सुनिए टेप, समाचार प्लस वाला उमेश कुमार सीएम को फंसाने का तरीका समझा रहा अपने एडिटर (इन्वेस्टिगेशन) को!

समाचार प्लस का एडिटर इन चीफ और सीईओ उमेश कुमार के दिमाग में हर वक्त स्टिंग चलता रहता था. सीआईएसएफ, यूपी और उत्तराखंड पुलिस के कुल इक्कीस जवानों की सुरक्षा में रहने वाले उमेश कुमार को ये सपने में भी भय नहीं रह गया था कि उसे उसकी जन विरोधी, मीडिया विरोधी और लोकतंत्र विरोधी हरकतों के लिए एक दिन गिरफ्तार भी किया जा सकता है.

उमेश के रिश्ते भाजपा के दिग्गज नेताओं से थे. उसकी फितरत थी, जहां रहो, उसी घर को बर्बाद करो. जिस थाली में खाओ, उसी में छेद करो. कांग्रेस के करीबी रहा तो उसने कांग्रेसी सीएम हरीश रावत का स्टिंग कर लिया. जिन जिन नौकरशाहों को मित्र बनाया, सबका स्टिंग किया. अब जब उसने उत्तराखंड के भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत का स्टिंग करने का फैसला किया तो यही निर्णय उसके सलाखों के पीछे जाने का कारण बन गया. भाजपा समेत अब सारी पार्टियां और सारे अफसर-पत्रकार उमेश कुमार व उसकी टीम से दूर रहने में ही भलाई समझते हैं.

भड़ास के पास एक एक्सक्लूसिव आडियो है जिसमें उमेश कुमार अपने एसआईटी हेड और एडिटर इन्वेस्टिगेशन पंडित आयुष उर्फ आयुष गौड़ को सिखा रहा है कि उसे कैसे सीएम को स्टिंग में फंसाना है. उमेश कुमार द्वारा अपने खोजी पत्रकार को फोन पर Cm उत्तराखंड को फंसाने का तरीका बताने के आडियो का एक छोटा अंश है जिसे सुनने के बाद यह स्पष्ट हो जाता है कि उमेश की मंशा किसी भी तरह सीएम को फंसाने की थी ताकि वह उन्हें बाद में ब्लैकमेल कर अपने अच्छे-बुरे काम करा सके.

बातचीत में उमेश की सीएम को फांसने की उत्सुकता भी साफ नज़र आ रही है. किस तरह नीचे वाले अफसरों को पैसा पकड़ा कर सीएम तक को इस करप्ट चेन में इनवाल्व दिखाकर सीएम को भी करप्ट इस्टैब्लिश करना है, वह इस बातचीत से समझ में आ जाती है. इस आडियो को सुनें और सुनाएं ताकि आजकल की धंधेबाज पत्रकारिता और स्टिंगबाज पत्रकारिता का असली चेहरा सब तक पहुंच पाए….

आडियो सुनने के लिए नीचे क्लिक करें…


संबंधित खबरें पढ़ने के लिए नीचे दिए शीर्षकों पर एक एक कर क्लिक करें….

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *