नौकरी के नाम पर आबरू से खेलने वाले दल्लों से बच के रहना ‘समाचार प्लस’ की लड़कियों!

{jcomments off}नॉएडा सेक्टर 63 में काम कर रही मेरी दोस्त (छोटी बहन जैसी) कल से परेशान है. परेशानी की वजह है समाचार प्लस न्यूज़ चैनल, जिसके फीमेल बाथरूम से एक ख़ुफ़िया कैमरा मिला है. चैनल में चर्चा है कि किसी महिला एंकर का एमएमएस बनाने के लिए कैमरा किसी उच्च पदस्थ शख्स ने लगवाया था. जिसे कल एक महिला पत्रकार द्वारा ध्यान देने पर पकड़ा गया. कल से चैनल में हल्ला मचा हुआ है.

ऐसा नहीं है कि यह पहली बार हुआ है. समाचार प्लस में पहले भी कई लड़कियां शोषण और उत्पीड़न का शिकार होने के कारण नौकरी छोड़ चुकी हैं. लड़कियों पर कई किस्म के अनैतिक दबाव डाले जाते थे. इस बारे में अक्सर मेरी दोस्त मुझे बताती भी आई है कि उसको लगातार परेशान किया जाता है और जबरन थोपने की कोशिश की जाती है. एक मीडिया ऑफिस का ये हाल ? ये लोग खबरे देंगे ? ये लोग न्याय में जनता का साथ देंगे? जिस मीडिया चैनल का यह हाल हो उसे तो बंद ही हो जाना चाहिए. क्यों कलंक लगा रहे सूचना प्रसारण के नाम पर?

इस तरह के स्कैंडल के सामने आने के बाद मुमकिन है कि न्यूज़ चैनल की आड़ में ये चैनल कोई दूसरा धंधा भी करता हो. ये मामला महिला आयोग में ले जाया जा रहा है. शायद वहां से कुछ ठोस कदम उठाए जाएं.  चैनल में काम कर रही लड़कियों बच के रहो….कहीं ये दल्ले नौकरी के नाम पर इज्ज़त से न खेल लें.

फ्रीलान्स लेखिका प्रियंका सिंह के फेसबुक वाल से



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “नौकरी के नाम पर आबरू से खेलने वाले दल्लों से बच के रहना ‘समाचार प्लस’ की लड़कियों!

  • पंकज says:

    मेरी बहन प्रियंका को बस इतना बताना चाहूगा की समाचार प्लस जैसे संस्थान से जिन्हें इन घटिया कारणों से बाहर का रास्ता दिखाया गया बहन उन्हीं का यह काम है जो इस तरह की बाते फैला रहे हैं समाचार प्लस में काम कर रही महिलाओं से बात करके देख लिजिए जितनी काम करने की प्रीडम उन्हें है और इज्जत दी जाती है शायद ही किसी और संस्थान में दी जाए और जहां तक किसी के स्टिंग आपरेशन की बात है तो हां कुछ ऐसे तुरम खान थे जो इस कला में माहिर थे जो इन्हीं कर्मों के लिए जाने जाते थे लेकिन आज संस्थान से बाहर होकर समाचार प्लस के खिलाफ ऐसी बाते फैला रहे हैं जिससे संस्थान को नुकशान पहुचे चलिए ये बताईए जिस लडकी की बात आप लोग कर रहे हैं क्या उसने पुलिस में इसकी एफआईआर की है या महिला आयोग में गई है अगर नहीं तो समाज का कोई ठेकेदार अपने को किसी का पापा ना समझे जो उक्त लडकी की इज्जत को बेवजह चैनल को बदनाम करने के लिए उछालने की कोशिश कर रहा है किसी को लडाई लडनी है तो सामने से आकर मर्दों की तरह लडे यू मातृ शक्ति का अपमान करके किसी को गिराने की कोशिश करने वाले खुद मुहकी खाते हैं बाकि भगवान सच्चाई के साथ हैं

    Reply
  • दलाली चल रही है क्या…
    ब्लैकमेलिंग के लिए लड़कियों के शोषण की झूठी बात फैलाकर झूठी खबरों को आग की तरह फैलाया जा रहा है
    समाचार प्लस ही वो संस्थान है जहां पर काम करने वाली लड़कियां अपने आपको को पूरी तरह सुरक्षित पाती हैं यहां पर ईमानदारी से काम करने के बाद इज्जत से और गर्व से वो कहती हैं कि वो इस संस्थान की सदस्य हैं….
    इज्जत की नौकरी करके लड़कियों के चेहरे पर मुस्कान देखी नहीं जाती दलालों से जो चैनल के बारे में झूठी और घटिया बात बनाकर उसे खबर की तरह परोस रहे हैं
    लगता है कमाई का नया जरिया निकालने और सम्मानित संस्थान को बदनाम करने के लिए लड़कियों को बदनाम करने की झूठी खबर फैलाने का ठेका ले लिया गया है
    इससे कमाई नहीं होगी…
    सांच को आंच नहीं कभी भी नहीं…
    झूठ.. फरेब… ब्लैकमेलिंग से डर जाए ये वो संस्थान नहीं
    दलालों से कह दो औकात में रहें

    Reply
  • k. p. maurya says:

    यशवंत पागल हो गया लगता है मैं समाचार प्लस के साथ करीब 3 साल से जुड़ा हूं और इस झूठ की घोर निंदा करता हूं बस इतना कहना चाहता हूं भड़ास मीडिया और यशवंत के समूल नष्ट होने का समय आ गया है

    Reply
  • samachar plus dallali ka adda hone ke sath hi mahilao ko blackmail karta hain. pahle bhi kai mamle aa chuke hain. noida ho ya lucknow har office me ladkiyo ka shoshan kiya jata hain. suna to yah bhi jata hain ki malik umesh kumar ayyas kism ke bhi hain. kuch bhi ho paise walo par kaha padta hain kanoon ka danda

    Reply
  • समाचार प्लस के मालिक उमेश कुमार के बारे में जितना भी कहा जाये वह कम है9 कई मामलों में ब्लैकमेल कर समाचार प्लस धनउगाही करता है। चाहे वह रजनीगंधा का मामला हो या फिर कोई और। रही बात लडकियों का यौन शोषण करने का मामला या एमएमएस बनाना तो उमेश कुमार अयाश भी है। नोएडा हो या उत्तर प्रदेश या उत्तराखंड। हर जगह सिर्फ यह चैनल ब्लैकमेल करने का धंधा चलाता है।

    Reply
  • rakesh bhardwaj says:

    Yashwant gone mad. I am working with samachar plus since last 3 years. All please come and see here every single employee girl or boy, junior or senior, peon or waiter is given respect. Shame on you yashwant you are a DALAL, a BLACKMAILER not more than that. Truth is Truth

    Reply
  • मीडिया में मेरा तजुर्बा कोई ज्यादा खास नहीं है… समाचार प्लस ही वो जगह है जहां मैंने मीडिया का क ख ग सीखा है… तजुर्बा कम है तो इसका मतलब ये नहीं कि मुझे दुनिया की समझ नहीं है… समाचार प्लस जैसा सुरक्षित माहौल किसी महिला कर्मचारी को कहीं और नहीं मिल सकता… रही बात भड़ास वाले यशवंत की… तो जैसा की इनके पोर्टल का नाम है… अपनी किसी कुंठा को इ्न्होंने भड़ास के तौर पर आज निकाल दिया… और साबित कर दिया कि नाम चाहे यशवंत हो किसी का… लेकिन सोच दो कोढ़ी की भी हो सकती है…

    Reply
  • तन्वी says:

    समाचार प्लस की सभी महिला कर्मचारी इसलिए आवाज नहीं उठा पा रहीं क्योंकी उनको नौकरी जाने का डर है,,,

    Reply
  • संदीप सेठी says:

    चैनल असल में दलाली, और काले धन को सफ़ेद करने का अड्डा है। इस चैनल का मुख्य धंधा ब्लैकमेलिंग करके पैसा बनाना है। यहां चैनल की आड़ में तमाम तरह के गोरख धंधे होते हैं। कर्मचारी नाम मात्र की तनख्वाह पर काम कर रहे हैं। महिलाओं का जमकर शोषण होता है।12 घंटे तक बंधुआ मजदूर की तरह काम कराया जाता है।इस चैनल के मालिकों का ये पहला काण्ड नहीं है। सुर सुरा सुंदरी और सत्ता का गंदा धंधा यहाँ शुरू से चल रहा है। इज़्ज़त जाने डर से पीड़ित लडकियां चुप रहती आई हैं। यहां ईडी और सीबीआई का छापा पड़ने पर सारे सबूत और मीडिया का बहुत बड़ा स्कैंडल सामने आ सकता है। यशवंत को इस साहसिक रिपोर्ट को छापने के लिए बधाई।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code