अभिताभ बच्चन और सचिन तेंदुलकर में मानवीयता बची हो तो मजदूरों की मदद को आगे आएं

सर आपके इस पेज पर लगभग प्रतिदिन हजारों पोस्ट आते होंगे, आपके इस पेज के जरिये लोग अपनी समस्या को लिखते है।

मेरी भी समस्या है लेकिन मैं अभी इसे इससे ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं मानती हूं, जो मैं अभी कहने जा रही हूं.

मेरी एक विनती है कि अभी जो इस कोरोना वायरस के कारण जितने भी रोजमर्रा के मजदूर है, जो हर दिन कुछ न कुछ कमा लेते थे, उनकी यह कमाई बंद हो गयी है. वो खाने के लिए मोहताज हो गये हैं. उनकी हालत अभी किसी से छुपी नहीं है. मैं इनकी मदद करना चाहती हूं. लेकिन शायद अकेले मैं उतना नहीं कर पाउंगी जितना एकसाथ मिलकर.

मैं आपके इस bhadas4media के साथ जुड़कर उन सब की मदद करना चाहती हूं जो आज 80 से 100 किलोमीटर की दूरी पैदल तय करने को मजबूर हैं.

तो मेरी अपील है आपसे क्योंकि मैं अमिताभ बच्चन और सचिन तेंदुलकर जैसे जितने भी महान व्यक्ति हैं जो आजकल एकदम अपना वीडियो सोशल मीडिया पे डाल रहे हैं, उनसे तो अपील कर नहीं सकती क्योंकि वो लोग इतने महान हो गए हैं कि अपनी महानता की आड़ में इंसानियत भूलकर अपने अपने घर बैठे टीआरपी बटोरने के चक्कर में हैं.

तो कृपया मेरी यह अपील देखें और उन सब की मदद करें

अगर कुछ भी मुझसे गलत लिखा गया हो तो माफ़ कर दें.

शिल्पा कुमारी
पत्रकार
बिहार (बेगूसराय)

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “अभिताभ बच्चन और सचिन तेंदुलकर में मानवीयता बची हो तो मजदूरों की मदद को आगे आएं

  • पुनीत शुक्ला says:

    बच्चन परिवार शुद्ध व्यावसायिक है
    छदा म नहीं देगा,
    चमड़ी जाय पर दमड़ी ना जाए।
    एहसान फरामोश है।

    Reply
  • पुनीत शुक्ला says:

    बच्चन परिवार शुद्ध व्यावसायिक है
    छदा म नहीं देगा,
    चमड़ी जाय पर दमड़ी ना जाए।
    एहसान फरामोश है।
    मक्खी से कॉरोना का वीडियो पेल दिया था
    हड़काए गए तब वापस लिया।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *