Connect with us

Hi, what are you looking for?

प्रिंट

पत्रकार से लेकर संपादक तक अपने मालिकों के धंधों की रक्षा में लगे रहते हैं (संदर्भ : शरद यादव का रास में मीडिया पर भाषण)

Deshpal Singh Panwar : शरद यादव मीडिया को लेकर संसद में बोले और सच बोले। मीडिया मालिकों के हालात बेहतर से बेहतर और पत्रकारों की हालत बदतर। केवल 10 फीसदी ही बेहतर हालत में। आखिर मीडिया पूंजीपतियों का गुलाम कैसे हो गया.. इसका जवाब वही नेता दे सकते हैं जो इस समय सत्ता में हैं। याद करिए 2003 का दौर। मीडिया को गुलाम बनाने की नींव रखने वाले महाजन, जेटली और सुषमा ने विदेशी पूंजी निवेश के नाम पर मीडिया के दरवाजों पर कालिख पोत डाली थी।

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-7095147807319647", enable_page_level_ads: true }); </script><p>Deshpal Singh Panwar : शरद यादव मीडिया को लेकर संसद में बोले और सच बोले। मीडिया मालिकों के हालात बेहतर से बेहतर और पत्रकारों की हालत बदतर। केवल 10 फीसदी ही बेहतर हालत में। आखिर मीडिया पूंजीपतियों का गुलाम कैसे हो गया.. इसका जवाब वही नेता दे सकते हैं जो इस समय सत्ता में हैं। याद करिए 2003 का दौर। मीडिया को गुलाम बनाने की नींव रखने वाले महाजन, जेटली और सुषमा ने विदेशी पूंजी निवेश के नाम पर मीडिया के दरवाजों पर कालिख पोत डाली थी।</p>

Deshpal Singh Panwar : शरद यादव मीडिया को लेकर संसद में बोले और सच बोले। मीडिया मालिकों के हालात बेहतर से बेहतर और पत्रकारों की हालत बदतर। केवल 10 फीसदी ही बेहतर हालत में। आखिर मीडिया पूंजीपतियों का गुलाम कैसे हो गया.. इसका जवाब वही नेता दे सकते हैं जो इस समय सत्ता में हैं। याद करिए 2003 का दौर। मीडिया को गुलाम बनाने की नींव रखने वाले महाजन, जेटली और सुषमा ने विदेशी पूंजी निवेश के नाम पर मीडिया के दरवाजों पर कालिख पोत डाली थी।

Advertisement. Scroll to continue reading.

मीडिया मालिकों को समझ में आ गया कि अखबार में ताकत है लिहाजा उसके बलबूते सारे धंधों में उतर गए। जमीनें हथियाईं। पावर प्लांट हो या फिर कोयले या सोने की खान। हर तरह का धंधा। रही सही कसर अंबानी ने पूरी कर दी। देश एमपी के एक बड़े अखबार को लीजिए वो अब केवल उसी राज्य में जाता है जहां उसे अखबार के सहारे धंधा चोखा नजर आता है। देश में फैल चुका है और क्या-क्या धंधे उसके नहीं हैं। पत्रकार से लेकर संपादक तक धंधों की रक्षा में लगे रहते हैं।

छत्तीसगढ़ में तो एक अखबार इस वजह से खोला गया कि काले सोने की एवज में हर साल दी जाने वाली घूस की रकम से ज्यादा सस्ता अखबार खोलना पड़ रहा था। अब कोई ना तो घूस मांगता, ऊपर से अखबार के सहारे अब तो सत्ता के शिखर तक वो पहुंच गए हैं। ऐसे सैंकड़ों उदाहरण मेरे सामने हैं। पत्रकारों से ज्यादा मीडिया मालिकों ने माहौल खराब कर दिया है। रही-सही कसर राज्यों की सरकारों ने पूरी कर दी है। मालिक को एक फोन और अखबार के सारे पत्रकार व संपादक नतमस्तक, तो खबर कहां बचेगी…

Advertisement. Scroll to continue reading.

शरद जी गलत नहीं कहते कि कानून बनाया जाए। पत्रकारिता को मरने से बचाने के वास्ते मीडिया मालिकों के धंधों पर रोक लगाई जाए ताकि पत्रकार जिंदा रहे।खबर फिर जिंदा हो। लोकतंत्र मजबूत हो। काश मरने से पहले ये दिन देखने को मिले। शरद जी को बधाई। कोई तो ऐसा नेता है जो इस मसले पर बोल रहा है वरना ज्यादातर तो सरकारों व बड़े घरानों के दरबारी ही नजर आते हैं।

कई अखबारों के संपादक रह चुके वरिष्ठ पत्रकार देशपाल सिंह पंवार की एफबी वॉल से.

Advertisement. Scroll to continue reading.

पूरे प्रकरण को समझने के लिए इसे भी पढ़ें….

Advertisement. Scroll to continue reading.

xxx

xxx

Advertisement. Scroll to continue reading.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement