Connect with us

Hi, what are you looking for?

वेब-सिनेमा

पत्रकार ज़ैग़म इमाम की फिल्म ‘दोज़ख़ इन सर्च ऑफ़ हेवेन’ 20 मार्च को रिलीज होगी, पेश है सिनॉप्सिस और ट्रेलर

पत्रकार ज़ैग़म इमाम की फिल्म दोज़ख़ इन सर्च ऑफ़ हेवेन 20 मार्च को रिलीज होगी। दोज़ख़ पीवीरं के बैनर तले प्रदर्शित की जा रही है।  ‘दोज़ख – इन सर्च ऑफ हैवेन’ कहानी है वाराणसी स्थित एक छोटे से गांव में बसे एक कट्टरपंथी मुस्लिम नमाज़ी तथा उसके बारह वर्षीय बेटे जानु के साथ उसके रिश्ते की. फिल्म की शुरूआत होती है रोज़मर्रा होनेवाली सुबह की नमाज़ और पुजारी की प्रार्थना से उपजे विवाद से. पडोस में रहनेवाला मुस्लिम नमाज़ी अपने पडोसी हिंदू पुजारी से काफी दुखी है लेकिन उससे भी ज़्यादा दुखी है अपने बारह वर्षीय बेटे के व्यवहार से जिसकी पुजारी के बेटे से घनिष्ट मित्रता है.

<p>पत्रकार ज़ैग़म इमाम की फिल्म दोज़ख़ इन सर्च ऑफ़ हेवेन 20 मार्च को रिलीज होगी। दोज़ख़ पीवीरं के बैनर तले प्रदर्शित की जा रही है।  ‘दोज़ख – इन सर्च ऑफ हैवेन’ कहानी है वाराणसी स्थित एक छोटे से गांव में बसे एक कट्टरपंथी मुस्लिम नमाज़ी तथा उसके बारह वर्षीय बेटे जानु के साथ उसके रिश्ते की. फिल्म की शुरूआत होती है रोज़मर्रा होनेवाली सुबह की नमाज़ और पुजारी की प्रार्थना से उपजे विवाद से. पडोस में रहनेवाला मुस्लिम नमाज़ी अपने पडोसी हिंदू पुजारी से काफी दुखी है लेकिन उससे भी ज़्यादा दुखी है अपने बारह वर्षीय बेटे के व्यवहार से जिसकी पुजारी के बेटे से घनिष्ट मित्रता है.</p>

पत्रकार ज़ैग़म इमाम की फिल्म दोज़ख़ इन सर्च ऑफ़ हेवेन 20 मार्च को रिलीज होगी। दोज़ख़ पीवीरं के बैनर तले प्रदर्शित की जा रही है।  ‘दोज़ख – इन सर्च ऑफ हैवेन’ कहानी है वाराणसी स्थित एक छोटे से गांव में बसे एक कट्टरपंथी मुस्लिम नमाज़ी तथा उसके बारह वर्षीय बेटे जानु के साथ उसके रिश्ते की. फिल्म की शुरूआत होती है रोज़मर्रा होनेवाली सुबह की नमाज़ और पुजारी की प्रार्थना से उपजे विवाद से. पडोस में रहनेवाला मुस्लिम नमाज़ी अपने पडोसी हिंदू पुजारी से काफी दुखी है लेकिन उससे भी ज़्यादा दुखी है अपने बारह वर्षीय बेटे के व्यवहार से जिसकी पुजारी के बेटे से घनिष्ट मित्रता है.

सिर्फ यही नहीं अपने पिता के दुर्व्यवहार के खिलाफ हर रोज़ वह पुजारी के बेटे के साथ मंदिर में जाकर पूजा अर्चना करता है. इससे तंग आकर नमाज़ी ना सिर्फ अपने बेटे को काफी डांटता फटकारता है बल्कि उसे बताता है कि उसके इस कृत्य से अल्लाह उससे नाराज़ होकर ‘दोज़ख’ (नर्क) बख्शेंगे. आखिरकार एक दिन नमाज़ी का गुस्सा अपने बेटे पर फट पडता है जब उसे पता चलता है कि उसका बेटा हिंदुओं के पौराणिक नाटक राम लीला में हिंदू भगवान हनुमान बना था. इस बात से आहत हो वह ना सिर्फ अपने बेटे पर नाराज़ होता है बल्कि उसे सज़ा भी देता है और उसे हिंदू मुस्लिम, इन दो धर्मों का फर्क बताता है.

Advertisement. Scroll to continue reading.

कहानी के अंत में ऐसी घटना घटित होती है जिसकी कल्पना नमाज़ी पिता ने कभी नहीं की होती है. अपने पिता के इस रवैये से जानु अपने पिता का घर छोडकर कहीं चला जाता है. नमाज़ी पिता अपने बेटे को हर जगह ढूंढता है और इस खोज के दौरान उसे यह एहसास होता है कि वह नमाज़ी होने से पहले अपने बेटे का पिता है. इस बात का एहसास होते ही अपने बेटे से मिलने के लिए वह अधीर हो उठता है लेकिन क्या उसकी अधीरता का अंत होगा ? क्या उसका बेटा उसे फिर मिलेगा ?

निर्माता निर्देशक ज़ैग़म इमाम के निर्देशन में बनीं फिल्म ‘दोज़ख – इन सर्च ऑफ हैवेन’ के क्रिएटिव प्रोड्यूसर आदित्य ओम है. सिनेमैटोग्राफर हैं मैलसन रंगस्वामी, एडिटर हैं प्रकाश झा, संगीत अमन पंत का है तथा मुख्य कलकार है ललित मोहन तिवारी, नज़िम खान, पवन तिवारी, गैरिक चौधरी, रुबी सैनी, इरफान रिज़वी, जुगेंद्र सिंह तथा खुशबू सेठ हैं. ऑस्ट्रेलिया तथा कनाडा के साथ भारत में हुए विभिन्न फिल्म समारोहों में वाहवाही बटोरने के बाद ‘दोज़ख – इन सर्च ऑफ हैवेन’ भारत के सभी सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी. 

Advertisement. Scroll to continue reading.

ट्रेलर देखने के लिए क्लिक करें…

https://www.youtube.com/watch?v=WmHPSeIBvUc

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement