जागरण के पत्रकार राकेश श्रीवास्‍तव को धमकी देने वाला गिरफ्तार

शाहजहांपुर : दैनिक जागरण के पत्रकार राकेश श्रीवास्तव को परिवार समेत खत्म करने की धमकी देने वाले आरोपी को पुलिस ने शुक्रवार की रात गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपी के पास से धमकी देने में प्रयुक्‍त सैमसंग मोबाइल व सिम बरामद किया है। 72 घंटे में गुनहगार को ढूंढ निकालने वाले पुलिस दल के लिए डीआईजी आरकेएस राठौर ने 10 हजार रुपये इनाम की घोषणा की है।

गौरतलब है कि 17 सितंबर की रात साढ़े 10.30 अज्ञात हमलावरों ने दैनिक जागरण के पत्रकार नरेंद्र यादव पर कातिलाना हमला किया था। इस सनसनीखेज हमले के कुछ मिनट बाद ही दैनिक जागरण के ही पत्रकार राकेश श्रीवास्तव की पत्‍नी के मोबाइल पर पत्रकार को परिवार समेत खत्म करने की धमकी दी गई। नरेंद्र पर हुए हमले के बाद राकेश ने धमकी के मामले से पुलिस को अवगत कराया।  धमकी को एसपी राकेश चंद्र साहू ने चुनौती के रूप में लिया। एसपी सिटी एपी सिंह ने सदर-बाजार इंस्पेक्टर जगदंबा तिवारी की नेतृत्व में दो टीमें गठित कर दीं।

सब-इंस्पेक्टर रवींद्र सिंह एवं वीरेंद्र चौहान के नेतृत्व में एटा, आगरा के लिए टीमें रवाना हो गईं। क्रिमिनल इंटेलीजेंस प्रभारी हिमांशु निगम के नेतृत्व में शंभू सिंह यादव, शशि, रनवीर, राजकुमार, रवि को फर्रुखाबाद भेजा गया। इस टीम ने देररात फर्रुखाबाद के बरखिरिया गांव निवासी घनश्याम पुत्र भगवान सिंह को दबोच लिया। उसके पास से सैमसंग का मोबाइल एवं सिम बरामद हुआ, जिसका इस्‍तेमाल धमकी देने में किया गया था। सीओ सिटी राजेश्वर सिंह ने बताया कि दोनों टीमों की घेराबंदी के चलते ही घनश्याम हत्थे चढ़ सका है। उन्होंने बताया कि आरोपित के खिलाफ आईटी एक्ट समेत तीन धाराओं में केस दर्ज किया जा रहा है।

अपर पुलिस अधीक्षक (नगर) एपी सिंह ने बताया कि पुलिस टीम पत्रकार नरेंद्र यादव के हमलावरों के करीब पहुंच चुकी है। कैमरे में मिले संदिग्ध चेहरों की शिनाख्त के लिए सारे प्रयास किए जा रहे हैं। शहर में बेनकाब करने को हमलावरों के पोस्टर जगह जगह चिपकाए जाएंगे। सोशल साइट के सहारे भी गुनाहगारों की शिनाख्त की जा रही है। वारदात के दो-तीन बिंदु उभर कर सामने आए हैं। सभी बिंदुओं पर काम करते हुए हमलावरों फोटो के मिलान की कोशिशें की जा रही हैं।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *