Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

नोटबंदी केस : जस्टिस बीवी नागरत्ना बाकी 4 जजों से असहमत थीं, जानिए कारण

सर्व प्रिया सांगवान-

नोटबंदी केस में सुप्रीम कोर्ट में 5 जजों की बेंच में जस्टिस बीवी नागरत्ना बाकी 4 जजों से असहमत थीं. क्यों?

Advertisement. Scroll to continue reading.

1) इतना महत्वपूर्ण फ़ैसला लेते वक़्त संसद को अंधेरे में नहीं रखा जा सकता. संसद लोकतंत्र का केंद्र है. इस फ़ैसले को नोटिफ़िकेशन से लागू करने की बजाय संसद के साथ चर्चा करके क़ानून बनाकर लागू करना चाहिए था.

2) जो दस्तावेज़ सबमिट किए गए हैं, उसमें आरबीआई ने कई जगह लिखा है – “जैसा कि केंद्र सरकार चाहती है”…इसका मतलब आरबीआई ने स्वतंत्र रूप से कुछ नहीं किया है. पूरी एक्सरसाइज़ 24 घंटे में कर ली गई.

3) ये प्रस्ताव केंद्र सरकार की ओर से आया था, उस पर आरबीआई की राय मांगी गई. आरबीआई एक्ट के मुताबिक इसे आरबीआई का सुझाव नहीं माना जा सकता. आरबीआई की राय नतीजों को ध्यान में रखते हुए स्वतंत्र और सपाट होनी चाहिए.

Advertisement. Scroll to continue reading.

4) इस फ़ैसले के बाद जो मुश्किलें आई, ये सोचने वाली बात है कि क्या आरबीआई को इसका अंदाज़ा नहीं था.

5) ये फ़ैसला गैर-क़ानूनी है, लेकिन इस पर काम हो चुका है, तो इसे अब बदला नहीं जा सकता. इसलिए अब क्या रिलीफ़ दिया जाए?

Advertisement. Scroll to continue reading.

6) 98 फ़ीसद नोट बदले गए. ये बताता है कि ये कदम प्रभावी नहीं रहा जिसकी उम्मीद की गई थी. लेकिन कोर्ट इस आधार पर फ़ैसला नहीं दे सकता.

7) ये कदम अच्छी नीयत से लिया गया था, सोच-समझ कर लिया गया था. इसे आतंकवाद, काले-धन, नकली करेंसी से निपटने के लिए सोचा गया था. ये कदम सिर्फ़ क़ानून के आधार पर गैर-क़ानूनी ठहरा रही हूं, ना कि उद्देश्य के आधार पर.

Advertisement. Scroll to continue reading.

बाकी 4 जज ने क्या कहा-

1) इस कदम से क्या हासिल हुआ या नहीं, इस आधार पर इसके कानूनी रूप से सही होने या ना होने का कोई संबंध नहीं है. जो ज़रूरी है वो ये कि एक उद्देश्य होना चाहिए, जो वाजिब काम के लिए तय किया गया हो, और कदम और उद्देश्य का संबंध तार्किक हो.

Advertisement. Scroll to continue reading.

2) हम समझते हैं कि तीन उद्देश्य – आतंकवाद की फंडिंग, काला-धन, नकली नोट वाजिब उद्देश्य हैं. हमें लगता है कि इन उद्देश्यों के लिए इस कदम का तार्किक संबंध है. हमें लगता है कि इन उद्देश्यों को पूरा करने के लिए नोटबंदी के अलावा कोई और कदम नहीं उठाया जा सकता था. इन उद्देश्यों की महता और संवैधानिक अधिकारों को सीमित करने के बीच वाजिब संबंध भी है. इसलिए इस कदम पर ‘Doctrine of proportionality’ लागू नही होता.

(Doctrine of proportionality- किसी उद्देश्य को हासिल करने के लिए ज़रूरत से बड़ा एक्शन ना लिया जाए. जैसे कि चिड़िया को मारने के लिए तोप का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए.)

Advertisement. Scroll to continue reading.

3) आरबीआई एक्ट के मुताबिक केंद्र सरकार को एक सीरीज़ या सभी सीरीज़ के नोट बंद करने का अधिकार है. इससे पिछली दो बार सभी नोट की बजाय कुछ नोट बंद किए गए थे तो इसका मतलब से न निकाला जाए कि केंद्र सरकार को बस इतना करने का अधिकार है.

4) फ़ैसला लेने की प्रकिया में कोई गलती नहीं है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

5) नोट बदलने के लिए जितना वक़्त दिया गया वो अतार्किक नहीं है.

कोर्ट उस पर ही फ़ैसला देता है जितना उससे पूछा जाता है यानी जो भी अपील की गई होती है. पांचों जज मानते हैं कि सही नीयत से लिया गया फ़ैसला है. लेकिन ये कोई नहीं कहता कि इसका उद्देश्य पूरा हुआ. कोर्ट उन ही दस्तावेज़ों पर बोलेगा जो उसे दिखाए गए होंगे. ये ध्यान रहे कि आरबीआई अपने आप को कोर्ट में डिफ़ेंड कर रहा था. नोटबंदी के लिए सलाह लेते वक़्त आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन थे. फ़ैसला लागू करते वक़्त उर्जित पटेल गवर्नर थे. रघुराम राजन तो पहले ही नोटबंदी के बारे में अपने विचार ज़ाहिर कर चुके हैं कि वे और उनके कार्यकाल में आरबीआई नोटबंदी नहीं चाहते थे. उर्जित पटेल अपना कार्यकाल ख़त्म होने से पहले ही 2018 में इस्तीफ़ा देकर जा चुके हैं. बाकी दो डिप्टी गवर्नर भी 2017 में रिटायर हो चुके हैं.

Advertisement. Scroll to continue reading.

ये वीडियो भी देखें-

Advertisement. Scroll to continue reading.
1 Comment

1 Comment

  1. Daya chand yadav

    January 7, 2023 at 4:07 pm

    पूरा रायता पिछला यू पी चुनाव जीतने के लिए फैलाया गया था ताकि सपा और बसपा के पास पैसों का संकट पैदा हों और इसकी आड़ में आसानी चुनाव जीता जा सके। इस चुनाव में एक राजनीतिक दल को ही खरीद लिया गया था। सब कुछ फेब्रिकेटेड चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement