अमिताभ बच्चन की असल ज़िंदगी में भी ठगी की कोई कमी नहीं… सुनिए बिलकुल नई कहानी

Anil Singh अमिताभ बच्चन की बिनानी सीमेंट ‘सदियों’ के बजाय साल में निपट गई! जिधर भी देखो, अपने यहां ठग ही ठग भरे पड़े हैं। निराला ने दशकों से पहले लिखा था– खुला भेद विजयी कहाए हुए जो / लहू दूसरों का पिए जा रहे हैं। इसी हफ्ते आई फिल्म ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ में अमिताभ …

मोतीलाल ओसवाल सिक्यूरिटीज के जरिए शेयर बाजार में जाएंगे तो लुट जाएंगे, पढ़िए इनका फ्रॉड

यह किस्सा मेरे एक नजदीकी मित्र के साथ ही घटा है. इस किस्से की शुरुआत किसी आम मार्केटिंग कॉल से होती है जो आपके हमारे पास सबके पास रोज आती है. 2010 की शुरुआत में किसी एक दिन यह कॉल मुंबई के नरेश बौंठियाल के पास भी आई. कॉल से सुमधुर आवाज में पूछा गया …

खुद को आईपीएस और तांत्रिक बताने वाले इस ठग से सावधान रहिये!

Yashwant Singh :  इस लड़की को सलाम. दिल्ली चिरकुटों की नगरी है. मोबाइल हाथ में है तो बस वीडियो बनाना है. कोई कनसर्न नहीं. देखिए, कैसे ये लड़की वीडियो बनाती एक भीड़ से घिरे होकर भी छेड़खानी करने वाले को हैंडल करती है और साथ ही उसका कालर पकड़ कर पुलिस को फोन करती है, उस छिछोरे के एक साथी को गरियाकर भगाती है… सैल्यूट यार.

डीएम साब को गुस्सा आया और जेल चले गए कई फर्जी टाइप पत्रकार! देखें वीडियो

यूपी के रायबरेली में एक मजेदार वाकया हुआ है. समाधान दिवस का अवसर था. जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री और पुलिस अधीक्षक सुजाता सिंह मौके पर थीं. जनता रास्ते में थी. तभी एक कार से पांच छह फर्जी टाइप पत्रकार उतरे और लगे कैमरा चलाने-हिलाने. डीएम साब को गुस्सा आया. डीएम साहब ने इन पत्रकार टाइप …

अगर नौकरी देने से पहले कोई पैसे मांगे तो समझिए वो फ्रॉड है

मैं खुद कई बार फंस चुका हूं. उसके बाद से मुझे कई दोस्तों ने बताया कि उनके साथ भी ऐसा हुआ. हाल ही में मेरे भाई से भी 44000 रुपए मांगे गए लेकिन उसने मना कर दिया. अभी मैं मुंबई शिफ्ट हो गया हूं और यहां भी ये धंधा धड़ल्ले से चल रहा है. उन्ही …

सहारा इंडिया अपने एजेंटों, फील्ड वर्करों और मोटीवेटरों को अपना कर्मचारी नहीं मानता!

सहारा इंडिया के चेयरमैन सुब्रत रॉय एक बड़ी खबर सहारा इंडिया कंपनी से आ रही है. कंपने कोर्ट में यह लिखकर दे दिया है कि उसका अपने कमीशन एजेंटों, फील्ड वर्करों और मोटीवेटरों से कोई संबंध नहीं है. कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अखबार को चूना लगाने वाले फुरकान और इकबाल के खिलाफ सम्मन जारी

दैनिक भास्कर अखबार की फर्जी कॉपी व फर्जी बिल बुक छापकर लाखो रुपये हड़पने वाले नटवरलाल फुरकान मलिक व इकबाल अहमद के खिलाफ सम्मन जारी हो गया है. इन्हें इसी बारह अप्रैल तक अदालत में सरेंडर करना है. इन दोनों के खिलाफ बिजनौर के नजीबाबाद थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था. कृपया हमें अनुसरण …

पत्रकार बन कर नकली तेल बेचने वाले कारोबारी से हर माह करते थे लाखों की वसूली

आजकल गलत काम करने वालों से कुछ लोग पत्रकार बनकर जमकर वसूली करते हैं और गलत काम करने वाला मजबूरी में कुछ बोल भी नहीं पाता है. आगरा में एक ऐसे ही मामले का भंडा़फोड़ हुआ है जिसमें करीब दस लोग पत्रकार बनकर हर महीने नकली खाद्य तेल बेचने वाले एक कारोबारी से लाखों रुपये वसूलते थे. न देने पर कैमरा लेकर आते और रिकार्डिंग करने लग जाते. फिर धमकी देते कि वह शासन प्रशासन को दिखाकर नकली तेल के कारबोरा की पोल खोल देंगे. इससे डरा कारोबारी उन्हें मुंहमांगी रकम दे देता.

बैंक वाले, सीबीआई और सिस्टम की कृपा से एक और छोटा-मोटा विजय माल्या जनता का धन हड़पने को तत्पर, जानिए पूरी कहानी

To,
THE EDITOR-IN-CHIEF
Bhadas4Media
India

SUBJECT : SCAM/ECONOMIC OFFENCE IN LOAN DEPARTMENT BY CONSORTIUM BANK AGAINST THE LOAN ACCOUNT OF SHREE SHYAM PULP & BOARD MILLS LIMITED

Respected Sir,

A company namely Shree Shyam Pulp & Board Mills Limited having its manufacturing plant in Kashipur (Uttarakhand) (here-in-after SSPBML) was established by Mr. Naresh Kumar Gupta and presently running by Mr. Naresh Kumar Gupta and his son Amit Kumar alias Amit Gupta. SSPBML is engaged in manufacturing of various kinds of writing and printing papers as well as cardboards, copier and other papers. During their regular course of business, SSPBML applied for loan before the consortium of bank; led by UCO Bank, 5 Sansad Marg, New Delhi, with the heading to EXPAND THEIR PLANT and on this ground the bank passed their loan application and passed their loan without the complete verification of their papers. It is pertinent to mention here that the loan which was granted is of more than Rs. 700 Crores (Seven Hundred Crores Only) but the complete worth of machines are not more than Rs. 200 crore (Rupees Two Hundred Crores) and therefore the disbursed amount is much more than the worth value of the machines.

dealzkart नामक धोखेबाज आनलाइन कंपनी से कोई सामान न खरीदिएगा!

Yashwant Singh : पिछले दिनों फेसबुक पर एक विज्ञापन देखा. 998 रुपये में सैमसंग पावर बैंक (25000MAH का) और साथ में सोनी का एक MDR-ZX110A Headphones फ्री. मुझे इन दोनों की जरूरत थी. नाम ब्रांडेड. दाम बेहद कम. फौरन क्लिक कर आनलाइन प्रासेस पूरा किया. जब ये हाथ में आया तो तीसरे दिन तक पता चल गया कि हम लोग बुरी तरह ठगे जा चुके हैं. पावर बैंक पर कहीं सैमसंग नहीं लिखा था. कोई बेहद लोकल और घटिया माल था. आधे घंटे में पावर बैंक दम तोड़ देता था.

महिला पत्रकार और बीएसएफ इंस्पेक्टर को भी चूना लगा चुका है ठग पत्रकार राजीव शर्मा!

न्यूज24 का 420 नंबरी चीटर (पार्ट-2) : राजीव शर्मा प्रोफेशनल बेगर और चीटर है. इसने दर्जनों लोगों के पैसे मारे हैं. इंदौर से लेकर इलाहाबाद तक में इससे पीड़ित लोग हैं. फिलहाल एक नई पीड़िता सामने आई हैं. ये महिला पत्रकार हैं. नाम है अंजलि सैनी. अंजलि की एक बहन और एक भाई दिल्ली में वकील हैं. अंजलि का कहना है कि राजीव शर्मा बहुत बड़ा चीटर है. उसने पचास हजार रुपये ले लिए और घर का सामान भी ले गया.

पत्रकारिता के इस ‘प्रोफेशनल बेगर’ को पहचान लीजिए

Yashwant Singh : ये सज्जन न्यूज़24 के डिजिटल में नौकरी करते हैं। जब बेरोजगार थे तो मकान किराया चुकता करने के लिए पैसे मांगते थे। खुद तो देता ही था, दूसरों से भी दिलवाता था। Prasoon Shukla और Sheetal P Singh जी से भी दिलवाए। मैंने एटीएम कार्ड तक दे दिया था, ये कह कर कि ज़रूरत के हिसाब से निकाल लिया करो। हां, ये क्लीयर कर दिया था, उधार दे रहा हूँ, नौकरी मिलते ही लौटा देना।

https://3.bp.blogspot.com/-TzPkFjA_bDs/WZCROwSUabI/AAAAAAAAMVc/v_hh7I1dIpMM41ClEDErnVRJS2FDNYDIACLcBGAs/s1600/20776424_1469189739832761_1286747278155380000_o.jpg

जुझारू पत्रकार के संघर्ष के चलते ट्रैफिक पुलिस की मिलीभगत से ठगी करने वालों पर दर्ज हो सका मुकदमा

ढाई साल पहले घटी एक घटना ने मुझे बेहद आघात पहुंचाया था। शहर के यातायात चौराहे पर यातायात पुलिस बूथ में बैठे वृन्दावन महिला कल्याण समिति के कर्मचारी ने आपके साथी से 80 रुपये लेकर उसे फर्जी ग्रीन कार्ड पकड़ा दिया। यह फ्राड हुआ तो हजारों के साथ लेकिन बात मुझे खल गई। इतनी पढ़ाई लिखाई करने और पत्रकार होने का क्या मतलब, अगर कोई बीच चौराहे पर आपको पुलिस की संरक्षण में ठग ले। मैंने हास, परिहास और उपहास की परवाह किये बिना इस ठगहाई के खिलाफ लड़ने की ठान ली। मेरे दोस्तों, मीडिया के कुछ साथियों, कई अपने लोगों और यहां तक की यातायात पुलिस ने भी मुझे समझाने का प्रयास किया लेकिन मैंने सिर्फ अपने दिल की सुनी।

स्टार इंडिया के सीईओ उदय शंकर समेत दस के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा

Star India CEO Uday Shankar (File Photo)

NSTPL v. Star India Pvt. Ltd. & Ors

Hon’ble Court of Chief Metropolitan Magistrate, Patiala House, New Delhi, has order FIR to be registered against broadcaster Star India, Uday Shankar and 9 other senior officers of Star for cheating under Section 418 and 420 of IPC.

फर्जी ब्रांड ikall से सावधान… खराब प्रोडक्ट्स भेजकर ग्राहकों से कर रही है ठगी

इंडियन कम्पनी iball से मिलते जुलते नाम वाली एक कम्पनी ikall ऑनलाइन मार्केट के जरिये लोगों से ठगी कर रही है। आपको बता दें कि यह कम्पनी दूसरे कॉमन प्रोडक्ट्स को अपना बताकर यानी पैकेजिंग में ikall वाला हॉलमार्क लगाकर कई गुना दामों पर बेच रही है। इसके लिए यह homeshop18 और इस जैसी अन्य ऑनलाइन सेलिंग वेबसाइट्स की मदद ले रही है।

वास्तु विहार घोटाला (5) : भाजपा सांसद मनोज तिवारी के अलावा शशिकांत चौधरी और विनय तिवारी पर भी गबन का मुकदमा

आज कई अखबारों और वेबसाइटों पर वास्तु विहार घोटाले को लेकर मुकदमा दर्ज किए जाने की खबर है. दरभंगा में भाजपा सांसद और दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के अलावा इस घोटाले में जिन दो अन्य लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी व गबन का मुकदमा दर्ज किया गया है, उनके नाम हैं- शशिकांत चौधरी (कार्यपालक निदेशक बिल्डर वास्तु बिहार मेसर्स दरभंगा) और विनय कुमार तिवारी उर्फ विजय कुमार तिवारी (महाप्रबंधक, वास्तु विहार बी2, ग्रेंड चंद्रा अपार्टमेंट, फ्रेजर रोड, पटना)। इनके विरुद्ध आपराधिक षडयंत्र, ठगी, धोखाधड़ी कर राशि गबन का मामला मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में दर्ज कराया गया.

Vastu Vihar Scam (4) : पटना में भी भाजपा सांसद मनोज तिवारी के खिलाफ दर्ज हो चुकी है एफआईआर

वास्तु विहार घोटाले में अलग-अलग जगहों पर मुकदमों का क्रम साल भर पहले से शुरू हो गया लेकिन इस घोटाले पर मीडिया वाले रहस्यमय चुप्पी साधे हुए हैं. इस स्कैम का सबसे पहले भड़ास ने खुलासा किया. किसी भी मुख्यधारा के अखबार और चैनल ने वास्तु विहार घाटाले पर एक लाइन नहीं छापा न दिखाया. ऐसा माना जा रहा है कि मीडिया वाले भाजपा के शीर्ष नेताओं और केंद्र-राज्य की सरकारों के दबाव / प्रलोभन के कारण मनोज तिवारी के खिलाफ कुछ नहीं छाप रहे हैं. मनोज तिवारी की जगह अगर यही आरोप आम आदमी पार्टी के किसी नेता पर लगा होता तो सारे चैनल पूरे दिन इसी घोटाले के गड़े मुर्दे खोदते रहते. इसे ही कहते हैं मीडिया का नंगा और दोगला चेहरा.

Vastu Vihar Scam (3) : भाजपा सांसद मनोज तिवारी के खिलाफ फ्राड और चीटिंग का केस दर्ज

वाराणसी : जनता के अरबों रुपये लेकर चंपत होने वाली कंपनी वास्तु विहार के ब्रांड अंबेसडर रहे मनोज तिवारी, जो सांसद तो हैं ही, भाजपा दिल्ली के अध्यक्ष भी हैं, के खिलाफ फ्रॉड और चीटिंग का केस दर्ज कर लिया गया है. यह केस एक पीड़ित उपभोक्ता ने बिहार के दरभंगा जिले में दर्ज कराया है.

नापतोल.कॉम के फर्जी मैनेजर ने वरिष्ठ पत्रकार श्रीकांत अस्थाना की पत्नी को ठगने की कोशिश की

Shrikant Asthana : वेब खरीददारी भी आपको ठगों के जाल में फंसा सकती है। विभिन्न साइटों पर खरीदारी करने में दिया गया फोन नंबर ठगी के रैकेटों के हाथ पड़ जाते हैं और वे आपको फोन करके बताते हैं कि आपका यह इनाम निकला है। इसे हासिल करने के लिए आप अमुक खाते में इतनी रकम जमा करायें तो ईनाम आपको भेजा जाए। ऐसे ही एक ठग ने आज सुबह श्रीमती सुष्मिता को नापतोल.कॉम का मैनेजर बताते हुए किया।

Vastu Vihar Scam (2) : ठगी का यह कारोबार भाजपा सांसद मनोज तिवारी के संरक्षण में फला-फूला!

वाराणसी : भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी के नाम पर वास्तु विहार कंस्ट्रक्शन कंपनी लगातार ठगी का खेल जनता के साथ खेल रही है… लोग मनोज तिवारी का चेहरा देखकर फंस रहे हैं और ठग कंपनी मालामाल होती जा रही है.. आपको बता दें उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड समेत देश के कई हिस्सों में इस ठग कंपनी ने अपना जाल बिछा रखा है और लगातार भोले भाले लोगों को शिकार बनाया जा रहा है.

Vastu Vihar Scam (1) : भाजपा सांसद मनोज तिवारी के ‘संरक्षण’ में एक ठग कंपनी ने जनता से की अरबों की लूट

Yashwant Singh : बीजेपी दिल्ली के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने किस तरह अपने खास लोगों को वास्तुविहार कंस्ट्रक्शन कंपनी के जरिए जनता को लूटने की छूट दी, किस तरह वे लूट के इस खेल में अप्रत्यक्ष तौर पर शामिल रहे, इसका खुलासा जल्द भड़ास पर होगा. मनोज तिवारी द्वारा ‘संरक्षित’ वास्तुविहार कंस्ट्रक्शन कंपनी के जाल में लोग मनोज तिवारी का चेहरा देखकर फंस रहे हैं और ठग कंपनी मालामाल होती जा रही है.

Cheating and harassment by travel agent in delhi

Dear Sir,

My name is Charanjeet Singh resident of New Delhi. I had applied for Canada Permanent Residency from Aptech Global Immigration Services Pvt Ltd. In New Delhi on 9th May 2016. Aptech Global Immigration Services Pvt Ltd. Address (408, 4th Floor, Westend Mall, Janakpuri West, New Delhi-110058).

Mr. Aman mobile number: 7503832132
Landline: 011-46254693

पीटीआई यूनियन लीडर एमएस यादव की कारस्तानी : फेडरेशन की एक करोड़ की संपत्ति बेटे को सौंपा!

देश की जानी मानी न्यूज़ एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया की फेडरेशन ऑफ़ पीटीआई एम्प्लाइज यूनियंस के महासचिव महाबीर सिंह यादव पर कई गंभीर किस्म के आरोप लगे हैं. महाबीर सिंह यादव उर्फ एमएस यादव की मनमानी के कई किस्से सामने आ रहे हैं. लगभग एक करोड़ रूपये से अधिक कीमत की फेडरेशन की प्रॉपर्टी को इन महाशय ने गलत तरीके से अपने बेटे के नाम पर करा दिया. एमएस यादव की हरकतों से पीटीआई इंप्लाइज फेडरेशन का अस्तित्व खतरे में है.

लखनवी ठग मैक मलिक मोहम्मद की कारस्तानी थाईलैंड में गूंज रही (देखें वीडियो)

आरोपी मैक मलिक की तस्वीर पर ठगी की कहानी को लिखकर भड़ास के पास भेजा है पीड़ित प्रणव ने.

मैक मलिक मोहम्मद नामक लखनऊ का एक ठग थाईलैंड में ऐसा कुछ कर भागा है कि वहां के लोग उसकी ठगी की कहानी सुनाते फिर रहे हैं. प्रणव नामक एक युवक और उनकी टीम को थाईलैंड में मिस इंडिया और मिस्टर इंडिया कंपटीशन कराने का जिम्मा दिया गया. यह काम सौंपा मैक मलिक मोहम्मद ने. इवेंट खत्म होने पर प्रणव और उसकी टीम के हिस्से का पैसा हड़प कर मैक मलिक मोहम्मद भाग गया. प्रणव के पास ढेर सारे चैट, स्क्रीनशाट आदि हैं जिससे साबित होता है कि उनका बकाया दिए बगैर मिस इंडिया और मिस्टर इंडिया कंपटीशन से मिले अच्छे खासे पैसे को लेकर मैक मलिक भाग गया.

संपादक पर ठगी के विज्ञापन का दायित्व क्यों न हो?

Vishnu Rajgadia : संपादक पर ठगी के विज्ञापन का दायित्व क्यों न हो? किसी राज्य में भूख से किसी एक इंसान की मौत होने पर राज्य के मुख्य सचिव को जवाबदेह माना गया है। जबकि मुख्य सचिव का इसमें कोई प्रत्यक्ष दोष नहीं। लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने सीधे मुख्य सचिव पर दायित्व सौंपा है ताकि राज्य की मशीनरी दुरुस्त रहे।

TH TIGER HOLIDAYS वालों की इस नोटिस से कौन डरेगा!

Sanjaya Kumar Singh : इन्हें अंग्रेजी तो नहीं ही आती है, हिन्दी आती होती तो हिन्दी में ही लिखते! अगर आप किसी को कोई सेवा प्राप्त करने के लिए पैसे दें और बाद में महसूस करें कि आपको सेवा ठीक नहीं मिली, ठग लिया गया और यह भी कि आप किसी ठग या चोर कंपनी के चक्कर में फंस गए थे तो क्या करेंगे? मेरे ख्याल से सबसे पहले यही कोशिश करेंगे कि अपने सभी मित्रों-परिचितों को बताएंगे कि फलां कंपनी ठीक नहीं है, पैसे लेकर पूरी सेवा नहीं देती है, मैं ठगा जा चुका हूं आदि।

T H Tiger Holidays से सावधान! इस Fraud Holiday Tour Operator Company ने कइयों को लूटा

Santosh Singh : दोस्तों, हमे आपकी मदद की जरूरत है. एक कम्पनी T H Tiger Holidays नाम की है. इसकी वेबसाइट THTigerHolidays.com नाम से है. कहने को तो यह कम्पनी एक हॉलिडे टूर ऑपरेटर कम्पनी है पर जैसा इन लोगों ने मेरे साथ किया है, इसे फ्रॉड कम्पनी कहना ज्यादा ठीक रहेगा. अपने नार्थ-ईस्ट टूर के लिए कानपूर से गुवाहाटी जाने और आने का टिकट तो मैंने खुद बुक किये थे पर वहां 11 दिनों के लिए मैं अपने और अपने परिवार के रहने और घूमने के लिए होटल तथा टैक्सी किराया के पैसे इस कम्पनी को दिए थे. इस कम्पनी ने पैसे तो ले लिए (बैंक-ट्रांसफर का प्रूफ मेरे पास मौजूद है) पर सर्विसेज नही दी.

सावधान… RBI अधिकारी बनकर बैंक डिटेल मांग रहे ठग

3 जनवरी दोपहर के 3 बजे, मेरे नम्बर पर 07371008871 से कॉल आया। चूंकि मैं अननोन नम्बर रिसीव नहीं करता लेकिन ट्रू कॉलर पर नम्बर की डिटेल “चूतया” नाम से शो होता देख मेरा इंट्रेस्ट जागा। मुझे अच्छी तरह पता है कि फर्जी कॉल करके लोगों से ठगी करने वाले ऐसे नम्बरों का इस्तेमाल करते हैं। इसलिये मैंने कॉल रिसीव किया और जो हमारी बातचीत हुई उसके अंश पढ़िये…

अपोलो म्युनिक हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी की धोखाधड़ी से सावधान रहें, सुनिए एक पीड़ित की कहानी

Story of Apollo Munich Fraud and Cheating :  मैं यानि गौरव सिंघल अपने और अपने परिवार के लिये अपोलो म्युनिक हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी ( एड्रेस- थर्ड फ्लोर n /23 सैक्टर 18 नॉएडा) से एक स्वास्थ्य बीमा पालिसी (नंबर 6000042476) 3 अगस्त वर्ष 2012 को ली थी. इसको मैं हर साल कंपनी द्वारा मांगी गयी प्रीमियम के अनुसार रिन्यू कराता रहा. इस बीमा में आज तक कभी कोई क्लेम नहीं लिया गया. वर्ष 2015 मे कंपनी द्वारा ज्यादा पैसे की मांग करने पर मैंने ये कहते हुये भुगतान कर दिया कि बढ़ी हुयी कीमत कम से कम तीन माह पहले बताई जानी चाहिये थी. इस पर कंपनी ने IRDA का हवाला देते हुये कहा कि हमने IRDA से अप्रूवल ले लिया है.

एमपी में जिन लोगों ने भूखंड प्राप्त किए उनमें नवभारत, दैनिक जागरण, नईदुनिया और दैनिक स्वदेश के मालिक भी हैं!

अनिल जैन

Anil Jain : मध्य प्रदेश यानी ‘व्यापमं प्रदेश’ की सरकार ने पत्रकारों के नाम पर करीब तीन सौ लोगों को भोपाल में अत्यंत सस्ती दरों पर आवासीय भूखंड आबंटित किए है। सार्वजनिक हुई लाभार्थियों की सूची में सुपात्र भी हैं और वे कुपात्र भी जो बेशर्मी के साथ पत्रकारिता के नाम पर सत्ता की दलाली में लगे हुए हैं। बहरहाल, यह खबर कतई चौंकाती नहीं है बल्कि इस बात की तसदीक करती है मध्य प्रदेश में सत्ता और पत्रकारिता का आपराधिक गठजोड न सिर्फ कायम है बल्कि निरंतर फल-फूल रहा है।