कोई पत्रकार खुद को राष्ट्रवादी कहे तो उसकी पत्रकारिता पर शक कीजिए!

Ashish Maharishi : यदि कोई पत्रकार खुद को राष्ट्रवादी कहे तो उसकी पत्रकारिता पर शक कीजिए। क्योंकि ऐसे लोग वास्तव में पत्रकार नहीं बल्कि सत्ता के दलाल होते हैं। शर्मनाक। ये लोग खुद को पत्रकार बताते हैं और सरकार की हर गलती पर पर्दा डालते हैं। इन्हें कभी शर्म नहीं आएगी।

ऐसे लोगों को मुख्यधारा की मीडिया से हटकर पांचजन्य, सामना, कमल संदेश जैसे मुख्यपत्र के साथ जुड़ जाना चाहिए। क्योंकि पत्रकार वही है जो निष्पक्ष हो। जो सही को सही और गलत को गलत कह सके। जिसके लिए किसी का धर्म, जाति या लिंग कोई मायने नहीं रखता है। यदि आपके लिए आपका धर्म और आपकी जाति आपकी पत्रकारिता के ऊपर है तो माफ कीजिए, आप पत्रकार के नाम पर कलंक हैं।

पत्रकार आशीष महर्षि की एफबी वॉल से.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “कोई पत्रकार खुद को राष्ट्रवादी कहे तो उसकी पत्रकारिता पर शक कीजिए!

  • Kashinath Matale says:

    Konsa patrakar Rashtravadi hai, Aur Konsa patrakar Rashtradrohi Hai. Kuchh pata nahi chalta. Aaj sabhi ko achhi aur luxrious life jine ki aadat ho gayi hai. Govt. employees ko bharamsath payment milta hai, phir bhi corruption karte hai. News paper kam karnewale patrakar ya gair patrakar ki halat bahot hi buri hai. Is patrkarita me mjboor patrkar bhi hai, jyo apni haq ki ladhai ladhne me asamarth hai. Kya unhe Aaap Majboor Patrakar kahenge?
    Lekin jyo desh drohi hai usko saja to milni hi chahiye. Desh me rahete hai. Desh ka khate hai. Desh ke khilap likhte hai/kam karte hai.
    Inko Aap kya kahenge?
    Leader ho ya Patrakar, jyo desh ke khilap hai-Deshdrohi. Aur jyo desh khilap hai-Rashtrvadi ya sahi (real) patrakar.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code