पांच माह से सैलरी न मिलने पर कानपुर सहारा के संपादक और रिपोर्टर में गाली-गलौज

कानपुर : दैनिक राष्ट्रीय सहारा की अन्य यूनिटों की तरह यहां भी सैलरी न मिलने को लेकर मीडिया कर्मियों में तनाव की सूचनाएं हैं। बताया गया है कि इसी मसले पर पिछले दिनो संपादकीय प्रभारी मनोज तिवारी और  रिपोर्टर सुरेश त्रिवेदी के बीच दफ्तर में ही गाली-गलौज हो गया। 

बताया गया है कि पिछले पांच माह से रिपोर्टर सुरेश त्रिवेदी को सैलरी का भुगतान नहीं हुआ है। इस संबंध में उन्होंने गत नौ अप्रैल को जब उन्होंने संपादकीय प्रभारी मनोज तिवारी से बात की तो दोनो में पहले कहासुनी फिर गाली-गलौज होने लगा। मौके पर मौजूद मीडिया कर्मियों ने दोनो में बीच-बचाव कर मामला रफादफा किया वरना कुछ भी हो सकता था। घटना की सूचना अखबार के लखनऊ-दिल्ली मुख्यालय तक पहुंच गई। उसके बाद, बताया जाता है कि मुख्यालय से प्रबंधन के आदेश पर मनोज तिवारी और सुरेश त्रिवेदी छुट्टी पर भेज दिए गए हैं। यद्यपि फोन संपर्क करने पर सुरेश त्रिवेदी ने ऐसी किसी घटना से इनकार करते हुए कहा कि वह तो एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए कुछ दिन की छुट्टी पर हैं।  

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “पांच माह से सैलरी न मिलने पर कानपुर सहारा के संपादक और रिपोर्टर में गाली-गलौज

  • Yah to hona hi tha.
    Akhir kab tak khairat karega koi.
    Tiwariji to hamesh office mai man bahan oi shaili me hi bat karte hai chahe wah majak ho ya phir samanya bat.
    Jab trivedi ji ne jagaran prabandhan ki na suni to tiwariji ki kya sunege.
    Wah ek warishth journalist hai. Kabhi jagran me unki tuti bola karti thi.
    Khair kuchh bhi ho is prakar ki ghatna nahi honi chahiye thi.
    Abhi ko sayam se kam lena chahiye jab ki company ke malik samasya me ho.
    Tusra pakchh yah bhi hai ki aakhir kab tak reporters bina salary ke kam karenge. 4 months se kisi ko kuchh bhi nahi mila hai.
    Sampadakji hhi kabil hai lekin unko reporters ki samsaya ko dhyan rakhan chahiye , lekin wah bhi kya kare wah bhi is samasya se gujar rahe hai.
    Aaj ke daur me akhabar bahut hi buri dasha se gujar raha hai. Editorial ki to bahut hi buri halat hai. Kya likha ja raha hai kaisa likha ja raha hai koi dekhne wala nahi hai.
    Yah abhi ki halat nahi hai jab salary mil rahi thi tab bhi yahi halat the aaj bhi wahi hai.
    Sahara ki job ko sahara ke log govmnt job samajh kar kam karte aa rahe hai. Shayad yahi wajah hai ki sahara ke halat is kadar ho chale hai.
    Malik ki dariya dili ko logo ne galat tarike se liya. Yadi apni company samajh kar kam kiya hota to shayad halat kuchh or hi hote.
    Shayad log samajh nahi rahe ki jis Aam aadmi ne mahaj 2000 Rs se kam suru kar is mukam tak pahunchaya usko lootne khasotne me log kis kadar lage huye hai.
    Apne kam ko jimmedari se nahi nibha rahe hai.
    Agar meri bat manana chahte ho to pls tiwariji or triwediji aapas me mat lado, bahar jag hansi hoti hai or log kahte hai ki dekho sahara me malik par sankat ke samay unki karmimkis kadar lad jhagad rahe hai.
    Thanks
    Jai singh
    (Kalpnik nam
    )

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *