राकेश मालवीय को गांधी इको फिलॉसफी फैलोशिप

भोपाल। युवा पत्रकार, लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता राकेश कुमार मालवीय को प्रतिष्ठित गांधी ईको फिलॉसफी फैलोशिप के लिए चुना गया है। इस फैलोशिप के तहत राकेश महात्मा गांधी के पर्यावरण संबंधी विचारों और कामों का अध्ययन कर रिसर्च जर्नल तैयार करेंगे।

यह फैलोशिप मध्यप्रदेश सरकार के पर्यावरण विभाग अंतर्गत एनवार्यमेंट एंड प्लानिंग कोआर्डिनेशन आर्गनाइजेशन एप्को की ओर से गांधी 150 के अवसर पर घोषित की गई है। विभाग के डायरेक्टर जनरल अनुपम राजन की ओर से एप्को के कार्यकारी निदेशक डॉ जितेन्द्र सिंह राजे ने प्रमाण पत्र दिया।

इसके अंतर्गत पूरे देश से बीस फैलोज का चयन विशेषज्ञ चयन समिति ने किया है, इसमें राकेश भी शामिल हैं। इस फैलोशिप के अंर्तगत पचास हजार रुपए की सम्मान राशि दी जाएगी। राकेश सामाजिक संस्था विकास संवाद के साथ जुड़कर काम कर रहे हैं। वह एनडीटीवी खबर के पैनल राइटर हैं।

ये आम लोग हैं जो बड़े खास अंदाज़ में गुनगुनाते हैं, सुनेंगे तो सुनते रह जाएंगे

ये जनता है, गाती है तो दिल से… आप सुनिए भी दिल से.. सामान्य लोगों के भीतर गायकी के कुछ असामान्य कीड़े होते हैं जो गाहे बगाहे प्रकट हो जाते हैं… ऐसे ही कुछ आम लोगों की गायकी को इस वीडियो में संयोजित किया गया है. कोई पत्रकार है, कोई बिदेसिन है, कोई समाज सेवी है तो कोई एक्टिविस्ट है. इनमें गायकी की प्रतिभा जन्मना है, कोई ट्रेनिंग नहीं ली इनने. कोई अवधी गा रहा, कोई भोजपुरी गुनगुना रहा, कोई अंग्रेजन छठ का गीत गा रही, कोई पत्रकार क्लासिकल गुनगुना रहा… क्या ग़ज़ब टैलेंट है.. सुनिए और आनंद लीजिए…

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಜನವರಿ 31, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *