APN में महिला पत्रकार के चरित्र हनन की कोशिश

APN बस नाम भर का मीडिया चैनल है, यहां कर्मचारी कम रिश्तेदारी ज्यादा है, हिटलरशाही ज्यादा है, चमचागिरी ज्यादा है। हर तीसरा शख्स मैडम राजश्री राय के खानदान से ताल्लुक रखता है, या फिर उनके केबिन के बाहर खड़ा रहता है मक्खनबाजी करने के लिए, और जो लोग ऐसा नहीं करते, उनके लिए तरह-तरह की प्रताड़नाएं हैं। अगर आज की बात करें तो एपीएन में इन दिनों सिर्फ गपबाजी हो रही है। एक महिला और उसके सहकर्मी पर भद्दे भद्दे अनर्गल आरोप लगाए गए, इस्तीफा देने का दबाव बनाया गया, पुरुष सहकर्मी ने दबाव में इसलिए इस्तीफा दे दिया ताकि महिला सहकर्मी की बदनामी न हो। लेकिन महिला उनके दबाव के आगे नहीं झुकी और वो प्रबंधन के खिलाफ लड़ रही है।

दो तीन दिन से लगातार महिला से इस बारे में पूछताछ की जा रही है, लेकिन संवेदनहीनता की हद देखिए कि इस सिलसिले में महिला पत्रकार से एचआर हेड लोकेश शर्मा बातचीत कर रहे हैं, जबकि कानूनन एक स्त्री से एक स्त्री ही ऐसे मसलों पर बातचीत कर सकती है। लोकेश शर्मा का दावा है कि महिला को उसके सहकर्मी के साथ आपत्तिजनक अवस्था में पाया गया है और उसकी सीसीटीवी फुटेज उनके पास उपलब्ध है लेकिन अब तक उस फुटेज को ना किसी ने देखा, और ना किसी को दिखाया गया। एक महत्वपूर्ण बात यह भी है कि ऑफिस के कुछ एडिटर जो इन मसलों पर गॉसिप कर रहे थे, कश्फी, प्रशान्त, अनुपम और रवि, चारों को बुलाकर पहले से लिखित कागज पर जबरन हस्ताक्षर करवाया गया कि उन्होंने यह सब होते हुए देखा है।

फिलहाल एचआर हेड लोकेश शर्मा ने महिला को जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया है, ये कहते हुए कि जब तक जांच पड़ताल पूरी नहीं हो जाती तब तक आप छुट्टी पर रहें। लेकिन विडंबना देखिए जिस फुटेज के आधार पर दो पत्रकारों के चरित्र पर सवाल उठा दिए गए, एक से जबरन इस्तीफा ले लिया गया, और दूसरी से इस्तीफे के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा है, वह उनके पास उपलब्ध ही नहीं और उसे ढूंढ़ने के पहले ही सारे आरोप मढ़ दिये गये। महिला और पुरुष को दोषी करार दिया गया, पूरे ऑफिस की मीटिंग बुलाकर महिला और पुरुष का नाम सार्वजनिक किया गया। और समझाया गया कि इस बारे में कोई बात न की जाए, फिर भी हर कोई इसी मसले पर बात कर रहा है।

आज पूरा एपीएन न्यूजरूम पीड़ित महिला और पुरुष पत्रकार के पक्ष में है, लेकिन दबी जुबान से क्योंकि सबको अपनी नौकरी जाने का डर है। लेकिन चंद दिनों पहले ही एपीएन ज्वॉइन करने वाली वरिष्ठ पत्रकार रमा सोलंकी (एडिटर, न्यूज एंड स्पेशल प्रोग्रामिंग) ने मैनेजमेंट के इस रवैये का विरोध करते हुए गुरुवार को इस्तीफा दे दिया। पीड़ित महिला अपनी बातों पर अडिग है, उसने श्रम उपायुक्त में शिकायत कर दी है और महिला आयोग जाने की भी तैयारी कर रही है।

इसे भी पढ़ें…

एपीएन चैनल भी औकात पर आया, पत्रकारों का पैसा दबाए बैठा है

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “APN में महिला पत्रकार के चरित्र हनन की कोशिश

  • Aarushe Arora says:

    Mr. Rakesh Rastogi agar such mey tu such keh raha hey to apna naam nahi chupta lakin such yey hey ki issi lokesh sharma ney tujey khud company key security guard key saath aapti janak awasta mey guard room mey pakda tha or petai uski nahi teri hui thi….mey janta hu tera asli naam kaya hey or jis mail sey tuney apna message bheja hey wo bhi galat hey…or yey bhi such hey ki usko nikala nahi gaya tha usney resign kiya tha…baki ki batain jo tuney likhi hey wo terey gandey dimag ki uppaj hey…

    Reply
  • Aarushe Arora says:

    Ab gandey deemag ki upaj tu kehey ga ki mey usski chamchi hu….jub tu ek security guard sey chamcagiri karva sakta hey to mey kaya such nahi likh sakati…

    Reply
  • Aarushe Arora says:

    Dear Journalist Friends,
    I would like to request to all you that we should not encourage such type of comments about any one, Mr Yashwant ji I will also request you that before display of any comments the same should be verify. The fact is Mr Lokesh has become the victim of some senior officials of Sahara Media being a HR Head he has been directed to take forced resignation from the employees of the company. I wa s one of them but it is quite clear to me that he has just acted on the instructions of his media heads. Jaban mey haddi nahi hey iska matlab yey nahi hey ki kissi key barey mey kuch bhi bol diya jayey. In reality he is one of the most efficient, knowledgeable HR Head in the media industry. Sahara key log aaj bhi uski peeth pichey tarig kartey hey…wo chahey management key log ho ya phir employees. Kisis key barey mey kuch bhi likh kar key at least Bhadas ko to badnam mat karo….Yashyant Bhai aapko dhyan dena hoga is taraf…

    Reply
  • Navaneeth says:

    I am agree with Ms. Arora, I have also worked with Mr. Sharma and feel that he is a man of principles, he has been exploited by his seniors. What Mr Rastogi has stated is absolutely incorrect and baseless. In reality this is the fate of any HR Head because he has to face the employees from the front and management never comes in the picture. Thikra ussi key sir phoda jata hey. It is every where and in every organisation, but some of the employees understand this and never rebuke the HR personnel. So far as Mr Rastogi is concern he himself is a cheater and most unproductive person I have ever worked with. Everyone know about this fact as mentioned by Ms. Arora about Mr Rastogi, he was not only caught but properly beaten by the other security guards on the instructions of the seniors. It is pertinent to mentioned that due to efficiency of Mr Sharma most of the senior members praises him a lot. Chamchagiri jayada din nahi chalti. We have seen that in every regime he has become more & more powerful due to his behaviour and work. The decay of Mr. Sharma started when he was instructed by the management to get resignation from the employees, that is why he has become a victim of conspiracy of his professional rivals.

    Reply
  • Mey miss arora or mr.navaneeth ki baato sey iteyfak rakhta hu. Mujhey yey to nahi malum ki yey rakesh rastogi kaun hain lakin ha yey sahi hey ki sahara mey security guard key saath aisa kuch hua to tha. Sirf mey hi nahi sahara sey chhod chukey kai saathi or abhi bhi wanha kaam karney waley employees rastogi ki baat ko sahi nahi manneyngey kayoki jo bhi usney likha hey vo aadharhin or puri tarah sey galat hey. Jo aadmi Mr Lokesh Sharma ko janta hey wo hakkikat sey vakif hey. In rastogi jaisey jin mey itna bhi dam nahi hey ki apna sahi naam likh sakey wo kisi key barey mey kuch bhi bol saketey hey. Yey sahi hey ki Mr Sharma ko apney management key haatho mey khelna pada or tabhi unkey kehney per unhoney itney sarey logo sey jabardasti resignation ley kar key nikal diya. Lakin yey bhi such hey ki sahara mey HR ka koi aastitva nahi hey. Head of Media hi sub kuch hota hey wanha per. Ab ant mey bali ka bakra to HR ko hi banna pdata hey aaj Mr. Sharma baney hey kal koi or baneyga. Jai Sahara

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *