मंचीय सौदागर इमरान प्रतापगढ़ी से वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी. सिंह का सवाल…

Sheetal P Singh : प्रशान्त भूषण बनाम इमरान प्रतापगढ़ी… मैसेज आया है कि कौम के विक्टिमहुड के बेहद सफल मंचीय सौदागर इमरान प्रतापगढ़ी ने “प्रशांत भूषण” पर कोई तंज लिख मारा है! वजह बताई है कि “उन्होंने सिवान के शहाबुद्दीन नाम के अपराधी की जमानत का सुप्रीम कोर्ट में विरोध किया” और आरोप को तर्ज़ पहनाई है कि पड़ोस के “दादरी” का मामला नहीं उठाया!

इमरान प्रतापगढ़ी समेत आठ और दानिशवरों ने कौम के नाम पर अखिलेश सरकार से “यश भारती” झटका है! किसने किसने बिसाड़ा के मामले पर लौटा दिया? प्रशान्त भूषण से हज़ार मतभेदों के बावजूद मैं पाता हूँ कि समाजी मामलात पर उनके दख़ल का किरदार मेरे जैसों और इमरान जैसों से मीलों ऊँचा और पाक है! किसी मामले में होने और हजारों मामलों में न हो पाने के बहुत से जाती और दूसरे मसले होते हैं। आदमी के हाथ पैर दो ही होते हैं! हर चीज़ बाज़ार बना दोगे तो “मोदी” हो जाओगे!

वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी. सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *