प्रभाष जोशी जब जनसत्ता के प्रधान संपादक पद से हटे तो चरण स्पर्श करने वालों की संख्या बेहद गिर गई

Sanjay Sinha : मैं जिन दिनों जनसत्ता में काम करता था, मैंने वहां काम करने वाले बड़े-बड़े लोगों को प्रधान संपादक प्रभाष जोशी के पांव छूते देखा था। शुरू में मैं बहुत हैरान होता था कि दफ़्तर में पांव छूने का ये कैसा रिवाज़ है। लेकिन जल्दी ही मैं समझने लगा कि लोगों की निगाह में प्रभाष जोशी का कद इतना बड़ा है कि लोग उनके पांव छू कर उनसे आशीर्वाद लेना चाहते हैं। हालांकि तब मैं कभी ऐसा नहीं कर पाया।

एक दिन प्रभाष जोशी जनसत्ता के प्रधान संपादक पद से हट गए। वो सिर्फ सलाहकार संपादक रह गए।

मैंने देखा कि धीरे-धीरे प्रभाष जोशी के कमरे में जाने वालों की गिनती घटने लगी है। जो लोग उन्हें अपना भगवान मानते थे, उनकी निगाह में उनका भगवानत्व कम हो गया था। जो लोग इस फिराक में रहते थे कि एक निगाह प्रभाष जी की उन पर पड़ जाए, वो उनसे कतरा कर निकलने लगे थे। फिर धीरे-धीरे प्रभाष जोशी खुद ही रोज दफ्तर आना कम करने लगे।

मैं जनसत्ता छोड़ कर टीवी चैनल में चला गया।

 

एक दिन प्रभाष जोशी हमारे न्यूज़ चैनल में बतौर गेस्ट बुलाए गए। प्रभाष जोशी हमारे दफ्तर आए और मुझे ही उनसे बात करने को कहा गया। जनसत्ता में रहते हुए हम कभी इतना करीब नहीं हुए थे, जितना करीब मैं उस दिन टीवी दफ्तर में हुआ था। प्रभाष जोशी मेरे सामने आए, अब वो मेरे बॉस नहीं थे। पर जैसे ही वो सामने आए, मैंने उनके पांव छू लिए।

पहली बार ऐसा हुआ जब मैंने उनके पांव को छूए होंगे।

प्रभाष जी ने मुझे गले से लगाया और बहुत देर कर गले से लगे रहे।

***

मैं जब भी मुंबई आता हूं मुझे सितारों से मिलने का मौका मिलता है। मैं कम से कम एक हज़ार बार मुंबई आया हूं।

मैंने यहां न जाने कितने सितारों को चमचमाते देखा है, फिर उन्हें टूट कर ज़मीन पर पत्थर बन कर मिट्टी में मिलते भी देखा है। कल मैं एक ऐसी ही चकाचौंध भरी पार्टी में गया था। सितारों से सजी महफिल।

मैं चुपचाप कोने में बैठ कर जूस का आनंद उठा रहा था। मैंने देखा कि गए समय का एक सितारा अकेला हर चमकते सितारे को हैरत भरी निगाहों से देख रहा था।

मैं उसके पास गया। उसने मुझे पहचाना। हम दोनों मिले। मैं उसके साथ बैठ गया। वो मुझे बताने लगा कि ये मुंबई नगरी है। माया नगरी। कल तक जब वो ऐसी पार्टियों में आता था, तो न जाने कितने पत्रकारों, लड़कियों की भीड़ उसे घेर लेती थी। वो कह रह था, “आज मुझे देखो। अकेला बैठा हूं। अब तो लगता है कि कोई मुझे पहचानता भी नहीं।”

मैंने उसे बताया कि ऐसा ही होता है।

सितारे जब तक आसमान में होते हैं, चमचमाते हैं। जब वो आसमान से गिर जाते हैं, तो उल्कापिंड बन जाते हैं। कहानियां सितारों की होती हैं, उल्कापिंडों की नहीं।

***

आज पहली बार मैं आपको एक रहस्यमयी मोड़ पर छोड़ कर अपनी पोस्ट रोक रहा हूं।

जानते हैं क्यों?

क्योंकि जब भी मैं मुंबई आता हूं, मुझे यहां ढेरों ‘काग़ज के फूल’ वाले गुरूदत मिलते हैं। जिन लोगों ने ‘काग़ज के फूल’ फिल्म देखी है, वो आसानी से समझ जाएंगे कि मैं क्या कहना चाह रहा हूं। जिन लोगों ने नहीं देखी है, उनसे मेरा अनुरोध है कि इस फिल्म को एक बार ज़रूर देखें। जब आप इस फिल्म को देख लेंगे, तो आप समझ जाएंगे कि मैं आज क्या कहना चाह रहा हूं।

 

***

कभी-कभी उन लोगों से भी मिलना चाहिए जो निराश हो चुके होते हैं। उन्हें यह बताना चाहिए कि जब वो अपनी ज़िंदगी से निराश हो चुके हैं, उस वक्त भी कुछ लोग दुनिया में उनकी जैसी ज़िंदगी जीने का सपना देख रहे होते हैं।

टीवी टुडे ग्रुप में वरिष्ठ पद पर कार्यरत पत्रकार संजय सिन्हा के फेसबुक वॉल से



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code