवन पर विरोध प्रदर्शन

बल्लभगढ़ (हरियाणा) में गत 25 मई को मुस्लिम समुदाय के लोगों पर हिन्दुत्ववादी कट्टरपंथियों द्वारा किये गये बर्बरतापूर्ण हमले और अमानवीय कृत्य के खि़लाफ़ दिशा छात्र संगठन, आईसा, आईपवा, जन हस्तक्षेप आदि संगठनों ने दिल्ली स्थित हरियाणा भवन पर विरोध प्रदर्शन किया।

दिल्ली में हरियाणा भवन पर प्रदर्शन करते दिशा छात्र संगठन के नौजवान एवं अन्य लोग

अटाली गाँव से कुछ नागरिक भी इस  प्रदर्शन में शरीक़ हुए। ज्ञात हो कि बल्लभगढ़ के अन्तर्गत आनेवाले गाँव अटाली में 30 साल पुराने एक मस्जिद को मुद्दा बनाकर  हिंसक कार्रवाई को अंजाम दिया गया। दिशा छात्र संगठन की वारुणि ने कहा कि साम्प्रदायिक विद्वेष भड़काकर लोगों को आपस में लड़ाने की यह घटना पहली नहीं है। देश में ‘‘अच्छे दिनों’’ की शुरुआत हो चुकी है। असहमति और विरोध के स्वरों को कुचलने की पूरी तैयारी हो चुकी है। 

हरियाणा की यह घटना साम्प्रदायिक-फासीवाद की अभिव्यक्ति है। भाजपा के नेतृत्व वाली मनोहर लाल खट्टर की सरकार चुप है। यह चुप्पी सरकार की पक्षधरता को साफ बयान कर रही है। मुस्लिम अल्पसंख्यक समुदाय पर यह हमला जानबूझकर कराया गया है। दरअसल भाजपा की यह नीति ही रही हे कि धार्मिक उन्माद फैलाकर लोगों को आपस में लड़ाया जाये। केन्द्र में मोदी सरकार और अन्य राज्यों में भाजपा की सरकार आने के बाद से तमाम हिन्दुत्ववादी नेता और संगठन प्रतिक्रियावादी बयानबाजियाँ करते रहे हैं और इस तरह की घटनाओं की पृष्ठभूमि तैयार करते रहे हैं। 

हम बता देना चाहते हैं कि इस तरह के कृत्यों को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और हम इस घटना पर मुख्यमंत्री से जवाब चाहते हैं और माँग करते हैं कि घटना की तुरन्त विशेष जाँच टीम द्वारा जाँच करायी जाये और दोषियों को तुरन्त सजा दी जाये। पीड़ित परिवारों की सुरक्षा के पुख़्ता इंतजाम किये जायें। मुख्यमंत्री को इस बाबत एक ज्ञापन सौंपा गया जिसमें छात्रों-युवाओं एवं नागरिकों के हस्ताक्षर शामिल थे। कार्यक्रम में नौजवान भारत सभा, जेएनयूएसयू तथा अन्य छात्र संगठनों ने भी भागीदारी की।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *