पीएम को स्पेशल अटेंशन क्यों देता है चुनाव आयोग, कोर्ट ने जवाब मांगा

हाई कोर्ट ने प्रधानमंत्री को विशेष सुविधा याचिका में जवाब माँगा

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा प्रधानमंत्री को चुनावों के दौरान विशेष सुविधा दिए जाने के आदेश को चुनौती देते हुए राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी के अध्यक्ष प्रताप चन्द्र की याचिका पर आज इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने चुनाव आयोग से 04 सप्ताह में जवाब माँगा है तथा 31 अगस्त 2021 को सुनवाई की अगली तिथि तय की है.

जस्टिस राजन राय तथा जस्टिस रवि नाथ तिलहरी की बेंच ने यह आदेश याची की अधिवक्ता डॉ नूतन ठाकुर तथा चुनाव आयोग के अधिवक्ता ओ पी श्रीवास्तव को सुनने के बाद दिया.

नूतन ने कोर्ट को बताया कि निर्वाचन आयोग ने आदर्श आचार संहिता बनाया जो सभी राजनैतिक दलों एवं प्रत्याशियों द्वारा चुनाव के दौरान पालन किये जाने वाले दिशानिर्देश हैं. इन दिशानिर्देशों में किसी सत्ताधारी दल के मंत्री को सरकारी यात्रा को किसी भी प्रकार से चुनावी यात्रा के साथ सम्बद्ध नहीं करने तथा चुनावी यात्रा में अनुचित ढंग से सरकारी संसाधनों का प्रयोग नहीं करने के निर्देश भी शामिल हैं.

इस संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय ने 07 अक्टूबर 2014 को आयोग से एक बार आदर्श आचार संहिता के इस प्रावधान से मुक्त करने का अनुरोध किया जिसपर चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री को हमेशा के लिए इस प्रावधान से मुक्त कर दिया, जो समानता के सिद्धांत के विपरीत है.

HC seeks ECI reply in PM Non-application of Model Code Petition

In the petition filed by Rashtriya Rashtravadi Party through its President Pratap Chandra challenging the non-application of Model Code of Conduct to Prime Minister during elections, the Lucknow bench of Allahabad High Court has asked the Election Commission of India to file its reply within 04 weeks, fixing 31 August 2021 as the next date.

The bench of Justice Rajan Roy and Justice Ravi Nath Tilhari passed this order after hearing petitioners’ counsel Dr Nutan Thakur and Commission counsel O P Srivastava.

Nutan told the Court that the Commission framed Model Code of Conduct which is a set of guidelines issued for conduct of political parties and candidates during elections. This includes the rule that the Ministers shall not combine their official visit with electioneering work and shall not also make use of official machinery or personnel during the electioneering work

The Prime Minister Office requested the Commission on 07 October 2014 to grant one time exemption from MCC but the Commission exempted the PM from the operation of these provision for all future elections, which is against the principle of level playing field.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *