Samruddha Jeevan Fraud : महेश किशन मोटेवार समेत तीन डायरेक्टरों की संपत्ति कुर्क करने के आदेश

लाइव इंडिया न्यूज चैनल संचालित करने वाली चिटफंड कंपनी समृद्धि जीवन के डायरेक्टरों महेश किशन मोटेवार, संतोष पायगोडे और राजेंद्र भंडारे की संपत्ति कुर्क करने के आदेश ग्वालियर की एक अदालत ने दिए हैं. इन तीनों डायरेक्टरों की संपत्ति कुर्क करने के आदेश रोकने को लेकर दाखिल याचिका को अदालत ने खारिज कर दिया है. तीनों के खिलाफ मजिस्ट्रेट कोर्ट से स्थायी गिरफ्तारी वारंट जारी हो चुके हैं.

शासकीय अधिवक्ता जगदीश प्रसाद शर्मा ने बताया कि समृद्धि जीवन चिटफंड कंपनी के डायरेक्टरों महेश मोटेवार, संतोष पायगोडे और राजेंद्र भंडारे के खिलाफ थाटीपुर थाने में जनता के साथ धोखाधड़ी किए जाने के आरोप में भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468 और 3/4 के तहत प्रकरण पंजीकृत किया गया है. लोगों को उनका धन कम समय में दुगना करने का लालच देकर पैसे वसूलने वाली इस कंपनी के तीनों डायरेक्टर एफआईआर दर्ज होने के बाद से ही फरार हैं. इन पर न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट द्वारा स्थायी गिरफ्तारी वारंट जारी करते हुए धारा 82/83 की कार्यवाही प्रारंभ कर दी गई है.

संबंधित खबरें…

चिटफंड कंपनी ‘समृद्ध जीवन’ से सावधान, इसका भी हाल पीएसीएल और शारधा घोटाले वाला होने वाला है!

xxx

Samruddha Jeevan Fraud : अब तो मान लीजिए ‘समृद्ध जीवन’ फ्रॉड चिटफंड कंपनी है, पढ़ें ये 30 पेज की सरकारी जांच रिपोर्ट

xxx

Sebi orders Samruddha Jeevan Foods India to repay investors money in 3 months

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “Samruddha Jeevan Fraud : महेश किशन मोटेवार समेत तीन डायरेक्टरों की संपत्ति कुर्क करने के आदेश

  • लाईव इंडिया टी.वी. में श्रमिकों का हो रहा बुरा हाल।
    बगैर कोर्ट जाऐं नहीं मिलता किसी को हिसाब।।

    शैलरी बढानें की चर्चाओं का रोज लगता बाजार
    ठण्डें बस्ते में पड़ जाती है पूरी-पूरी साल।।

    लाइव इंडिया के श्रमिकों का हो रहा बुरा हाल।
    रक्त दान का कुंभ लगाते सारी दुनियां में प्रचार कराते।।
    डॉ महेश किसन मोतेवार जी सुनो श्रमिकों की पुकार।।।
    रक्त दान का शिविर लगाया नेता-अभिनेता करते है प्रचार।।।

    प्रेस की आड़ में पफल-पफूल रहा चितपफंड का कारोबार।
    यहां श्रमिकों की नहीं सुनती केन्द्र, राज्य सरकार।।
    यहां के श्रमिक गये श्रम कार्यालय लेकर अपनी मांग।।।
    यहा के प्रंबध्न द्वारा कर दिया सभी को बहार।।।

    इस संस्था में नहीं है कोई वेज का प्रावधन।
    इस संस्था के सामने बोनी हो रही सरकार।।
    अपना रक्त वेच कर श्रमिक चला रहे परिवार।।
    न्युनतम वेतन के नाम पर नहीं है कोई विचार।।।

    लाईव इंडिया के श्रमिकों की पांच -छ वर्षो में बढ़ती है पगार।
    10-15 प्रतिशत बढ़ाने पर ही हो जाता है विचार।।
    रक्त दान के शिविर लगाते 26 सितम्बर को जन्म दिन मनाते।
    राजनेता अभिनेताओ को बुलाते, करते अपना नाम।।
    आपके सुरक्षा गार्ड है परेशान, उन पर भी तो कर लो ध्यान।।।

    आपकी संस्था में नहीं रहा समान, श्रमिक है परेशान।
    पचास-पचास कर्मचारियों को निकालकर कर दिया सभी को बेरोजगार।।
    शासन प्रशासन में आपकी है जान पहिचान।।।
    लाईव इंडियों के श्रमिकों का क्या होगा भगवान।।।।

    लाईव इंडिया के श्रमिक दे रहे आपको बदूआऐं।
    इन श्रमिकों की हाय को मत समझों अपफवाऐ।।
    श्रमिकों की हाय से हो जाते है बरबाद।।।
    श्रमिकों की दुवाओं से ही होगे तुम आबाद।।।।

    विनोद कुमार
    9873078323

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *