शहीद दिवस के बहाने ‘भगत, गांधी, अंबेडकर और जिन्ना’ पर सुमंत भट्टाचार्य ने छेड़ी गंभीर बहस

‘एक भी दलित चिंतक ने भगत की शहादत को याद नहीं किया’, अपने इन शब्दों के साथ शहीद दिवस के बहाने संक्षिप्ततः अपनी बात रखकर वरिष्ठ पत्रकार सुमंत भट्टाचार्य ने फेसबुक पर ‘भगत, गांधी, अंबेडकर और जिन्ना’ संदर्भित एक गंभीर बहस को मुखर कर दिया। भगत सिंह की शहादत को याद न करने के उल्लेख के साथ उन्होंने लिखा- ”गोडसे को तब भी माफ किया जा सकता है..क्योंकि गांधी संभवतः अपनी पारी खेल चुके थे। पर गांधी को इस बिंदु पर माफ करना भारत के साथ अन्याय होगा। भगत सिंह पर उनकी चुप्पी ने नियति का काम आसान कर दिया, ताकि नियति भारत के भावी नायक को भारत से छीन ले। यहीं आकर मैं गांधी के प्रति दुराग्रह से भर उठता हूं। पर जिन्नाह और अंबेडकर तो हिंसावादी थे..एक मुंबई में गोलबंद होकर मारपीट करते थे, दूसरे डायरेक्ट एक्शन के प्रवर्तक। इनकी चुप्पी पर भी सवाल उठने चाहिए। शाम तक इंतजार के बाद अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है, एक भी दलित चिंतक ने भगत की शहादत को याद नहीं किया…..क्यों..?”

इसके जवाब में ब्रजभूषण प्रसाद सिन्हा ने लिखा कि ‘बिल्कुल सही सोच है आपकी जैसा कि मैंने पढ़ा है। अगर गांधी चाहते तो भगत सिंह को बचा सकते थे पर उन्होंने उन्हें आतंकवादी करार देते हुए बचाने से मना कर दिया और गांधी बहुतों के चित्त से उतर गए। गाँधीवादी मित्र क्षमा करेंगे। गांधी ने नेहरू को गद्दी सौंप कर मेरे नजरिये में सबसे बड़ी गलती की। अगर पटेल जैसा कि अधिकांश मेम्बरों की चाहत थी, को बनाया होता तो आज जो देश की जो दुर्दशा है, वह नहीं होती।’ मनीष शुक्ला का मानना था – ‘गांधी ने हमेशा नेहरू के रास्ते के कांटे साफ़ किये, अब अन्ना अपनी आखिरी पारी में नया गांधी बनने की राह पर हैं ।’ 

वरुण कुमार जायसवाल ने लिखा – ‘कुछ भी लिखने से पहले ये स्पष्ट कर देना चाहूँगा कि भगत सिंह की शहादत के प्रति मन में असीम सम्मान और श्रद्धा है. मुझे ऐसा लगता है कि यदि भगत सिंह को अपनी पारी खेलने का मौका मिलता तो वो पारी कैसी होती ? भगत सिंह स्पष्ट रूप से मार्क्सवाद से प्रभवित थे और उनका रुझान लिबरेशन की यूटोपियन समाज व्यवस्था की तरफ था जो 1931 के आगे की दुनिया में न सिर्फ़ ख़ूनी सिद्ध हुई बल्कि पूरी दुनिया को खतरे में डालने से पीछे भी न हटी. भगत सिंह की आड़ लेकर तो ऐसी ताकतों (कम्युनिस्ट) का सत्तारूढ़ होना संभव भी था क्योंकि तब संभवतया इसमें राष्ट्रवाद और देशभक्ति का फ्लेवर जुड़ चुका होता लेकिन आत्मा तो वाम ही रहती. क्या 1992 के बाद भारत की दशा भी पूर्वी यूरोप के सेटेलाइट मुल्कों जैसा ना हो जाता. भगत सिंह जिस राज्य की परिकल्पना में जीते थे वो हममें से अधिकांश को डरा देने के लिए काफी है.’ 

आर के गोपाल ने लिखा कि ‘गांधी पारी खेल चुके थे? मतलब आजादी गाँधी ने दिलवायी…  फिर अच्छा विश्लेषण है!’ इस टिप्पणी के जवाब में सुमंत भट्टाचार्य ने लिखा कि ‘मेरा आशय उम्र से है..गांधी भारत को वो दे चुके थे जो देना चाह रहे ते..जिस वक्त गांधी गए, कांग्रेस उनको खारिज कर रही थी। भगत सिंह 23 साल की उम्र में गए..वो गांधी के भारत के समानांतर उस भारत की आवाज बन रहे थे जिसे कांग्रेस आवाज नहीं दे रहा था। फिर यह मेरा निजी नजरिया है, आपको अपनी बात रखने का पूरा हक है। मेरी असहमति का बिंदु गांधी की खामोशी है।’ 

हिमांशु कुमार घिल्डियाल की टिप्पणी थी – ‘अहिंसा के पुजारी ने द्वितीय विश्व युद्ध में भारतीयों को अंग्रजों का साथ देने को कहा था। युद्ध में गोलियों की बरसात होती है या लाशों की?’ पुष्कर भट्ट ने लिखा – ‘गांधी जी के अहिंसा सिद्धांत का प्रतिफल 1947 में दिख गया था.. बंटवारे के बाद की मार काट.. अहिंसा के पेड़ पर लगे हिंसा के फल..।’ सुमन वर्मा का कहना था कि ‘इतने वर्षों बाद ही सही, आज उनको सारा देश याद तो कर रहा है शहीद के रूप में।’

अपनी प्रतिटिप्पणी में शरद श्रीवास्तव लिखते हैं- ‘गांधी जी के नेतृत्व को असली चुनौती भगत सिंह से नहीं, लेफ्ट से थी, कांग्रेस में सुभाष बाबू और नेहरू जी से थी। सन 31 से पहले मेरठ मे कम्युनिस्टों पर मुक़द्दमा चला था, जिसमें उन्हे देश द्रोह के लिए सजा सुनाई गयी थी। अगर गांधी जी को कोसना है तो उन क्षणों के लिए पहले कोसिए जब भगत सिंह भूख हड़ताल पर थे, और उसी में जतिन दास की मृत्यु हो गयी थी। सुनते हैं जतिन दास का शव जब कलकत्ता लाया गया था, तब उनके अंतिम संस्कार मे भाग लेने 6 लाख लोग जुटे थे। जतिन बाबू की मौत पर वो भी अनशन से हुई मौत पर कांग्रेस और गांधी जी का क्या रोल था। ये तो अहिंसा के लिए हुई मौत थी। कांग्रेस ने इसे रोकने का कोई उपाय किया या नहीं या अपनी चुप्पी बनाए रखी।’

तेजेंद्र सिंह का कहना था कि गाँधी जी की ये सोच केवल भगत सिंह के लिए नहीं थी, उन्होंने सुभाष चन्द्र बोस के कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर भी यही रवैया अपनाया था। अंततः बोस ने त्यागपत्र दे दिया था। शिखा गुप्ता का मानना है कि गाँधी जी के बहुत से कृत्य ऐसे हैं जिन पर प्रश्न उठने चाहिए और चर्चा होनी चाहिए। रीता सिन्हा ने लिखा – ‘भगत सिंह और सु.चन्द्र.वोस की कसक बनी रहती है। आपसे सहमत हूँ।’

पुष्प जैन ने तो ‘बापू की हजामत और पुन्नीलाल का उस्तरा’ शीर्षक से मधु धामा लिखित पुस्तक का सचित्र एक अंश ही प्रस्तुत कर दिया कुछ इस तरह…. ‘‘बापू कल मैंने हरिजन पढा।’’ पुन्नीलाल ने गांधीजी की हजामत बनाते हुए कहा। ‘‘क्या शिक्षा ली!’’ ‘‘माफ करें तो कह दूं।’’ ‘‘ठीक है माफ किया!’’ ‘‘जी चाहता है गर्दन पर उस्तरा चला दूं।’’ ‘‘क्या बकते हो?’’ ‘‘बापू आपकी नहीं, बकरी की!’’ ‘‘मतलब!’’ ‘‘वह मेरा हरिजन अखबार खा गई, उसमें कितनी सुंदर बात आपने लिखी थी।’’ ‘‘भई कौनसे अंक की बात है।’’ ‘‘बापू आपने लिखा था कि छल से बाली का वध करने वाले राम को भगवान तो क्या मैं इनसान भी मानने को तैयार नहीं हूं और आगे लिखा था सत्यार्थ प्रकाश जैसी घटिया पुस्तक पर बैन होना चाहिए, ऐसे ही जैसे शिवा बावनी पर लगवा दिया है मैंने।’’ आंखें लाल हो गई थी पुन्नीलाल की। ‘‘तो क्या बकरी को यह बात बुरी लगी।’’ ‘‘नहीं बापू अगले पन्ने पर लिखा था सभी हिन्दुओं को घर में कुरान रखनी चाहिए, बकरी तो इसलिए अखबार खा गई। हिन्दू की बकरी थी ना, सोचा हिन्दू के घर में कुरान होगी तो कहीं मेरी संतान को ये हिन्दू भी बकरीद के मौके पर काट कर न खा जाएं।’’ अंत में उन्होंने ये नोट भी लिख दिया कि कोई आपत्ति करने का साहस न करें, मूल पुस्तक में गांधी जी की टिप्पणी के मूल प्रमाण दिए गए हैं।

प्रियदर्शन शास्त्री ने लिखा – ‘सुमन्त भाई ! गोडसे को कैसे माफ कर सकते हैं ? रावण भी बहुत गुणी था शायद गोडसे भी परन्तु उनके कृत्यों से उन्हें क़तई माफ नहीं किया जा सकता …. माना कि भगतसिंह, सुखदेव एवं राजगुरु की शहादत आजादी की लड़ाई की एक महान घटना है परन्तु हम उन सबको क्यों भूल जाते हैं जो ऑफ द रिकॉर्ड थे….. कुछ लोग महात्मा गाँधी की आलोचना इस तरह करते हैं जैसे क्रिकेट की कर रहे हों ….. जैसे उन्होने सम्पूर्ण गाँधी को समझ लिया हो …. हम ये भूल जाते हैं कि जिस शख़्स ने भी आजादी की लड़ाई लड़ी है वो उन अंग्रेजों के विरुद्ध लड़ी है जिनका पूरे विश्व के एक चौथाई भाग पर राज था …. मुझे नहीं लगता कि वर्तमान पीढ़ी में दुबारा से आज़ादी की लड़ाई लड़ने का माद्दा है । यहाँ वर्तमान आलोचकों का ये हाल है कि अंग्रेजों की तो छोड़ो शहर के भ्रष्ट विधायक या सांसद के विरुद्ध तो आवाज़ तक नहीं निकलती … और बात करते हैं महात्मा गाँधी की।’

जयप्रकाश त्रिपाठी ने लिखा – ‘अलग से मुस्लिम मोरचा, अलग से दलित मोरचा, अलग से स्त्री मोरचा, आजादी के आंदोलन के समय से या बाद में इस तरह की सारी कवायदें पूंजीवादी-साम्राज्यवादी मोरचे पर जन-एकजुटता कमजोर करने के लिए ही तो जारी हैं। हमारे एक सुपरिचित दलित-एनजीओ चिंतक महोदय तो कूद कूद कर नेपाल तक हो आते हैं, वहां के दलितों को ये बताने के लिए कि तुम्हारा मोरचा दूसरा है। और बीच बीच में महीनो के लिए रहस्यमय तरीके से लापता हो जाते हैं। कोई बता रहा था कि लापता होने के दिनो में वे अपने अर्थगुरुओं से दीक्षित होने विदेश भाग जाते हैं, वहां पता नहीं क्या क्या करके लौटते हैं। मैंने ज्यादातर दलित-चिंतक महोदयों को इसी रूप में देखा है। अमीर दलित और गरीब दलित …. हाहाहाहा। एक बात और, कुछ बातें हमारे उन भारतीय पुरखों और मौजूदा लालसलामियों को लेकर भी विचलित करती हैं…. आज के हालात के पीछे सारा किया धरा उन्हीं का है, मुझे ये भी अच्छी तरह से मालूम है कि एक नेशनल फेम के कामरेड की पत्नी भी विदेशों में जाकर दाता एजेंसियों के तलवे चाटती रहती हैं …. जहां तक एक भी दलित चिंतक के भगत की शहादत को याद नहीं करने का प्रश्न है, जानीबूझी इस अक्षम्य कारस्तानी के पीछे इसी तरह की ढेर सारी ऐतिहासिक गलतियां और साजिशें हैं।’

कुमार सौवीर का मानना था कि सार्थक विरोध को कभी भी किसी निंदापरक विरोध की बैसाखी की जरूरत नहीं होती है। शरद श्रीवास्तव ने पुनः लिखा कि भारत की आजादी के आंदोलन में ब्रिटेन की दो पार्टियों की आपसी राजनीति और उनकी भारत के प्रति नीति का भी अच्छा खासा रोल रहा है। कंजरवेटिव पार्टी हमेशा भारत के खिलाफ रही, लेबर पार्टी भारत को अधिक अधिकार दिये जाने की पक्षधर रही। 1931 मे लेबर पार्टी की सरकार थी। इससे पहले 1890 मे लेबर पार्टी की सरकार थी और तब भी भारत के लिए उसने कई महत्वपूर्ण निर्णय किए थे। लेबर पार्टी की सरकार ने लार्ड इरविन को भारत मे चल रहे आंदोलन से बात चीत करने के लिए कहा और लार्ड इरविन ही पहले वायसराय थे जिनहोने पहली बार बाकायदा घोषणापत्र जारी करके कांग्रेस को भारत का नुमाइंदा कहा और गोल मेज सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया जिसमे भारत को अधिक अधिकार दिये जाने की बात होनी थी। लॉर्ड इरविन ने बातचीत का माहौल तैयार करने के लिए गांधी जी की कई शर्ते भी मानी। यहाँ तक कहा जाता है की लार्ड इरविन ने लिखित मे कांग्रेस से समझौता करके अंग्रेज़ो के ताबूत मे पहली कील ठोकी और कांग्रेस को एक अधिकृत पार्टी होने का भारत की आवाज होने का प्रमाणपत्र दे दिया। ऐसे हालात मे जब वायसराय बातचीत का इच्छुक था, सरकार अनुकूल थी, तब भी गांधी जी ने बातचीत करने से पहले रखी गयी शर्तों मे भगत सिंह एवं उनके साथियों की फांसी रोकने की मांग क्यों नहीं की इस पर अचरज होता है।’

उमाशंकर राय ने लिखा कि यह ऐतिहासिक तथ्य है..भगत सिंह खुद भी नहीं चाहते थे कि गांधी या कोई उनके लिए अंग्रेजी हुकूमत से गुहार लगाए..लेकिन तमाम नेता गांधी से गुजारिश कर रहे थे कि रिहाई नहीं तो कम से कम उम कैद में बदलवाने के लिए वायसराय से बात करें..इसी बिंदू पर बात अटकी रही। शादाब खान ने लिखा – ‘मैं तो जिन्नाह को माफ कर देता डायरेक्ट एक्शन के लिए…पर कमबख्त भारत रुका ही नहीं। निकल गया हत्थे से।’ इस पर सुमंत भट्टाचार्य ने लिखा- सवाल का दूसरा हिस्सा जिन्नाह और अंबेडकर की खामोशी पर है। इतिहास का कोई अछूता दस्तावेज हो तो सामने लाइए मित्र।’

सुमंत भट्टाचार्य के फेसबुक वॉल से

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *