टीवी के एक संपादक ने कायम किया इतिहास, लाइव प्रसारण के दौरान नेताओं के पैर छुए, देखें वीडियो

जी बिहार के संपादक स्वयं प्रकाश : पत्रकारिता के पतित पुरुष

जी ग्रुप के रीजनल न्यूज चैनल ‘जी बिहार’ के संपादक हैं स्वयं प्रकाश. इन्होंने हाल में ही चैनल के संपादक पद को सुशोभित किया है. इन्होंने पिछले दिनों अपने रीजनल चैनल द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के लाइव प्रसारण में बिहार के सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील मोदी का पैर छूकर आशीर्वाद लिया.

दरसअल 26 मार्च को जी बिहार चैनल ने पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में ”एक शाम जवानों के नाम” कार्यक्रम आयोजित किया था… कार्यक्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को आना था. संपादक महोदय को दोनों नेताओं के आगवानी की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. सो, जैसे ही दोनों नेता कार्यक्रम स्थल पर आए, संपादक महोदय ने झट से उनके पैर छूकर आशीर्वाद ले लिया और फिर उन्हें अंदर ले गए…

पूरा वाकये का live प्रसारण हो रहा था… सो उनकी  यह हरकत भी दर्शकों तक पहुंच गयी.. कहा जा रहा है कि संपादक महोदय सरकार से विज्ञापन लेने के लिये एड़ी चोटी एक किये हुए हैं.. लेकिन सरकार का दिल नही पसीज रहा है… अब संपादक महोदय ने राजा के सामने  दंडवत दिया है..देखिये आगे-आगे क्या होता है…  एक दौर था जब संपादक का कद इतना बड़ा होता था कि नेता-मंत्री उनसे मिलने के लिए टाइम लेते थे और संपादक के आफिस आकर मिलने का इंतजार करते थे. अब दौर ऐसा बदला कि संपादक लोग नेता-मंत्री की अगवानी के लिए खड़े होते हैं और नेता-मंत्री के आते ही लपक कर पैर छू लेते हैं…

वाह रे संपादक नामक संस्था / पद का पतन… यूं ही नहीं कहा जा रहा कि मीडिया का ये ‘गोदी’ काल है… जो संपादक नेता-मंत्री के गोद में बैठेगा, उसकी कुर्सी बची रहेगी… जो सच्ची पत्रकारिता करेगा, उसका हुक्का-पानी सत्ता द्वारा बंद कर दिया जाएगा…. स्वयं प्रकाश का नेताओं का पैर छूना पत्रकारिता के गिरते स्तर की बानगी है… शायद टीवी पत्रकारिता के इतिहास में इस तरह की तस्वीर देखने को नहीं मिली हो…

स्वयं प्रकाश ऐसे पहले टीवी संपादक बन गए हैं जिन्होंने अपने ही चैनल के लाइव प्रसारण के दौरान नेताओं के पैर छूकर आशीर्वाद लिया और इसे लाखों दर्शकों ने देखा… जी बिहार के संपादक स्वयं प्रकाश द्वारा पैर छूने का वीडियो आप जियो टीवी पर आप 26 मार्च की शाम 7 बजे से 7.5 मिनट तक वाले फुटेज में देख सकते हैं… अगर नहीं देख पाए हों या नहीं देख पा रहे हों तो वीडियो देखने के लिए नीचे दिए यूआरएल पर क्लिक करें :

https://youtu.be/0NrfqYEI9K8

कौन हैं ये स्वयं प्रकाश… इनके बारे में ज्यादा जानने के लिए नीचे क्लिक करें :

https://www.bhadas4media.com/edhar-udhar/14294-swayam-prakash-zee-bihar-jharkhand

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Know How a Senior Editor is being FORCED to Leave RSTV

Rajya Sabha TV- Deceit, Deception, Dishonesty, Anything but Parliamentary

Rajya Sabha: How to SET Editor-in-Chief selection

The story of war for control at Rajya Sabha TV (RSTV) could make the most intriguing episode of Game of Thrones a run for TRPs. The channel has been in controversy for years now. There have been incessant allegations of misuse of public money, nepotism, corrupt practices in RSTV. There have been reports of CAG objections. Leading media organizations like DNA, Tehelka wrote articles alleging splurging of Rs 1700 crores. It another matter that both the organizations tendered apology for factually incorrect reporting to the Privileges Committee of Rajya Sabha, when nearly all political parties in the House, except BJP, collectively moved privilege motion against wrong reporting.

But after a change of guard at helm in Centre and Rajya Sabha, one would have expected to see some change. But that was perhaps too much to expect. Even months after taking charge as Chairperson Rajya Sabha Venkaiah Naidu has not really shown any inclination towards stemming the extravagance at RSTV or initiating clean and fair processes in hiring.

It is true that Vice President Naidu himself directed a fresh audit of RSTV, after he came to know that all the previous CAG audits had not found anything wrong with RSTV. But his own sources also released to media that the channel’s budget was only Rs 62.5 crore per annum. The news was shamelessly picked by the former CEO Gurdeep Sappal on his own facebook page, who in tongue-in-cheek style thanked the Vice President and wrote ‘Now that it has been officially made clear that RSTV’s expenditure is just ₹62.5 crore a year, out of which ₹25 crore goes to NDMC, the fake news campaign of ₹1700 crore or ₹3000 crore spent stands exposed.’

AS per the newspaper reports, Vice President had also directed to reduce the manpower in the channel and vacate the costly NDMC building at Talkatora Stadium. But unfortunately, his writ stops at RSTV. It is learnt that a scheme has now been approved to allow RSTV to increase its staff by recruiting hundred more employees. Also, surprisingly, instead of Talkatora Stadium building, it’s the Gurudwara Rakabganj Road office which was for free, has been vacated! Talkatora rent continues!

But the real game of intrigue and deceit in the channel is now coming out in open after RSTV initiated the process of appointing new Editor-in-Chief. The channel, falling under direct control of the Chairman Rajya Sabha Venkaiah Naidu, who also happens to be the Vice President of India has been showing utter disregard to established laws, rules and practices.

Sources in the organisation say that the entire process of appointing Editor-in-Chief was done in a way that would benefit certain people. A close look at events prima facie indicate attempts to include some and eliminate some in the selection process by subterfuge.

On 21 October 2017, Vice President Venkaiah Nadu formed a Search & Select Committee for “Appointing” the Editor-in-Chief of RSTV. The committee was headed by A Suryaprakash, Chairman Prasar Bharati Board of India. The committee also has Shashi Shekhar Vempatti, CEO, Prasar Bharati and Swapna Das Gupta, Member Parliament (Rajya Sabha) and Rahul Srivastava, senior journalist.

The “Search & Select” committee was made to search directly a suitable candidate, contact him/her, interview him/her and submit the decision to the Chairman Rajya Sabha for approval. It was done to immediately bring in a new Editor-in-Chief so that the old decision-making set-up, which is still loyal to Hamid Ansari and is full of Left-Congress activists, can be replaced.

But its been three months after the committee was formed and no one has been selected as Editor-in-Chief. The delay seems to be deliberate and mischievous.

To derail the selection process, first an advertisement was issued on 30 November 2017 inviting applications for the post of Editor-in-Chief. It was baffling because the “Search & Select” committee was formed to avoid the lengthy process of calling applications. It was not supposed to issue an advertisement.

It is being said that the Committee, which has nominees of the PMO and Vice President of India, could not agree on a common name due to different directions coming from two most powerful offices in India. So, it decided to call for application. A carefully tweaked advertisement describing “Required” and “Desired” qualities of the ideal candidate was issued.

Professionals from within RSTV and outside applied for the post of Editor-in-Chief. After an “Exhaustive Scrutiny” of the extended list of applicants a shortlist was narrowed down for the final interview.

The shortlist is also an interesting exercise. It had two criteria, ‘experience’ and ‘controversy’. Some candidates were not shortlisted for the final interview, because of their controversial past, even though they had extensive requisite experience. Obviously, it was a clever design to rule out some names.

Among the shortlisted were names like Rahul Mahajan, Sandeep Bamzai, Vibhakar, M K Jha from outside and Rajesh Badal, Arvind Singh, Akhilesh Suman among fairly senior members from RSTV. But even names like Om Prakash, Neelu Vyas Thomas, Amritanshu Rai, Vishal Dahiya etc. from within RSTV were found suitable for appearing in the final interview. And this, sources point, is the actual ‘management’.

One line of powerful RSTV management got in juniors like Vishal Dahiya, who is only a Senior Producer, shortlisted along with seniors like Bamzai, Rahul Mahajan and Vibhkar! The other line got in Rajesh Badal after waiving off age limit, as he was already over-age!

The final interviews were done in two lots. Those appearing from within RSTV were called first and the outsiders were called the next day. Insiders claim that the carefully constructed interviews were also designed to bring out the so called “Taint” in the professional history of the certain candidates and “Lack of Suitability” in others so that their names could be eliminated.

It is learnt that at the end of this exercise the top contender from “Outsiders” were Vibhaker and Rahul Mahajan and from insider was Vishal Dahiya. Another insider lobby was in favour of Rajesh Badal.

But its more than one and a half month now. The ‘Search and Select’ committee has failed to come to any conclusion. The entire matter is stuck between PMO and VP office, while the commies rule the roost.

The PMO is against Vishal Dahiya, because he was a close accomplice of Pankaj Shankar in DD. Pankaj Shankar was close associate of Rahul Gandhi and used to run pressbrief.in, which was the approved website for Rahul for years. Pankaj now seems to be out of favour, but it was he who had brought Dahiya to RSTV through Raibareli -Amethi connection with another congressman Gurdeep Sappal.

But even more curious is the case of “insider” Rajesh Badal, who is currently the Executive Director at RSTV. Normally, it would have been difficult to ignore his candidature because of his experience in the media and also being one of the two senior most Editors in the channel.

So to eliminate his case, a dubious tool of sexual harassment was used. Mysteriously, a new twitter handle, which has only one follower came up! On 8 January 2018, a post appeared on this handle, alleging that a complaint has been filed against Rajesh Badal for ‘women harassment’ in RSTV. The entire Dahiya clique in RSTV signed a petition to the Vice President, accusing Badal of sexual harassment. It was signed by women and men professionals, both!

One must appreciate the courage shown by these women and men to come forward in bringing out the state of affairs in a channel that is expected to maintain the highest levels of morality and ethics. But this has also brought some very serious concerns.

Normally, there should have been an instant response from Chairman, Rajya Sabha’s Office and the person in concern should have been suspended pending enquiry or at least sent on compulsory leave till further action. But so far no one has been suspended or sent on compulsory leave in RSTV despite passage several weeks. Also the complaint was leaked into public domain through twitter.

No one thought of situations that emerged in the channel. The complainants are forced to continue to take orders from the same person against whom they have made complaints. Also, by remaining in position of power, the accused gets direct access to the complainant and can intimidate them in to backing down from their complaints.

On the other hand, the person facing allegations of sexual misconduct is not allowed any platform to put across his version and is being forced to face public humiliation in office, without proper recourse to any instigative process.

It is shameful situation for a division of Rajya Sabha. The sidelining of an authentic harassment complaint or the conspiracy of a fake complaint, both are criminal offences. Society at large must show extreme concern that the highest law-making body is itself failing its women and men employees. One shudders to think the message it is sending to the society.

The insider grapevine is that the RSTV administration has not taken any disciplinary action against Rajesh Badal, because it is working out a deal with him. He is being asked to quietly put in his resignation, so that he can be eliminated from the race of Editor-in-Chief. It would make the way clear for Vishal Dahiya, who has already been elevated to the position of ‘Input Head’, without any due procedure or approval of the Vice President and is now ruling with the help of his clique.

But will the matter end with the resignation of Rajesh Badal? What will happen to the rights of women working in RSTV? Imagine the message that will go down the system through the country if a department of Rajya Sabha, the Upper House of The Parliament, the maker and custodian of laws, were to strike a deal over Right and Honour of Women at RSTV.

On the other hand, if the allegations are false and motivated just to capture a post of Editor-in-Chief, is it not a matter of worry that even the top officials working in Parliament of India can be threatening and pressurised so easily? Certainly, such intrigue is not good for the institution. Sources have told that neither Rajya Sabha Secretariat nor Chairman, Rajya Sabha himself have not given any direction on this matter.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

देखते ही देखते टेलीविजन से मठाधीश संपादकों की एक पूरी पीढ़ी आउट हो गयी…

Yashwant Singh : देखते ही देखते टेलीविजन से मठाधीश संपादकों की एक पूरी पीढ़ी आउट हो गयी… अजित अंजुम, विनोद कापड़ी, आशुतोष, शैलेश, नक़वी, एनके सिंह, सतीश के सिंह, शाज़ी ज़मां, राहुल देव… जोड़ते-गिनते जाइए। इनमें से कुछ का कभी ये जलवा था कि दूसरों का करियर बर्बाद आबाद करने की सुपारी लिया दिया करते थे। आज खुद बेआबरू हुए बैठे हैं। समय बड़ा बेरहम होता है भाआआई….

भड़ास संपादक यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

उपरोक्त एफबी स्टेटस पर आए कमेंट्स देखने-पढ़ने के लिए नीचे क्लिक करें….

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अमर उजाला के संपादक के खिलाफ बुलंदशहर में एफआईआर दर्ज

बुलंदशहर नगर कोतवाली में अमर उजाला के संपादक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। सिंचाई विभाग के अवर अभियंता की तहरीर पर जिला प्रशासन की तरफ से यह एफआईआर दर्ज कराई गई। संपादक के खिलाफ आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने पर यह एफआईआर दर्ज कराई गई है।

संपादक के खिलाफ एफआईआर दर्ज होते ही बुलंदशहर के ब्यूरो चीफ आशीष कुमार के पसीने छूट गए है। ब्यूरो चीफ ने डीएम और एसएसपी से काफी अनुरोध किया कि संपादक के खिलाफ एफआईआर दर्ज न हो, लेकिन ब्यूरो चीफ की एक नहीं चली। बताया जा रहा है कि एफआईआर दर्ज होने से अमर उजाला के संपादक डॉ इंदु शेखर पंचोली बुलंदशहर के ब्यूरो चीफ से काफी नाराज हैं। देखें एफआईआर की कापी…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

छुट्टी मांगने पर उस हृदयहीन संपादक ने कहा- ‘किसी के मरने जीने से मुझे कोई मतलब नहीं है’

Jaleshwar Upadhyay : निष्ठुर प्रबंधन और बेशर्म संपादकों के कारण एचटी बिल्डिंग के सामने धरनारत कर्मचारी की मौत पर मुझे कोई आश्चर्य नहीं हुआ। मैंने अपनी जिंदगी में ऐसे बेगैरत और हृदयहीन संपादक देखे हैं कि नाम याद कर घिन आती है। नाम नहीं लूंगा, लेकिन जब मेरी पत्नी मृत्युशैया पर थीं तो मैंने अपने संपादक से छुट्टी मांगी।

उसने कहा किसी के मरने जीने से मुझे कोई मतलब नहीं है। मजबूरन मुझे इस्तीफा देना पड़ा और पत्नी भी कुछ दिन बाद नहीं रहीं। इस वाकये को 11- 12 साल हो गए, लेकिन कभी चर्चा नहीं की। आज एचटी कर्मी की धरने पर मौत के घटनाक्रम को सुन कर खुद को रोक न सका। माफ़ी चाहता हूं।

अमर उजाला, बनारस में लंबे समय तक कार्यरत रहे वरिष्ठ पत्रकार जलेश्वर उपाध्याय के उपरोक्त स्टेटस पर आए ढेर सारे कमेंट्स में से कुछ प्रमुख इस प्रकार हैं….

Rakesh Vats Sir sorry to say but disclose that blady and heartless man who is not socially

Yashwant Singh उसका नाम खोलना चाहिए सर. अब काहे का डर. ऐसे लोगों के खिलाफ आनलाइन निंदा अभियान चलाना चाहिए.

Jaleshwar Upadhyay He is very well known figure. Actually a big name in hindi journalism. यशवंत जी, काफी वक्त बीत गया। इस एक घटना ने मेरी जिंदगी बदल दी। आप सब जानते हैं। अब निंदा से क्या फायदा? जो गया, वह लौट नहीं सकता।

राकेश चौहान प्रणाम सर लेकिन उसका नाम आप बताये हैम उसके खिलाफ अभियान चलाना ही चाहिए

Mamta Kalia निर्दय होते जाते समय का यथार्थ है यह।यह सवाल उठता है कि क्या वह पत्रकार freelancing नही कर सकता था।एक ही नौकरी के पीछे क्यों पड़ा रहा।

Smita Dwivedi ममता जी यही तो विडंबना है इस देश की जो जेहन से कर्मठ और ईमानदार पत्रकार उससे नौकरी छीन ली जाती हैं।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हिंदुस्तान वाराणसी के ‘हत्यारा संपादक’ ने एक और जान ली!

दोस्तों,

मैं जो कहने जा रहा हूं, वह कु्द्द लोगों को नागवार लग सकता है। लेकिन यह सत्य है कि हिन्दुस्तान वाराणसी में स्थानीय सम्पादक की प्रताड़ना ने एक और पत्रकार साथी की जान लेने में अहम भूमिका निभाई। कोई शक नहीं कि मंसूर माई अस्वस्थ चल रहे थे, फिर भी यथासम्भव काम कर रहे थे।

लेकिन इसी बीच सम्पादक की प्रताड़ना से वह अंदर तक हिल गये थे। अपना यह दर्द उन्होंने परिवार सहित कई मित्रों से शेयर किया था, उनमें मैं भी था।

दोस्तों,

आप यह भी भूल गये होंगे कि लगभग एक दशक पहले इसी सम्पादक की प्रताड़ना से पीड़ित विनय पुरी पाण्डेय जी की भी जान गयी थी। रात साढ़े आठ बजे दफ्तर से दुखी होकर निकली थीं और बेनिया बाग व गेदौलिया के बीच हार्ट अटैक से उनकी सांस सदा के लिए थम गयी थी। ईश्वर, ऐसी सम्पादक प्रजाति का भला करे।

लेखक योगेश गुप्त पप्पू वाराणसी के निवासी हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं. वे हिंदुस्तान अखबार समेत कई अखबारों में वरिष्ठ पदों पर कार्यरत रहे हैं.

मूल खबर…

इसे भी पढ़ें…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

संपादक पर ठगी के विज्ञापन का दायित्व क्यों न हो?

Vishnu Rajgadia : संपादक पर ठगी के विज्ञापन का दायित्व क्यों न हो? किसी राज्य में भूख से किसी एक इंसान की मौत होने पर राज्य के मुख्य सचिव को जवाबदेह माना गया है। जबकि मुख्य सचिव का इसमें कोई प्रत्यक्ष दोष नहीं। लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने सीधे मुख्य सचिव पर दायित्व सौंपा है ताकि राज्य की मशीनरी दुरुस्त रहे।

इसी तरह, अख़बार में विज्ञापन छपवाकर कोई ठगी की जा रही हो, तो इसकी जाँच करके इसे रोकने का पहला दायित्व उस अख़बार के संपादक पर है। ध्यान रहे कि उसी ठगी के पैसे से विज्ञापन की राशि का भुगतान होता है। यानी ठगी से अर्जित लाभ का शेयर अख़बार को भी मिलता है। ठगी के शिकार बेरोजगार अगर अख़बार से विज्ञापन की राशि की वसूली की मांग करें, तो क्या इज्जत रह जायेगी अख़बार की?

झारखंड के वरिष्ठ पत्रकार विष्णु राजगढ़िया की एफबी वॉल से. कुछ प्रमुख कमेंट्स यूं हैं :

Krishna Mohan आज का संपादक बेबस और लाचार होता है। वह किसी भी विज्ञापन पर रोक नहीं लगा सकता। यदि विज्ञापन पर रोक लगाने की कोशिश करेगा तो उसी समय उसकी छुट्टी हो जायगी। पहले संपादक ने नाम पर अखबार बिकता था। संपादक अखबार का स्टैंडर्ड बनाए रखता था ।विज्ञापन के लिए वह अपने हिसाब से जगह दिया करता था। अब वैसी बात नहीं है। अब यदि संपादक की वजह से विज्ञापन छूट जाएगा तो उस पर कार्रवाई हो जायगी। संपादक हमेशा अपनी नौकरी बचाने के ही चक्कर में लगा रहता है। यही कारण है कि जैकेट टाइप का विज्ञापन प्रचलन में आया है। ऐसी स्थिति में विज्ञापन के लिए सीधे तौर पर प्रबंधक को दोषी माना जाए किसी संपादक को नहीं।

Vishnu Rajgadia : Krishna Mohan jee, संपादक अगर किसी विज्ञापन को रोक नहीं सकता, तब भी वह उस ठगी के विज्ञापन की असलियत बताने वाली खबर तो छाप सकता है न! आखिर उसकी भी कोई सामाजिक जिम्मेवारी है।

शैलेंद्र शांत : प्रबंधक या प्रकाशक पर

Vishnu Rajgadia शैलेन्द्र शांत जी, प्रबंधक और प्रकाशक तो धंधे के लिये ही बैठे हैं। लेकिन संपादक तो नैतिकता और देश हित की बात करता है न!

शैलेंद्र शांत : अब आप तो ऐसा न कहें, सम्पादक खबरों-सम्पादकीय सामग्री के लिये जिम्मेदार होता है। अगर सम्पादक मालिक भी हो तो वह तय कर सकता है।

Vishnu Rajgadia अख़बार में छपे हर शब्द की जिम्मेवारी संपादक पर है। विज्ञापन की भी। यह तो कानूनी बात है। कोई केस कर दे समझ जाएंगे संपादक जी।

शैलेंद्र शांत : इसी से बचने के लिये डिस्कलेमर छापा जाने लगा है !

Vishnu Rajgadia जैसे होटल में खाना में जहर डालकर दे दे और बिल में लिखा हो कि पानी की जाँच आप खुद कर लें?

Anami Sharan Babal एड में क्या छप रहा है इससे मेरे ख्याल से संपादक का कोई लेना देना नहीं होना जरूरी है क्या छप रहा हैयह सरकार का अधिकार है। यहीं पर से तो पत्रकारिता चालू होती है यदि सरकार कोई भी झूठ छपवाने के लिए आजाद है तो संपादक भी अपने रिपोर्टरों को एक निर्देश दे कि हमें इस एड की असलीयत पर खबर चाहिए । यह काम कोई रिपोर्टर स्वत विवेत से या संपादक क्यों नहीं करते । संपादक अपना धर्म अदा करे सब काम सरकार और कोर्ट पर नहीं एक पत्रकार का काम यही तो है कि झूठ को बेपर्दा करे तो करे कौन रोक रहा है। पर यहां पर तो सरकार के खिलाफ लिखते पेशाब आने लगती है कि कहीं एड ना बंद हो जाए तो क्या खाक खाकर लिखएंगे

Bips Ranchi अखबार सिर्फ विज्ञापन पेज पर यह लिखना छोड़ दे कि ”छापे गये विज्ञापन की जाँच कर लें, अखबार की किसी प्रकार की जिम्मेदारी नहीं” तब देखिये

Vishnu Rajgadia इस लिखने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। अगर किसी विज्ञापन के कारण ठगी का शिकार व्यक्ति चाहे तो ठग गिरोह के खिलाफ केस करते हुए विज्ञापन की राशि में से अपनी राशि की वसूली की मांग कर सकता है।

Bips Ranchi गुरु जी मेरा कहना है की “जाँच” रीडर क्यू करे? वो तो अखबार के भरोसे उस विज्ञापन पर भरोसा कर बैठता है. अगर जिमेदार सम्पादक / अखबार नही तो सर्वेयर से सर्ये क्यू करवाते है की कौन अखबार पढ़ते या बूकिँग करवाना चाहते है. स्तर गिर रहा है गुरु जी सभी अखबार है. जैसे की वो बोला जाता है ना… दारोगा का मतलब क्या होता है ? दा रो गा : रो के दा या गा के दा. देना तो होगा. वोही हाल सभी अखबार का है. विज्ञापन चाहे कोई भी हो सिर्फ पैसा आना चाहिये.

Suraj Khanna आपने बिलकुल सही पकड़ा है मेरे ख्याल से अख़बार हम खरीद कर पढ़ते है यानि अखबार एक वस्तु है जिसे मूल्य देकर ख़रीदा गया यानी खरीददार एक उपभोक्ता है अतः उसके द्वारा ख़रीदे गए अखबार के भ्रामक विज्ञापन से कोई ठगा जाता है तो उसे अखबार के विरुद्ध उपभोक्ता फोरम में शिकायत करनी चाहिए साथ ही अख़बार के विरुद्ध मुकद्दमा दर्ज करानी चाहिए।

Vishnu Rajgadia यह भी सही है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मेरठ से छपने वाले बड़े अखबारों के संपादकों में आपस में डील क्या हुई थी, उन्हें बताना पड़ेगा

Yashwant Singh : कल एक फोटो जर्नलिस्ट का फोन मेरठ से आया. वो बोले- भाई साहब, प्रिंट मीडिया के संपादकों ने मीडिया की इज्जत बेच खाई है, आप ही कुछ करो. मैं थोड़ा चकित हुआ. पूरा मामला जब उनने बताया तो सच कहूं, मैं खुद शर्म से गड़ गया. मेरठ में हिंदुस्तान अखबार के फोटोग्राफर को ड्यूटी करने के दौरान पुलिस वालों ने पकड़कर हवालात में बंद कर दिया, फर्जी मुकदमें लिख दिए. लेकिन एक लाइन खबर न तो हिंदुस्तान अखबार में छपी और न ही दूसरे स्थानीय अखबारों में.

पता चला कि हिंदुस्तान के संपादक साहब पुलिस से सेटिंग करने के साथ साथ दूसरे अखबारों से भी सेटिंग करने में सफल रहे. मैंने अपने मित्र और भाई ब्रजेश मिश्रा जी को लखनऊ फोन किया और उनकी सीधी बात मेरठ के फोटोग्राफर साथियों से कराई. ब्रजेश ने दो सेकेंड नहीं लगाया, पूरी खबर उनके चैनल नेशनल वायस पर ब्रेक हो गई और उनने ट्वीटर पर दे दनादन यूपी व मेरठ पुलिस को कठघर में खड़ा कर दिया. दो चार घंटे में ही एक सस्पेंसन हुआ और दूसरे के खिलाफ विभागीय जांच शुरू हो गई…

मतलब ये कि प्रिंट मीडिया वाले दलाली में इतने लिप्त हैं कि इनकी लड़ाई अब टीवी वाले लडेंगे? सारे टीवी वाले नहीं क्योंकि टीवी का भी अधिकतर हिस्सा बिका हुआ है, दलाल है, प्रशासन और पुलिस के तलवे चाटता है. कुछ ही टीवी वाले हैं जो अपने समुदाय बिरादरी का दर्द समझते हैं. ब्रजेश मिश्रा के लिए मैं कह सकता हूं कि जब जब इनसे मैंने पब्लिक काज, जन सरोकार के मामले पर मदद मांगी, उनने फौरन उम्मीद से अधिक सक्रियता दिखाते हुए नतीजा परक मोर्चेबंदी कर डाली. मुझे अफसोस खासकर मेरठ के अखबारों के संपादकों से है जिनने पहले दिन पूरी खबर का ही बहिष्कार कर डाला. क्या वे बताएंगे कि उनने ये सब क्यों किया था?

पूरे मामले को समझने के लिए इसे पढ़ें :

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

देख लीजिए, कैसे-कैसे लोग पत्रकारिता में आकर संपादक बन गए…

Shambhunath Shukla : हमारे एक परिचित पत्रकार थे। पहले चाकूबाज़ के रूप में उनकी प्रतिष्ठा हुआ करती थी फिर एक संपादक की नज़र उन पर पड़ी वे पर पड़ी। उस समय वे किसी को चाकू मार कर भाग रहे थे। संपादक ने पकड़ लिया बोले बेटा मेरे साथ काम कर, चाकू भी चला और कलम भी। पुलिस तुझे छू नहीं सकती। चाकूबाज़ मान गया। फिर एक मालिक ने उसकी काबिलियत को पहचाना और एक ऐसे राज्य में उसे रेजीडेन्ट संपादक बना दिया जहाँ का मुख्यमंत्री घोटालेबाज़ जोकर था।

कलकत्ता में वे पत्रकार महोदय मुझसे मिलने आए। मैंने उन्हें बधाई दी कि उन्होंने अपनी मेहनत से अपना अख़बार चमका दिया। उनका जवाब था कि अख़बार उनकी मेहनत से नहीं लाल लंगोट वाले की कृपा से चमका। मैं समझा नहीं तो वे बोले दरअसल वे भी उसी लाल लंगोट वाले के भक्त हैं और वह जोकर सीएम भी। बस ट्यूनिंग बन गई। उसने मेरा अख़बार चमकाया और मैंने उस जोकर की छवि। ऐसे पत्रकारों और लाल लंगोट वाले को नमन तो करना ही चाहिए।

वरिष्ठ पत्रकार शंभूनाथ शुक्ल की उक्त एफबी पोस्ट पर उत्तर प्रदेश शासन के पूर्व सहायक निदेशक सूचना अशोक कुमार शर्मा की टिप्पणी इस प्रकार है : 

देश में इसी तरह के कई लोग बड़े पत्रकार बने। एक सज्जन मुजफ्फरनगर में गुंडागर्दी किया करते थे बड़े हाहाकारी संपादक बन गए। एक सज्जन मेरठ में सट्टे का कारोबार करते थे बड़े संपादक बन गए। बनारस के एक खलीफा मफलर पहनकर लोगों के रुके हुए काम कराने की सुपारी लेते थे। एक और सज्जन टेंपो चलाया करते थे और उन्हें हिंदी उर्दू का कोई ज्ञान नहीं था वह भी कई अखबार निकालने लगे। एक प्रसिद्ध राजनेता के दोस्त बन गए। एक बड़े अंग्रेज़ी अखबार के दफ्तर के मुख्य द्वार पर सरे आम लंच के वक्त एक मुस्लिम पत्रकार को चाकू घोंपकर मार देने वाले एक साधारण गुंडे ने ब्लैकमेलिंग के लिए मशहूर दो अखबार चलाये और कई पुलिस उच्चाधिकारियों को सम्मानित किया। एक आकर्षक युवक पत्रकार लखनऊ में एक बड़े पत्रकार की मालिश किया करते थे। मौका मिला और खुद भी एक बड़े अखबार के सर्वेश्वर बन गए। जहां तक इन लोगों के उत्थान की बात है फ़क़त मालिकों की कृपा से नहीं बने। अखबारी मालिक की कृपा से कभी कोई टिकाऊ तरक्की नहीं होती सिर्फ ब्रेक मिला करते हैं। मैं अनगिनत पत्रकार गिना सकता हूं। होटल या ढाबा चलाते थे। ड्राई क्लीनिंग किया करते थे। सूनी सड़कों पर रिक्शे तांगे लूटते थे। उठाईगिरी किया करते थे। कालांतर में पत्रकारिता में खलीफा बने। कहीं ना कहीं उन सभी में वह कला मौजूद थी जो पत्रकारिता में कामयाबी दिलाती है। आज की विज्ञापन, कमीशन और दलालीमयी अखबारनवीसी ख़ास जीवट का काम है। इसमें जीदार लोग ही कामयाब हुआ करते हैं। बहुत रोचक बात यह है ना केवल उन सभी लोगों की पत्रकारिता पर भी उनके पुराने धंधों की छाप नजर आती थी। मगर उनसे पत्रकारिता के कई मौजूदा खलीफाओं ने कार्यशैली में गुंडागर्दी, वेश्यावृत्ति, जिस्मफरोशी, उठाईगिरी और मालिशबाजी की कला सीखी है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

शोभा की वस्तु बना संपादक

“आने वाले वर्षों में अखबार बहुत सुंदर होंगे, लेटेस्ट कवरेज होगी, अच्छी छपाई होगी, पर किसी संपादक की हिम्मत नहीं होगी कि वह मालिक की आंख में आंख मिलाकर बात कर सके”।

-बाबूराव विष्णुराव पराड़कर
संपादक हिंदी दैनिक आज
(एक कार्यक्रम के दौरान उनका वक्तव्य)

आज कितने संपादक / स्थानीय संपादक / समूह संपादक होंगे जो मालिक से मिलाकर बात कर सकें। इन संपादकों की जाने दें। किसी समय सहारा मीडिया के एडिटर इन चीफ को ही ले लें। एक समारोह (15 अगस्त या 26 जनवरी) में सुब्रतो राय नोएडा परिसर में आये थे। वे सालों बाद यहां के कार्यक्रम में शिरकत की थी ऐसा अपने संबोधन में कहा था। इसी कार्यक्रम में एडिटर इन चीफ (पद कुछ ऐसा ही था) उपेंद्र राय की जुबान सर सर कहते-कहते थकी नहीं। यही हाल कभी लखनऊ संस्करण के एक संपादक का था। सहारा इंडिया के एक अति बड़े अधिकारी की पत्नी के मैरिज एनवरसरी में जब उनको माइक दिया गया तो उन्होंने फरमाया कि यहां इतने बड़े-बड़े अधिकारी मौजूद हैं कि बोलते हुए पैर कांप रहा है।

एडिटर इन चीफ के बयान का गवाह उस समय का वीडियो फुटेज है तो लखनऊ के संपादक के वक्तव्य की ताकीद रिकार्डिंग से की जा सकती है। वैसे यह इन दोनों को अपमानित करने के लिए नहीं मात्र उदाहरण के लिए है। अब हर संपादक दिलीप पटगांवकर तो होता नहीं। सुना है कि जब नेल्सन मंडेला भारत आये थे तब वे टाइम्स ग्रुप के मालिक से नहीं पटगांवकर जी से मिले थे।

बात मुद्दे की। संपादक शोभा की वस्तु क्यों बनता जा रहा है। इस पद को सुशोभित कर रहे कितने संपादक हैं जो अपनी काबलियत से वहां पहुंचे हैं ? कितने संपादक / स्थानीय संपादक हैं जो संपादकीय लिखते हैं। माना कि आज पत्रकारिता मिशन नहीं, व्यवसाय है, फिर भी अखबार तो अखबार है, और जब अखबार है तो अखबार की तरह निकलेगा। जिस तरह अखबार के मुख्यालयों में स्थापित “सेंट्रल डेस्क” अन्य संस्करणों के संपादकीय विभाग को निगलता जा रहा है उसी तरह समूह संपादक स्थानीय संपादकों को। कुछ अखबारों में स्थानीय संपादक का पद ही नहीं है, जहां है वहां वह शोभा की वस्तु बना है।

शोभा की वस्तु ही बना रहता तो भी गनीमत थी। शोभा की वस्तु वह तब तक था जब अखबारों के एक-दो संस्करण ही निकला करते थे। आज से लगभग 30-35 साल पहले एक ही दो साल पहले एक अखबार एक-दो शहर से ही निकलते थे। या यूं कहें कि शहर का अखबार हुआ करता था। मसलन बनारस का आज, इलाहाबाद का भारत, कानपुर का दैनिक जागरण, लखनऊ का स्वतंत्र भारत और बरेली का अमर उजाला। यही नही अखबार तब संपादक के नाम से जाने जाते थे। पराड़कर जी का ‘आज’ अखबार था तो मालवीय जी का ‘लीडर’। यह परंपरा राजेंद्र माथुर और प्रभाष जोशी तक चली।

कमलेश्वर जी ने भी अपनी पहचान छोड़ी। ध्यान देने वाली बात यह है कि कमलेश्वर से शुरू हुआ राष्ट्रीय सहारा 10-12 साल तक रणविजय सिंह के कंधों पर टिका रहा। सहारा के पहले कमलेश्वर दैनिक जागरण में थे तो सहारा के बाद मुजफ्फरनगर से निकलने वाले छोटे से अखबार शाह टाइम्स (जो खबरे छुपाता नहीं छापता है गोया बाकी सब पिछवाड़े डाल लेते हैं) में। कहने का मतलब यह कि आज अखबार को , अखबार मालिकों को कमलेश्वरों की जरूरत नहीं है। रणविजय सिंह जैसे लोग ही काफी हैं। दिल्ली के एक बड़े अखबार के वरिष्ठ स्थानीय संपादक 1991 में इलाहाबाद से शाम को छपने वाले जनमोर्चा अखबार में रिपोर्टर थे तो उसी अखबार में उन्हीं के साथ उसी पद पर काम करने वाले व्यक्ति की उप संपादक पद से नौकरी छूटी।

बात फिर मुद्दे कि, इसलिए कि अक्सर मैं मुद्दे से दांये-बांये चला जाता हूं। संपादक शोभा की वस्तु क्यों बनता जा रहा है। अखबारों का दायरा बढ़ता जा रहा है, तहसील दर तहसील संस्करण निकलते जा रहे हैं लेकिन पाठकों की संख्या/पढ़ने की प्रवृत्ति कम होती जा रही है। अखबारों और खबरों के स्वरूप बदलने के साथ ही संपादकों का महत्व भी कम होता जा रहा है। पराड़कर जी का कहा सच साबित हो रहा है। अखबार सुंदर निकल रहे हैं लेटेस्ट कवरेज हो रही पर किस संपादक/समूह संपादक की औकात है कि वह शोभना भरतिया, संजय मोहन, सुब्रतो राय, शार्दुल विक्रम गुप्त या राजुल महेश्वरी (हालांकि राजुल जी हैं बहुत सज्जन) से आंख में आंख डालकर बात कर सके। बावजूद इसके ” सभी नदियां बंगाल की खाड़ी में नहीं गिरतीं।

अरुण श्रीवास्तव
देहरादून।
+918881544420
+917017748031

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

इन संपादकों की वजह से जाने कितने मीडियाकर्मियों के घर बर्बाद हो रहे हैं

भड़ुआगिरी करनी है तो अखबार में नहीं कोठे पर करो… : मजीठिया मांगने पर अभी तक दैनिक जागरण व राष्ट्रीय सहारा में बर्खास्तगी का खेल चल रहा था अब यह खेल हिन्दुस्तान में शुरू हो गया है। इस खेल में मालिकों से ज्यादा भूमिका निभा रहे हैं वे संपादक जो बड़ी-बड़ी बातें करते हैं और लिखते हैं। कमजोरों की लड़ाई लड़ने का दावा करने वाले ये लोग कितने गिरे हुए हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिन कनिष्ठों के बल पर इन लोगों न केवल मोटी कमाई की बल्कि नाम भी रोशन किया अब ये लोग न केवल उनका उत्पीड़न कर रहे हैं बल्कि नौकरी तक से भी निकाल दे रहे हैं। किसके लिए ? मालिकों का मुनाफा व इनकी दलाली कम न हो जाए। आपके कनिष्ठों के बच्चे भले ही भूखे मर जाएं पर आप और आपके मालिकों की अय्याशी में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। मीडिया की हालत देखकर मुझे बहुत तल्ख टिप्पणी करनी पड़ रही है।  मजबूर हूं। अरे यदि भड़ु्रआगिरी ही करनी है तो किसी वैश्या के कोठे पर जाकर करो। कम से कम मुहर तो लगी रहेगी।

पेशा पकड़ रखा है देश व समाज सेवा का और काम कर रहे हो देश व समाज के दुश्मनों का। यदि आप लोग मीडियाकर्मियों की लड़ाई नहीं लड़ सकते हो तो उनका उत्पीड़न तो मत करो। मैं पूछता हूं कि इन संपादकों से आप लोगों में से ऐसे कितने संपादक हैं, जिनकी नौकरी चली जाएगी तो उनके बच्चे भूखे मर जाएंगे। अरे बहुत मार लिया अपने कनिष्ठों का हक। अब यदि मीडियाकर्मियों के हक में क्रांति का माहौल बना है तो इस महायज्ञ आहुति नहीं देनी है तो मत दीजिए पर पानी तो मत डालिए। मैं इन अधिकारियों के बीबी-बच्चों व रिश्तेदारों से भी पूछता हूं, क्या आप लोगों का भी जमीर नहीं जाग रहा है? आपको पता इन संपादकों की वजह से कितने घर बर्बाद हो रहे हैं? पीड़ितों की आह से निकली कमाई से अपने बच्चों का भविष्य कैसे संवारोगे। यह कितना बड़ा धोखा है कि अखबारों में इन संपादकों के लेख पढ़कर कितने लोग इनसे कितनी उम्मीदें लगाते होंगे। ये लोग अपने लेख में तो बड़ी-बड़ी बातें लिखते हैं पर इनकी सोच बहुत छोटी है। देश की सर्वोच्च संस्था सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पीड़ित शोषित मीडियाकर्मियों को मजीठिया वेतनमान देने को तैयार नहीं। जो मांग रहे हैं उन्हें बर्खास्त कर दे रहे हैं।

राष्ट्रीय सहारा में मजीठिया तो मिला ही नहीं, साथ ही 12 -15 महीने की सेलरी बकाया है। कुछ साथियों ने हिम्मत कर हक की आवाज उठाई तो कुछ गद्दार कर्मियों की वजह से उन्हें संस्था से बाहर होना पड़ा। ये लोग यह भूल रहे हैं कि उन आंदोलनकारियों की वजह से ही वातानुकूलित आफिस में काम कर रहे इन कर्मियों को कई महीने से नियमित रूप से वेतन मिल रहा है। जो वेतन आधा मिलने लगा था वह पूरा इन लोगों ने कराया। तमाशबीन कर्मियों को यह समझना होगा कि मीडिया में अन्याय के खिलाफ आवाज बुलंद हो चुकी है। चिंगारी रूपी यह आवाज जब आग बनेगी इसकी चपेट में कौन-कौन  आएगा यह तो समय ही बताएगा पर सुप्रीम कोर्ट ने एक समय दिया है जिसका हम लोग फायदा उठाएं।

मैं उन साथियों से कहता हूं जो बंधुआ मजदूरों की तरह सिर नीचे कर चुपचाप काम कर रहे हैं। भाईयों जो लड़ता है वह पाता है। मजीठिया भी उन्हें ही मिलेगा जो लड़ेगा ? जो बर्खास्त साथी मजीठिया की लड़ाई लड़ रहे हैं वे तो अप हक पा ही लेंगे पर आप लोग उनसे कैसे निगाह मिला पाओगे? सुप्रीम कोर्ट का आदेश है तो डरना क्या ? हर लड़ाई में थोड़ी बहुत परेशानी तो पड़ती ही है। मेरा अनुभव रहा है कि सच्चाई की लड़ाई लड़ने वाले को भगवान ऐसी ताकत दे देता है, जिसके बल पर वह सभी बाधाओं को पार कर लेता है। जरा सोचो जो साथी मजीठिया की लड़ाई लड़ रहे वे बेरोजगार हैं, तब भी लड़ भी रहे हैं। अपने बच्चे भी पाल रहे हैं और तरह-तरह की परेशानियों से भी जूझ रहे हैं। तो हम लोग आज से ही संकल्प लें कि दूसरों की लड़ाई लड़ने दंभ भरने वाले हम मीडियाकर्मी अब अपनी लड़ाई भी लड़ेंगे।

चरण सिंह राजपूत
वरिष्ठ पत्रकार
charansraj12@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

लीजिए, तैयार हो गया ‘संपादक चालीसा’ …मीडिया में श्योर शाट सफलता की कुंजी

हिंदी मीडिया में कुछ साल काम करने के बाद मैंने अनुभव के आधार पर हनुमान चालीसा की तर्ज पर यह संपादक चालीसा लिखी है… इसके नियमित वाचन से वे कनफ्यूज लोग जो नहीं समझ पाते कि आखिर उनका दोष क्या है, सफलता के पथ पर निश्चित ही अग्रसर हो सकेंगे… यह संपादक चालीसा मीडिया में श्योर शाट सफलता की कुंजी है इसलिए इसका रोजाना वाचन और तदनुसार पालन अनिवार्य है… आइए इस रचना के पाठ के पहले सामूहिक रूप से कहें- आदरणीय श्री संपादक महाराज की जय….

संपादक चालीसा

-राजीव सिंह-

जय संपादक अज्ञान गुन सागर
मैनेजर बने तुम्ही हो आकर

मालिक दूत अतुलित बल धामा
डंडा डाल के करावे कामा

मीडिया के तुम हो बजरंगी
सुमति निवार कुमति के संगी

कंचन बरन चमकत केसा
कई गुना तुम पावे पैसा

हाथ जॉब की ध्वजा बिराजै
जिसको चाहे उसको भगावै

मूर्ख चापलूस चूतिया नन्दन
सब करते हैं तेरा बंदन

विद्याहीन अगुनी अति चातुर
मालिक काज करिबे को आतुर

त्रिया चरित्र सुनिबे को रसिया
ऑफिस में लेडी मन बसिया

महान रूप धरि करे दिखावा
नीच रूप धरि कंपनी डूबावा

रौद्र रूप धरि कर्मी संहारे
अपना प्रमोशन काज संवारे

लाय प्लान कंपनी जियाये
मालिकन को चूतिया बनाये

अच्छे काम की करै न बड़ाई
एक गलती पर चीखता भाई

डर से सब तुम्हरो जस गावैं
पीछे में गाली कण्ठ लगावैं

सबको तुमने है ऐसा पीसा
गधे जैसा दस घंटे घीसा

तुम कुबेर दिगपाल जहां के
कोई तेरे आगे टिके कहां से

तुम उपकार सब पर कीन्हा
बदले में कम वेतन दीन्हा

तुम्हरो मंत्र मालिकन माना
कंपनी चली सब जग जाना

जुग सहस्र झूठी खबर तानु
पेड न्यूज मधुर फल पानु

कपट फरेब धरि मुख माहीं
हदें लांघ गए अचरज नहीं

नीच काज तुम कितने करते
तभी तो मालिक पैसे देते

उनके दुआरे तुम रखवारे
करत न काम बिनु पैसा रे

सब कोई लहै तुम्हारी सरना
तुम रच्छक काहू को डर ना

दूजो क्रेडिट सम्हारो आपै
सहकर्मी कुछ कहते कांपै

भूत पिसाच निकट नहीं आवै
संपादक जब नाम सुनावै

होवे रोग भरै सब पीरा
इतना खटावै संपादक बीरा

संकट से तें तुम ही छुड़ावै
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै

सब पर हैं वो मालिक राजा
तिनके काज सकल तुम साजा

और मनोरथ जो कोई लावै
सोई बहुत कड़वा फल पावै

ऑफिस में परताप तुम्हारा
जिसको जब चाहा फटकारा

कामचोरों के तुम रखवारे
असुरनंदन मालिक दुलारे

धूर्तसिद्धि नौ निधि के दाता
जाने कितने बैंक में खाता

कपट रसायन तुम्हरे पासा
सदा रहौ मालिक के दासा

तुम्हरो भजन प्रमोशन पावै
जनम जनम के दुख बिसरावै

अंतकाल जहां भी वो जाई
वहां जन्म बॉसभक्त कहाई

और किसी को चित्त न धरई
संपादक सेइ सर्ब सुख करई

संकट कटै मिटै सब पीरा
जो सुमिरे संपादक बलबीरा

जय जय जय संपादक गोसाईं
कृपा करहु मालिक के नाईं

जो सत बार पाठ कर कोई
ऑफिस में महासुख होई

जो यह पढ़ै संपादक चालीसा
होय सिद्ध नौकर हीरा सा

राजीवदास सदा ही चेरा
कीजै नाथ हृदय महं डेरा

इस संपादक चालासी के रचयिता युवा पत्रकार Rajeev Singh हैं जिनसे संपर्क newrajeevsingh@gmail.com के जरिए किया जा सकता है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पढ़िए टीवी चैनलों के संपादकों ने राजनाथ सिंह को जो ज्ञापन सौंपा, उसमें क्या लिखा है….

Press Release

BEA Delegation Meets Home Minister Over Manhandling of Journalists

New Delhi : Delegation of Editors of TV channels met the Home Minister Rajnath Singh and gave this memorandum.Those present included: Ms. Barkha Dutt, Ms. Sonia Singh, Mr. NK Singh, Mr. Shazi Zaman, Mr. Dibang, Mr. Vinay Tewari, Mr. QW Naqvi, Ms. Navika Kumar, Mr. Deepak Chaurasia, Mr. Satish K Singh, Mr. Supriya Prasad and Mr. Sanjay Bragta.

To,
Shri. Rajnath Singh,
The Honorable Union Home Minister,
New Delhi.

Subject: Manhandling of media persons in Patiala House Court premises

Dear Rajnath Ji,

The manhandling of Journalists in the Patiala court premises is a matter of serious concern for the Broadcast Editors’ Association (BEA). The journalists had gone to cover the court proceedings following the arrest of Jawaharlal Nehru University Student Union President with valid passes. Despite their identifying themselves, they were subjected to physical assault by a group of people in black coats supported by some unknown persons.  It carries ominous signs as it is not only a pre-meditated assault on journalists but also on roots of democracy.

You will agree with us that democratic institutions cannot remain oblivious of this incident which is a wanton attempt at crushing the freedom of expression guaranteed by our Constitution. 

In view of these developments the BEA demands a judicial probe into the incident and calls upon the government to take exemplary steps against the culprit so that such incidents do not occur in future.

Any laxity on the part of the Government will send wrong signals to elements working against the spirit of democracy.

Warm regards,

Shazi Zaman
President                                        
N.K.Singh
​General Secretary

www.beaindia.org
Broadcast Editors’ Association is the apex body of Editors of National & Regional TV News channels of India

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

संपादक नाम के प्राणी…. आखिर तुम कहां खो गए हो!

एक जमाना था जब किसी भी अख़बार या पत्रिका की पहचान उसके संपादक के नाम से होती थीl  धर्मवीर भारती धर्मयुग की पहचान थे तो साप्ताहिक हिंदुस्तान यानी श्याम मनोहर जोशी थेl सारिका कमलेश्वर के नाम से जानी जाती थी तो दिनमान की पहचान रघुवीर सहाय के नाम से होती थीl यही हाल अखबारों का था। इंडियन एक्सप्रेस को अरुण शौरी के नाम से पहचान मिलती थी तो टाइम्स ऑफ़ इंडिया में दुआ साहब ही सब कुछ थेl बहुत पहले बंद हो गई इलस्ट्रेटेड वीकली का तो वजूद ही खुशवंत सिंह के नाम पर थाl पराग के संपादक कन्हैया लाल नंदन थे तो कादम्बिनी राजेन्द्र अवस्थी के नाम से जानी और पहचानी जाती थीl किसी अखबार या पत्रिका के मालिक को कोई जाने या न जाने पर उसके संपादक की पहचान किसी की मोहताज नहीं थीl उस ज़माने में मालिक संपादक से बात करने में भी हिचकिचाते थे, उनके काम में दखलंदाजी की बात तो दूर की बात हैl

वक़्त बदला और वो संपादक नाम का प्राणी कार्पोरेट जगत के झमेले में कहीं खो गयाl अब किस अखबार का कौन संपादक है, वो कितने दिन वहां रहेगा, कब उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा, न तो वो जानता है ना ही मालिकl जिस दिन मालिक को लगता है कि संपादक उनके लिए पैसा कमा कर नहीं ला पा रहा है, उसी दिन उस गरीब की कुर्सी चली जाती है क्योंकि अब अख़बार के मालिकों को संपादक नहीं बल्कि एक ऐसा मैनेजर चाहिए होता है जो सम्पादकीय तो देखे ही, साथ में सरकार में उनकी लायजनिंग करे, उनके फल फूल रहे दूसरे धंधों को बचाने में अपने सम्पर्कों का प्रयोग करे। उससे अपेक्षा की जाती है कि वो मैनेमेंट भी देखे, विज्ञापन लाये, सर्कुलेशन देखे, रिकवरी के लिए भी कोशिश करे यानी पीर बाबर्ची भिश्ती खर वो सबकुछ हो तब तो वो संपादक के रूप में टिक सकता है वरना ये माना जाता है कि वो किसी काम का नहीं है।

पहले जर्नलिज्म हाउसेस हुआ करते थे जो सिर्फ और सिर्फ अखबार निकाला करते थे। उनका उद्देश्य समाज की सेवा और भूमिका वाच डॉग की होती थी। यही कारण था कि ऐसे विद्वान व्यक्ति संपादक के पद पर बैठाये जाते थे जिनका अपना एक व्यक्तित्व हुआ करता था। उनके सामने राजनेता उद्योगपति बैठने का साहस नहीं करते थे क्योंकि वे न तो कभी अपने लिए और न ही अपने मालिकों के लिए उनके दरवाजे जाते थे। उनकी लिखी गयी टिप्पणियों से देश में एक माहौल बनता था। आंदोलन खड़े हो जाते थे। वे जनता की आवाज बनकर सामने आते थे। शायद इसलिए कहा गया  था कि जहां तोप मुक़्क़मल न हो तो अखबार निकालो पर अब न तो वैसे अख़बार हैं न वैसे संपादक। अब अखबार की उम्र सुबह सात बजे से लेकर नौ बजे तक की रह गयी है।

किसका दोष मानें इसके लिएl मेरा जो अनुभव अखबारी जगत में है, उसने यही बताया है कि अब पत्रकारों को एक बैनर की जरूरत है। जब वो मालिकों के लिए लाइजनिंग करता है तो अपने भी स्वार्थ उसी बहाने पूरा कर लेता है। इसी बहाने अफसरों नेताओं से परिचय भी हो जाता है। मालिक के कामों को वो अपनी ड्यूटी में शामिल कर लेता है। मालिक के धंधों की देखरेख करना, उसमें कोई रुकावट ना आये, वो उसकी सबसे बड़ी प्राथमिकता होती है। इसमें एक मुद्दा और भी है कि अब अख़बार निकालना और उसे चला पाना इतना खर्चीला है कि कोई आम पत्रकार इस बात की कल्पना भी नहीं कर सकता कि वो भी कभी कोई अखबार निकाल सकेगाl 

जो छोटे मोटे अखबार निकलते भी हैं वे बड़े मगरमच्छों के सामने कहीं टिक नहीं पातेl दुनिया में अखबार एकमात्र ऐसा उत्पाद है जो अपने उत्पादन मूल्य के आधी कीमत से भी कम में बिकता है वरना दुनिया में ऐसा कोई उत्पाद नहीं है जिसमें उसका उत्पादनकर्ता अपना लाभ न जोड़ता हो। पर अख़बारों की प्रतिस्पर्धा ने अब उसे शुद्ध प्रोडक्ट बना कर रख दिया है। कोई पाठकों को कार दे रहा है तो कोई मोटर साईकल इनाम में बाँट रहा है। हर महीने घी पापड़ अचार बेड शीट गिलास चाय की पत्ती जैसी चीजें पाठकों को दी जा रही है। यही कारण है कि अब न तो पाठकों को इस बात से कोई मतलब है कि किस अख़बार में क्या छप रहा है, कौन सा अखबार किन मुद्दों को मजबूती से उठा रहा है। अब पाठक की निगाह में सबसे अच्छा अख़बार वो होता है जिसकी महीने के अंत में खासी रद्दी निकले और हर महीने इनाम में कुछ मिले। ऐसी स्थिति में संपादक का होना या न होना किसी अखबार के लिए कोई मायने नहीं रखता। कुछ और साल बीतेंगे जब संपादक का पद ही ख़त्म कर दिया जाएगा। यही चलता रहा तो वो दिन बहुत दूर नहीं है।

लेखक चैतन्य भट्ट जबलपुर के वरिष्ठ पत्रकार हैं. उनसे संपर्क उनके मोबाइल नंबर 09424959520 के जरिए किया जा सकता है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

उम्रदराजी की छूट अगर नीलाभ को मिली तो वागीश सिंह को क्यों नहीं?

Amitesh Kumar : हिंदी का लेखक रचना में सवाल पूछता है, क्रांति करता है, प्रतिरोध करता है..वगैरह वगैरह..रचना के बाहर इस तरह की हर पहल की उम्मीद वह दूसरे से करता है. लेखक यदि एक जटिल कीमिया वाला जीव है तो उसका एक विस्तृत और प्रश्नवाचक आत्म भी होगा. होता होगा, लेकिन हिंदी के लेखक की नहीं इसलिये वह अपनी पर चुप्पी लगा जाता है. लेकिन सवाल फिर भी मौजूद रहते हैं.

नीलाभ जी को रंग प्रसंग का संपादक बनने की बधाई. वैसे इससे क्या फ़र्क पड़ता है कि अजित राय को एक बकियौता अंक का संपादन मिलने से वे क्षुब्ध थे. वैसे क्षुब्ध तो वो रानावि प्रशासन के रुख से भी थे जिसने, बकौल उनके, उनके संपादन में निकलने वाले दूसरे अंक की तैयारी के समय दिखाया था. और वह अंक भी क्या था! उसमें संपादक ने नाट्य आलेख के बारे में जो बचकाने सवाल पूछे थे उनकी चर्चा का ये समय नहीं है. ये बधाई का वक्त है. क्या हुआ कि नामवर सिंह के पैनल में रहते हुए भी वे संपादक बन गये, क्या हुआ कि उनकी उम्र सत्तावन से खासी अधिक है. लोगों को हैरत होती है तो होती रहे. उन्हें बधाई.

बधाई की बारी आती है अब राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय की जिसने ये साबित किया कि युवा पीढ़ी में कोई भी रंग प्रसंग का संपादक बनने के योग्य नहीं है. लेकिन उम्रदराजी की छूट अगर नीलाभ को मिली तो वागीश सिंह को क्यों नहीं? क्योंकि उनके संपादन में निकलने वाले दो रंग प्रसंग के अंक में एक दृष्टि थी, एक योजना थी. तभी तो अभिनय वाला अंक दुबारा छपा.

थिएटर से जुड़े और शोध छात्र अमितेश कुमार के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

ज़ी मीडिया के अंग्रेजी चैनल के मुख्य संपादक बने रोहित गाँधी

ज़ी मीडिया कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने घोषणा की है कि वह अंग्रेजी न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र में भी प्रवेश करेगा। रोहित गाँधी अंग्रेजी न्यूज़ ब्रॉडकॉस्टिंग व इससे जुड़े कार्यक्रमों के प्रमुख संपादक होंगे। रोहित गाँधी बिज़नेस हेड व रेवन्यू रिसोर्सेस के साथ कार्य करते हुए, इससे जुड़ी सभी गतिविधियों की जिम्मेदारी वहन करेंगे और पुनीत गोयनका को रिपोर्ट करेंगे। रोहित गाँधी का मीडिया के क्षेत्र में 40 देशों का 23 वर्ष का लंबा अनुभव है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

धनबाद प्रभात खबर के स्थानीय संपादक को पितृशोक

प्रभात खबर के स्थानीय संपादक अनुराग कश्यप के पिता अशोक कुमार सिंह (65) का शनिवार को हृदय गति रुकने से निधन हो गया. बेचैनी की शिकायत के बाद परिजन उन्हें डॉक्टर के पास ले जा रहे थे. इसी क्रम में धनबाद के गया पुल के समीप उनकी तबीयत बिगड़ गयी और निधन हो गया. 

अशोक कुमार सिंह बीसीसीएल से अवकाश प्राप्त थे. उनके निधन की खबर से क्षेत्र में मातम छा गया. भौंरा में उनके निवास स्थान पर अंतिम दर्शन के लिए धनबाद के पूर्व सांसद ददई दुबे, मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल, पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह, अशोक मेहता, सुग्रीव सिंह, सुबोध सिंह समेत कई गण्यमान्य व्यक्ति पहुंचे. उनका दाह संस्कार मोहलबनी घाट पर किया गया. मुखाग्नि उनके बड़े पुत्र अनुराग कश्यप ने दी. स्व. सिंह मृदुभाषी, मिलनसार व धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति थे. उनके पिता नागेंद्र प्रसाद सिन्हा भौंरा कोलियरी प्रबंधक थे. स्व अशोक कुमार सिंह सिवान जिला के दरौली थाना क्षेत्र के कृष्णपाली गांव के निवासी थे. वह अपने पीछे पत्नी विद्या सिंह, दो पुत्र अनुराग कश्यप व अभिषेक कश्यप (साहित्यकार), भाई डॉ रवींद्र कुमार सिंह (वरीय पत्रकार), बहन उमा देवी, भभु मांडवी सिंह, भतीजा सौरव कश्यप, भतीजी सुरभि कश्यप समेत भरा-पूरा परिवार छोड़ गये हैं. 

घाट पर शोक सभा कर उनकी आत्मा की शांति के लिए पांच मिनट का मौन रखा गया. शव यात्रा में काफी संख्या में पत्रकार, नेता, अधिवक्ता व गण्यमान्य लोग शामिल थे. इनमें धनबाद विधायक राज सिन्हा, निरसा विधायक अरूप चटर्जी, सूबे के मंत्री अमर बाउरी, पूर्व मंत्री ओपी लाल, पूर्व मंत्री मथुरा प्रसाद महतो, कांग्रेस नेता संतोष कुमार सिंह, शमशेर आलम, ललन चौबे, काली चरण यादव, पार्षद शिव कुमार यादव, एसके शाही, रुस्तम अंसारी, रितेश गुप्ता, इंद्र कुमार दुबे, इंद्रनील सिन्हा, समाजसेवी मौसम महांति, प्रभात खबर धनबाद के यूनिट हेड आशीष प्रसाद सिंह, अजय सरकार, चंद्रशेखर सिंह, पत्रकार अजय सिन्हा, संजीव झा, उमा, सुनील तिवारी, अभय कुमार, धर्मेंद्र गुप्ता, नारायण मंडल, सुधीर सिन्हा, परमेश्वर बारी, कुमार राजन, विजय कश्यप, रवि मिश्रा, उमेश श्रीवास्तव, रंजीत सिंह, ललन सिंह, राजेंद्र प्रसाद, विनय कुमार बारी, रतन मिश्रा, मनोज सिंह, कुलवंत सिंह, मनोहर ठाकुर, मुख्तार अहमद, राजीव शुक्ला, सुधीर पांडेय, विष्णुकांत तिवारी, उमेश कुमार, रमेश सिंह, राहुल सिंह, उमेश सिंह, बलराम दुबे, आसीम जफर, सुनील सिंह, मिलिंद, दीपक पांडेय, दीपक दुबे, अतीक अहमद, हरिराम अग्रवाल, सुरेश अग्रवाल, चंदन चौधरी, निर्मल, सुबोध वर्मा, गुड्डू वर्मा, सुशील झा, सुधीर कुमार आदि प्रमुख थे.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

वाराणसी सहारा के संपादक को गुस्साए कर्मियों ने घंटों उनके केबिन में घेरा, जमकर नोकझोक

वाराणसी राष्ट्रीय सहारा के संपादक स्नेह रंजन के उत्पीड़न से आजिज आये संपादकीय विभाग के कर्मचारियों का गुस्सा आखिरकार फूट ही पड़ा। आक्रोशित कर्मचारियों ने घंटों संपादक को उनके ही केबिन में घेरे रखा। इस दौरान दोनों पक्षों में जमकर नोकझोक हुई। गनीमत यह रही की मारपीट नहीं हुई। कर्मचारियों ने पूरे मामले की जानकारी मीडिया हेड राजेश सिंह को दे दी है । 

जानकारी के अनुसार  संपादकीय विभाग में कार्यरत विवेक सिंह, बाबूराम, अशोक चौबे और राकेश यादव के वेतन का अच्छा खासा हिस्सा संपादक ने कटवा दिया । जब लोग दिल्ली से आये सहकर्मी कौशल किशोर के नेतृत्व में अपने संपादक जो कभी उन्हीं के साथ काम कर चुके थे से अपनी फरियाद लेकर पहुंचे तो वे आग बबूला हो गए और उल्टे इन कर्मचारियों पर ही हाजिरी वाले रजिस्टर को फाड़ देने का आरोप लगाया । 

सूत्रों का कहना है कि हाल में हुई हड़ताल से संपादक स्नेह रंजन कुछ अगुवा लोगों से खुन्नस खाये थे । इन्होंने अपने चिंटू से रजिस्टर का पन्ना फड़वा दिया और तोहमत हड़ताल करने वालों पर लगवा दिया । १२ अगस्त की शाम संपादक ने इसे मुद्दा बनाया भी लेकिन कामयाबी नहीं मिली तो तबीयत खराब होने का बहाना बनाकर उस दिन निकल गए थै । 

सूत्रों का कहना है कि इन्होंने एच आर हेड पल्लवी पांडेय को अपनी ओर कर लिया और नई होने के कारण वह भी संपादक की भाषा बोलने लगी। 

संपादक का घेराव करने वालों में कपिल सिन्हा , एसपी सिंह , मणिशंकर ,  विनोद शर्मा सहित वे चारो संवाद सूत्र शामिल थे जिनका पैसा काटा गया । यहाँ यह बताना जरूरी है कि इन संवाद सूत्रों से काम तो एक कर्मचारी की तरह लिया जाता है लेकिन दिया बहुत ही कम जाता है । सात साल तक काम करने वाले विवेक सिंह का मानदेय ७५०० है इनका २५०० रुपये काट लिया गया इसी तरह बाबूराम का भी १५सौ रुपये अति विद्वान संपादक स्नेह रंजन ने कटवा दिया । ये वही स्नेह रंजन हैं जिन्हें तत्कालीन ब्यूरो चीफ राजीव सिंह ले आए इन्होंने अधिकारियों को तेल लगाकर उन्हें ही बाहर करा दिया।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

राजस्थान पत्रिका लखनऊ के संपादक बने महेंद्र सिंह

राजस्थान पत्रिका रायपुर (छत्तीसगढ़) के संपादक महेंद्र प्रताप सिंह का तबादला यूपी में हो गया है। उनको लखनऊ का संपादक बनाया गया है।

राजस्थान पत्रिका उत्तर प्रदेश में अपने डिजिटल, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मिडिया का विस्तार कर रहा है। वरिष्ठ पत्रकार श्री सिंह छत्तीसगढ़ में पत्रिका की लांचिंग के समय से जुड़े रहे हैं। बिलासपुर में भी इन्होंने संपादक रहते हुए पत्रिका को नई उंचाई दी थी। छत्तीसगढ़ में पत्रिका की कोर टीम के सदस्य रहे श्री सिंह की पहचान निष्पछ, बेबाक और तेज तरार पत्रकार की है। छ्त्तीसगढ़ में अपनी धारदार खबरों और जनसरोकार पत्रकारिता की वजह से पत्रिका 5 साल के भीतर ही नंबर 1 के पायदान पर पहुंच गया। श्री सिंह अच्छे टीम लीडर हैं। इन्हे अख़बारों की लांचिंग का अक्सपर्ट माना जाता है। छत्तीसगढ़ में पत्रिका की लांचिंग के पहले श्री सिंह राष्ट्रीय सहारा के पटना, देहरादून और कानपुर जैसे संस्करणों की सफल लांचिंग करा चुके हैं।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

न्यायालय का चाबुक चला न संपादकजी! तो आप भी ‘त्राहिमाम’ करते नजर आएंगे

प्रदेश में नंबर वन का दावा करने वाले अखबार के पहले कॉलम में छपे एक लेख का शीर्षक है- त्राहिमाम् ! लेख में पत्रकारिता के स्वयंभू पुरोधा कहलाने वाले इन महोदय ने जिस प्रकार से सरकार और सरकारी कर्मचारियों पर तंज कसे हैं, काबिले तारीफ है। 

तंज कसें भी क्यों न ? मामला जो न्यायालय की अवमानना का है। लेख में उनकी लेखनी ने बड़ी बड़ी बातें कही हैं। कहीं वे कर्मचारियों की पूरी जमात को डूब मरने की सलाह देते नजर आ रहे हैं तो एक जगह लिखते हैं- “छोटी अदालतों के फ़ैसले तो सरकार पान की तरह चबा जाती है।” 

मगर ज़नाब आप तो सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को भी पान में डालने वाली सुपारी से ज्यादा नहीं समझते। क्या मैं गलत कह रहा हूँ ? इसलिए आपकी कलम से ऐसी बातें शोभा नहीं देती हैं। सभी अखबारों सहित आपके संस्थान ने भी अभी तक मजीठिया वेतन आयोग की सिफारिशों को आज तक लागू नहीं किया है, जबकि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को एक साल से ज्यादा का समय हो गया है। आप जिस प्रकार से कर्मचारियों का दमन कर रहे हैं, जिस दिन जनता को पता चला और न्यायालय का चाबुक चला, आप भी त्राहिमाम्, त्राहिमाम् करते नज़र आयेंगे।

कुलदीप सिद्धू के एफबी वाल से

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सम्पादकजी क्या वाकई इतनी महिलाओं के साथ सोए भी होंगे या सिर्फ बहबही में झूठ बोले!

परसों पूरे देश में राष्ट्रीय शोक था। संयोग से परसों ही साहित्य के राष्ट्रीय धरोहर नामवर सिंह जी का जन्मदिन भी था। राजकमल प्रकाशन द्वारा इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में डॉ नामवर सिंह के जन्मदिन को डॉ कलाम के शोक से बड़ा साबित करते हुए एक रंगीन और तरल-गरल पार्टी रख दिया गया। कई पहुंचे, क्या पत्रकार एवं क्या साहित्यकार। शायद नामवर जी नहीं पहुंचे या पहुंचे भी हों तो थोड़े समय के लिए ही पहुचे हों। 

रात चढ़ी और दारु का दौर चला तो सबसे पहले लुढके लोकतंत्र के चौथे खम्भे के सबसे निष्पक्ष पहरेदार। इसी क्रम में शराब का नशा अब शवाब बनकर आँखों में तैरा फिर जुबान पर आ गया। बात बढ़ी तो आगे तक गयी और साहित्य एवं पत्रकारिता की परतों पर धूल जमाने वाले लोग नशे में खुरचने लगे साहित्य और पत्रकारिता की परतों को। जनसत्ता के एक सम्पादक जो अब विदा होने वाले हैं, ने यह गिनाना शुरू किया कि वे अबतक किसके-किसके साथ रातें बिता चुके हैं। अपनी रातों के साहित्यिक हमबिस्तर साथियों के क्रम में साहित्य जमात की कई महिलाओं का नाम भी लिया गया। 

वैसे महिलाओं का नाम लेना यहाँ उचित नही है। साहित्य जगत के मिसाइलमैन के जन्मदिन में प्रायोजित पार्टी अंत तक शराब के नशे और शवाब की चर्चा के बीच वो पार्टी सम्पादक जी के पिटाई के बीच शोक में ही बदल गयी। हालांकि जनसत्ता के इतिहास में ये पहला मौका होगा जब कोई सम्पादक अपने विदाई से तीन दिन पहले इस तरह पिटा होगा। हालांकि एक सवाल मेरे मन में है कि ये सम्पादक जी क्या वाकई इतनी महिलाओं के साथ सोये भी होंगे या सिर्फ बहबही में झूठ बोल रहे थे? वो महिलायें स्पष्ट कर सकती हैं।

शिवानन्द द्विवेदी सहर के एफबी वाल से


उपरोक्त स्टेटस पर जनसत्ता के संपादक ओम थानवी की टिप्पणी पढ़ें:

‘अफवाहें उड़ाने वालो, देख लेंगे, तुम्हारे दुष्प्रचार में ताकत है या हमारे सच में’

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

संपादक ने ना ढूंढा तिन पाइयां, इंटरव्यू में रिपोर्टर फेल

बहुत सोचा कि इस पोस्ट को लिखूं या न लिखूं। पर दिल नहीं माना, शेयर करता हूं। वाकया हमारे एक पत्रकार मित्र से जुड़ा है। इंटरव्यू देने गए थे, एक नामचीन संस्था में। एक नामी गिरामी संपादक ने इंटरव्यू लिया। भाई रिजेक्ट हो गए। वजह उनमें वह बात नहीं थी जो संपादक ढूढ़ रहे थे। अब वह संपादक तलाश क्या रहे थे सुनिए, इधर उधर के सवालों के बाद मुख्य सवाल-राष्ट्रीय राजनीति में सक्रिय एक ब़ड़े नेता के संदर्भ में –

संपादक- आप उन्हें जानते हैं.

रिपोर्टर- जी जानता हूं..

संपादक- तो फिर वह कितनी बार आपके घर और आप उनके घर खाना खाने गए

रिपोर्टर- सर ऐसी जान पहचान नहीं है। खबरों के सिलसिले में मुलाकात होती है और वह मुझे जानते हैं।

संपादक असंतुष्ट- फिर यही सवाल यूपी के एक कद्दावर नेता के बारे में (इस वक्त विपक्ष में हैं)। रिपोर्टर का जवाब फिर वही- परिचय है, एक दूसरे के घर पर खाना खाने वाली घनिष्ठता नहीं है।

नतीजा–पत्रकार मित्र बैरंग लौटा दिए गए। उनमें वह स्पार्क नहीं थी, जिसकी जरूरत संपादक ( अगर यह शब्द उनके लिए माकूल हो तो) को थी।

( जानबूझकर न संस्था का नाम लिखा और न नेताओं का, पर वाकया सौ फीसदी सच है)।

what a shame!! probably he needed a broker in disguise of a journalist

प्रांशु मिश्रा के एफबी वाल से

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भोपाल हरिभूमि के संपादक बने प्रमोद भारद्वाज

भोपाल : शाम के लीडिंग अग्निबाण समाचार पत्र समूह में इंदौर के संपादक प्रमोद भारद्वाज ने चार साल की लंबी पारी के बाद इस्तीफा दे दिया है। वे चार महीने पहले ही पूरे ग्रुप की कमान संभालने के लिए भोपाल से इंदौर कॉरपोरेट आफिस भेजे गए थे। पर उनका मन नहीं रमा। वे सुबह के अखबार में वापसी चाहते थे। अग्निबाण को उन्होंने ही भोपाल में एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया था।

हाल में उन्होंने हरिभूमि समूह ज्वाइन कर लिया। वे भोपाल संस्करण के रेजीडेंट एडिटर बनाए गए हैं। वे प्रबंध संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी को रिपोर्ट करेंगे। इससे पहले प्रमोद ने जनसत्ता सहित दैनिक भास्कर और अमर उजाला में कई बड़ी सीनियर पोजीशन पर काम किया था। भास्कर और अमर उजाला में वे कई संस्करणों के संपादक और स्टेट हैड तक रहे। उनकी अब तक अपनी एक किताब और संपादित छह पुस्तकें आ चुकी हैं। मप्र सरकार का पत्रकारिता का एक बड़ा राष्ट्रीय पुरस्कार और कहानी लेखन में भी उनको दिल्ली का स्व. प्रेमचंद राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है। मप्र सरकार ने उन्हें दीनदयाल पत्रकारिता पुरस्कार से भी नवाजा है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भास्कर के बूढ़े एडिटर अपने इंतजाम में व्यस्त, रिपोर्टर मस्त, काम-काज ध्वस्त

दैनिक भास्कर के अजमेर संस्करण में पिछले कई महीनों से पत्रकारों की मौज हो रही है। इसका कारण बुजुर्ग संपादक रमेश अग्रवाल का दूसरे कामों में व्यस्त होना है। संपादक अग्रवाल ऐसे तो करीब दो साल पहले ही रिटायर हो चुके हैं, मगर वो अब एक्सटेंशन पर हैं। 

 

मूल रूप से अजमेर के ही निवासी अग्रवाल का ध्यान अब अपने संपादन के बजाय अपने दूसरे धंधों पर है। वो अपने रिटायर्डमेंट के बाद के जीवन को खुशहाल बनाने में लगे हैं। उन्होंने अजयमेरु प्रेस क्लब को वापस जिंदा किया है। वे स्वयं क्लब के अध्यक्ष बन गए हैं। वे रोजाना लगभग तीन घंटे का समय प्रेस क्लब को देते हैं और इस दौरान शहर के विभिन्न वर्गों के लोग वहां जुटते हैं। अग्रवाल ने सालों पहले अजमेर के पंचशील नगर इलाके में जमीन खरीदी थी। अब उस पर अपार्टमेंट बनाने का काम शुरू करवा दिया है। 

कुल मिलाकर उनका ध्यान अखबारी कामकाज पर बिल्कुल नहीं है। इसका फायदा चीफ रिपोर्टर सुरेश कासलीवाल और दूसरे रिपोर्टर जमकर उठा रहे हैं। कासलीवाल अजमेर दबंग भाजपा नेता भंवरसिंह पलाड़ा सहित कई असफरों के फेवर में जुटे हैं। आए दिन इनके स्तुतिगान छापते रहते हैं। पलाड़ा की सह पर उन्होंने अजमेर की दलित जिला प्रमुख के खिलाफ भी भास्कर में अभियान चला रखा है। खास बात यह है कि कासलीवाल की ये हरकतें कोई नई नहीं हैं। वे जब ब्यावर में भास्कर के ब्यूरो चीफ थे तो वहां तत्कालीन भाजपा विधायक देवीशंकर भूतड़ा के पक्षधर थे। उनके इशारे पर ही सारी खबरें लिखते थे। उनकी इन हरकतों की शिकायत तत्कालीन संपादक ने ब्यावर से हटा दिया था, मगर अब रमेश अग्रवाल के कार्यकाल में उनके अच्छे दिन वापस लौट आए हैं।  अग्रवाल के दूसरे कामों बिजी होने और अखबार पर ध्यान नहीं होने कासलीवाल और उनके चेलों को खुलकर खाने और खेलने का मौका मिल रहा है। बताते हैं कि कासलीवाल संपादक की अनदेखी का फायदा उठाते हुए डेस्क को भी अपने शिकंजें में ले लिया है।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

प्रसून शुक्ला ETV में सलाहकार संपादक बने

न्यूज़ एक्सप्रेस के सीईओ और एडिटर इन चीफ प्रसून शुक्ला ने अपनी नई पारी ETV के साथ शुरू की है.

एक जुलाई से प्रसून शुक्ला को ETV के गुड़गांव ऑफिस में बैठाने की तैयारी कर ली गई है. सलाहकार संपादक की भूमिका में प्रसून शुक्ला ETV नेटवर्क हेड जगदीश चंद्रा को सीधे रिपोर्ट करेंगे. न्यूज़ एक्सप्रेस छोड़ने के बाद ही प्रसून की नई पारी को लेकर कयास लगाये जा रहे थे।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

‘दबंग दुनिया’ के संपादक ने आपरेटरों को दी गालियां, कार्य बहिष्कार, मानहानि का दावा करेंगे

भोपाल : दबंग दुनिया भोपाल के संपादक विजय शुक्ला जब से आए हैं कर्मचाारियों को लगातार परेशान कर रहे हैं। उनकी इस हरकत से कई लोग पहले ही छोड़कर जा चुके हैं। आज तो हद हो गई। विजय शुक्ला ने अचानक किसी बात पर आपरेटरों के साथ बदतमीजी पूर्ण व्यवहार कर दिया। गालियां भी दीं।

परेशान आपरेटरों ने नाराज होकर दबंग दुनिया में काम का बहिष्कार कर दिया और अब संपादक के खिलाफ मानहानि का दावा करने की तैयारी कर लिए हैं। जानकारी के मुताबिक सभी आपरेटर कल विजय शुक्ला के खिलाफ शिकायत करने कलेक्टर और श्रम आयुक्त के पास जाएंगे।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

जिसने ‘जनसंदेश’ की धज्जियां उड़ाईं, आज वही संपादक

सतना (मप्र) : जनसंदेश जब बाजार में आया तो उन दिनों सतना में ये कहा जाता था कि ये दिल्ली का अखबार हैं. उसके पीछे का कारण बताया जाता था कि पेपर के संपादक और पूरी टीम बाहर की है. 16 नंबर पेज को लेकर बवाल होता था. जिसे लोकल करने की मांग होती थी. जैसा वहां के पेपरों का 16 नंबर पेज लोकल था. जनसंदेश में काम करने वाले रिपोर्टर दिमाग कहीं और से लेते थे. पेपर को डुबाने की पूरी तैयारी थी . या मालिकों तक यह संदेश जाये कि बाहर की टीम बेकार है, काम नहीं कर पा रही है. 

कई बार ऐसा माहौल बनाया गया. लेकिन लोगों को सफलता नहीं मिली. कई तरह के प्रयास किये गये. फिर स्थानीय संपादक, जो डाक्टर  नाम से जाने जाते हैं, उनकी सहमति से कुछ दारुबाज रिपोर्टर लाये गये. रात में  कभी-कभी तो डेस्क से लड़ाई होने की नौबत आ जाये. किसी तरह से मामला शान्त हो जाता था. डेस्क इंचार्ज बाहर के थे, जो अब संस्थान में नहीं हैं. सीटी संपादक की अच्छी टीम भावना थी। पेपर आगे की ओर बढ़ रहा था. बस एक सांसद की न्यूज को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया था. 

स्थानीय संपादक उन्ही सांसद कोटे से हैं. उन्हें ये बात पसंद नहीं थी. इन सबके पीछे हाथ था एक तिवारी का, जो जनसंदेश के मालिकों को सारी बातें बताता था. जब आर्थिक स्थिति खराब हुई तो मालिकों ने तिवारी की बात सुनी. अब वही बन्दा सीटी  संपादक है. कोई भी बन्दा काम करने को तैयार नहीं है. उसके आते ही पेपर के एक रिपोर्टर ने काम छोड़ दिया. यही तिवारी एक लोकल पेपर में जनसंदेश की समीक्षा करते थे. रोज खिलाफ़ लिखते थे. पेपर के रिपोर्टर को भड़काते थे. कुछ उनके पुराने चेले थे. अब क्या समिक्षा करेंगे. अब तो उनकी ही समीक्षा हो रही है. धन्य हो जीएम और एमडी. 

जो लोग बाहर की टीम को देखकर ये बातें करते थे कि ये लोग पेपर को डूबा रहे हैं, आज सभी बाहर से आए लोग अच्छे पेपरो में जॉब कर रहे हैं। बाकी विरोधी वहीं पर हैं। मप्र जनसंदेश के सिटी एडिटर जो पेपर को  खबरों से जीवित रखते थे, अब वो जनसंदेश नहीं आ रहे हैं। अब पेपर का क्या होगा मालिक जाने।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अमर उजाला के संपादक तो धीरज को देखने तक नहीं गए, जगदंबिका पाल बने मुसीबत में मददगार

अमर उजाला के पत्रकार धीरज पांडेय तो इस दुनिया से चले गए लेकिन उनके जाने का दर्द बहुतो से बर्दाश्त नहीं हो रहा। सबसे दुखद रहा अमर उजाला के गोरखपुर संपादक प्रभात सिंह और न्यूज एडिटर मृगांक सिंह का अमानवीय रवैया। धीरज इतने दिन से अस्पताल में मृत्यु से जूझ रहे थे, ये दोनो शख्स उन्हें देखने तक नहीं पहुंचे। उनके इलाज पर घर वालों के लगभग तीन लाख रुपए खर्च हो गए। 

मीडिया के उनके मित्र-सुपरिचितों के अलावा सबसे बड़ा घाव उनके परिवार को लगा है। आज लगभग अपराह्न तीन बजे देहांत के बाद उनका शव परिजन उनके गांव महराजगंज घुगलीरोड पर प्यास गांव ले गए। धीरज के दो बच्चे एक दस साल की बेटी और पांच साल का बेटा व पत्नी हैं। पिता केदारनाथ पांडेय कैंसर पीड़ित हैं। पिछले दिनो छत से गिर गए थे। फ्रैक्चर हो जाने से उन्हें गोरखपुर मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया था। जब धीरज की मौत हुई तो उन्हें वहां से पहले डिस्चार्ज कर उनके घर भेजा गया। फिर घर पर उन्हें धीरज की मौत की जानकारी दी गई।

 पत्रकार धीरज पांडेय ने वर्ष 2000 में सहारा टीवी गोरखपुर से पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा था। वहां से वह महाराजगंज के अखबार में पहुंचे। फिर वही अमर उजाला ज्वॉइन कर लिया था। वहां से बाद में अमर उजाला गोरखपुर उनका ट्रांसफर कर दिया गया। बाद में मुख्यालय से उन्हें फिर बस्ती स्थानांतरित कर वहां का ब्यूरो प्रभारी बना दिया गया। वहीं पिछले महीने सपा के पूर्व विधायक की गाड़ी से उन्हें मारा गया। फरारी गाड़ी तो पुलिस ने अपनी कस्टडी में ले ली मगर नेता के खिलाफ एक लाइन की रिपोर्ट तक नहीं लिखी गई। दुखद पहलू ये रहा है कि इस संबंध में उस गोरखपुर प्रेस क्लब ने भी कुछ नहीं किया।  

धीरज के घायल होने पर अमर उजाला के संपादक प्रभात और समाचार संपादक मृगांक तो उन्हें नहीं देखने पहुंचे लेकिन सबसे बड़े मददगार बने डुमरियागंज से भाजपा सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री जगदंबिका पाल। उनके दबाव में ही शासन ने लखनऊ में उनका इलाज कराना शुरू किया। उनके इलाज पर घर वालों के लगभग तीन लाख रुपए खर्च हो गए। बाद में देवेंद्र प्रताप एमएलसी भी धीरज को देखने पहुंचे थे। लेकिन इस मामले में अमर उजाला प्रबंधन और पत्रकार संगठनों का रवैया निहायत अमानवीय रहा।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

‘दबंग दुनिया’ में संपादक की कुर्सी संभालते ही पत्रकारों की नौकरी से खेलने लगे विजय शुक्ला

भोपाल : एजेंट से संपादक बने विजय शुक्ला इस समय भोपाल के ‘दबंग दुनिया’ अखबार में संपादक बन गए हैं। संपादक बनने के बाद से ही वह वर्षों से काम कर रहे पत्रकारों को परेशान करने लगे हैं। उनके कारण संस्थान से कई लोग बाहर जा चुके हैं। बाहर जाने वालों में प्रशासनिक संवाददाता राजेंद्र वर्मा, विजेंद्र उपाध्याय, मनोहर पाल, सकुर्लेशन हेड प्रवीण शर्मा, अजय द्विवेदी, आरबी सिंह आदि हैं। अमित देशमुख, जो शुरूआत से काम कर रहे हैं, उन्होंने किसी तरीके से अपना ट्रांसफर दिल्ली कराकर अपनी नौकरी बचाई है। 

भोपाल के शराबी संपादक पुष्पेंद्र सोलंकी को बहुत ही बेइज्जत करके निकाला गया। दूसरी तरफ संपादक रहे गीत दीक्षित किसी तरह अपनी नौकरी बचाने में सफल हो गए हैं, लेकिन उनका भी ट्रांसफर उज्जैन कर दिया गया है। विजय शुक्ला पद संभालते ही लोगों को प्रताड़ित करने लगे। मीडिया कर्मियों से कहने लगे कि जब हम आएं तो सब खड़े हो जाएं और नमस्कार करें। ऐसा न करने वालों को बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। प्रताड़ना से ऊबे कई लोग तो  नौकरी छोड़कर जा चुके हैं और कई जल्द ही चले जाएंगे। 

क्षुब्ध पत्रकारों का कहना है कि इस संपादक को मालिक की चापलूसी के अलावा कुछ भी नहीं आता है। इसे ये भी नहीं पता है कि इससे पहले कई संपादक आए और बुरी तरह से बेइज्जत करके निकाल दिए गए। जब इसके साथ भी वही सलूक होगा, तो इसका क्या होगा। तब तक तो दबंग दुनिया अखबार होने के कगार पर पहुंच जाएगा। 

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

संपादक का तुगलकी फरमान, खबरदार जो कुर्ता-पायजामा पहन कर कार्यालय आया

हिन्दुस्तान मेरठ अपने तुगलकी फरमानों के कारण फिर चर्चा में है। इस बार वरिष्ठ स्थानीय संपादक अनिल भास्कर ने पत्रकारों को कुर्ता-पायजामा और चप्पल-सैंडल पहनकर कार्यालय नहीं आने का फरमान सुना दिया है। इसके लिए बाकायदा सभी को ईमेल भेजकर सूचित किया गया है कि आफिस में केवल जूते पहनकर ही आए। ऐसा नहीं करने पर आफिस में नहीं घुसने दिया जाएगा। 

संपादक के इस तुगलकी फरमान का विरोध भी शुरू हो गया है। कई पत्रकारों ने संपादक के इस फरमान का खुलेआम विरोध किया है और बाकायदा रिटर्न ईमेल भेजकर संपादक से विरोध दर्ज कराया है। इसकी शिकायत हिन्दुस्तान के प्रबंधन और समूह संपादक शशि शेखर से भी की गई है। 

पत्रकारों का कहना है कि हिन्दुस्तान मेरठ में आए दिन नए-नए फरमान जारी किए जा रहे हैं। इससे पहले हिन्दुस्तान के इवेंट मस्ती मार्ग पर सभी पत्रकारों को अपने परिवार के साथ आने का फरमान जारी हुआ था। इसका पालन भी केवल एक डीएनई भूपेश उपाध्याय को छोड़कर किसी ने नहीं किया था। पिछले साल इन्क्रीमेंट नहीं होने से खफा वरिष्ठ संवाददाता राजेश शर्मा ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की थी। इसके बाद पत्रकारों ने संपादकों के व्यवहार के प्रति खुला आक्रोश प्रकट किया था।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: