सलमान रुश्दी ठीक कहता है… इस्लाम के दिल में कुछ खोट है (संदर्भ मेरठ गैंगरेप और धर्मपरिवर्तन कांड)

Samarendra Singh : ताज्जुब है. चारों तरफ खामोशी है. जैसे कुछ हुआ ही नहीं हो. कमाल की धर्मनिरपेक्षता है. गाजा में हुआ होता तो खबर बनती. सबका खून उबाल मारता. लेकिन मेरठ गाजा नहीं है. और जहां बलात्कार हुआ है वह मंदिर भी नहीं है. और जिसका बलात्कार हुआ और धर्म परिवर्तन कराया गया… वह मुसलमान नहीं है. इसलिए खबर नहीं है. कुछ साथी कह रहे हैं कि इस पर तीखी प्रतिक्रिया नहीं होनी चाहिए. यकीनन नहीं होनी चाहिए. लेकिन म्यांमार में और गाजा में और स्पेन में जो होता है उस पर यहां तीखी प्रतिक्रिया क्यों होती है?

इस्लाम को विक्टिम के तौर पर पेश क्यों किया जाता है? ऐसे मुल्क में जहां पहले से ही धार्मिक कट्टरता चरम पर हो, वहां दुनिया के दो मुल्कों के बीच की लड़ाई को धर्म विशेष से जोड़ कर पेश किया जाना और लहुलूहान जिस्म को प्रदर्शित करना कहां तक जायज है? और अगर वह सब जायज है तो मेरठ कांड पर तीखी प्रतिक्रिया क्यों नहीं दी जानी चाहिए? सलमान रुश्दी ठीक कहता है… इस्लाम के दिल में कुछ खोट है. अब इस खोट को दिल से बाहर निकालने की जिम्मेदारी तो इस्लाम के रहनुमाओं को ही उठानी पड़ेगी, वरना टकराव तो होगा ही.

एनडीटीवी समेत कई चैनलों-अखबारों में काम कर चुके पत्रकार समरेंद्र सिंह के फेसबुक वॉल से.

पूरे प्रकरण के बारे में एनडीटीवी डाट काम पर प्रकाशित लैटेस्ट खबर इस प्रकार है…

मेरठ में महिला से गैंगरेप और जबरन धर्मान्तरण के आरोपों के बाद क्षेत्र में तनाव

From NDTV India, (इनपुट्स भाषा से भी)

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक महिला को अगवाकर उसका धर्म परिवर्तन कराने और फिर गैंगरेप करने की खबर आज दिल्ली के सियासी गलियारों में भी गूंजी। वहीं मेरठ में भी इस मामले को लेकर तनाव है। इस महिला का दावा है कि वह अपहरणकर्ताओं की कैद से किसी तरह निकलकर भागी और वापस मेरठ अपने घर तक पहुंची। कैद में रखने के दौरान उसका एक ऑपरेशन भी किया गया। यह महिला इस समय अस्पताल में भर्ती है। पुलिस ने उसकी शिकायत पर एफआईआर दर्ज करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है हालांकि अपहरण का मुख्य आरोपी अब तक फरार है।

सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि वह इस मामले में सख्त कार्रवाई करेंगे। इस बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने इस मुद्दे को संसद में उठाने की बात कही, वहीं यूपी में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के नेता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि इस तरह की घटना को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता, लेकिन साथ ही इस पर राजनीति भी नहीं होनी चाहिए। उधर, इस घटना को लेकर यूपी सरकार ने खुफिया विभाग और प्रशासन को पूरी तरह से चौकन्ना रहने को कहा है। साथ ही पीएसी की एक कंपनी को मेरठ में तैनात किया जा रहा है।

युवती के साथ हुए सामूहिक बलात्कार और धर्म-परिवर्तन की घटना के बाद सोमवार रात मेरठ के खरखौदा और आसपास के क्षेत्रों में दोनों सम्प्रदायों के बीच घंटों तक पथराव होता रहा हालांकि पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) कैप्टन एमएस बेग का कहना है कि स्थिति अब नियंत्रण में है। हापुड़ के जिलाधिकारी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि घटना की मजिस्ट्रेटी जांच की जिम्मेदारी उपजिलाधिकारी एसपी सिंह को सौंपी गई है। वह एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपेंगे ।

मेरठ के जिलाधिकारी पंकज यादव ने बताया कि घटना के सिलसिले में मौलवी सलाउल्ला, उसकी पत्नी और बेटे को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि पीड़िता का बयान आज दर्ज किया जाना था लेकिन उसने आज ऐसा करने से मना कर दिया। उधर, घटनास्थल से लौटे कैप्टन बेग ने बताया कि इस पूरे मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में खरखौदा के थाना प्रभारी को लाइन हाजिर किया गया है। उन्होंने बताया कि पीड़िता की मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि पीड़िता के पिता ने खरखौदा थाना में ग्राम प्रधान नवाब खान, मौलवी सलाउल्ला, उसकी पत्नी और बेटे के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है। शिकायत में इन चारों पर पीड़िता का अपहरण करने और उसका बलात्कार करने का आरोप लगाया गया है।






भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code