मुगलसराय में पत्रकारों पर लाठीचार्ज की खबर क्‍यों नहीं चली चैनलों पर?

मुगलसराय में ख‍बरिया चैनलों की हालत बहुत ही दयनीय है. इलेक्‍ट्रानिक मीडिया के पत्रकार अधिकारियों के दल्‍ले के रूप में काम करते हैं. खबरें वही चलती हैं, जिन्‍हें अधिकारी चलवाना चाहते हैं. इसलिए अधिकारी भी चैनलों के स्ट्रिंगरों के अर्दब में रहते हैं. जिले के गिने-चुने स्ट्रिंगरों के पास सारे चैनलों की आईडी रहती है, लिहाजा ये स्ट्रिंगर अपने हिसाब और लिहाज से खबरें चलवाते या रूकवाते हैं. मुगलसराय में प्रिंट मीडिया के पत्रकारों पर हुई लाठीचार्ज में भी इन्‍हीं स्ट्रिंगरों की भूमिका महत्‍वपूर्ण रही.

पुलिस ने पत्रकारों से गाली-ग्‍लौज किया. लाठीचार्ज किया, लेकिन दल्‍ले स्ट्रिंगरों ने इसकी विजुअल बनाने की भी जरूरत नहीं समझी. केवल एक चैनल का स्ट्रिंगर लाठीचार्ज का वीडियो बनाने में सफल रहा. जिले में आजतक, नेशन न्‍यूज, जी न्‍यूज, न्‍यूज24, समाचार प्‍लस, ईटीवी, सहारा समय, इंडिया न्‍यूज, इंडिया टीवी, एबीपी न्‍यूज, न्‍यूज एक्‍सप्रेस, आईबीएन7 समेत कई चैनलों के स्ट्रिंगर हैं, लेकिन किसी ने इस घटना का वीडियो नहीं बनाया. क्‍योंकि इन्‍हें कोतवाल के समर्थन में खड़ा होना था. सबसे बड़ी बात यह भी है कि एक-एक स्ट्रिंगर के पास दो से लेकर चार चैनलों तक की आईडी है. जब कई चैनलों के ठेकेदार स्ट्रिंगर खबर नहीं भेजते हैं तो वह कहीं नहीं चलती है.

पत्रकारों के साथ इतना बड़ा कांड होने के बाद भी खबरिया चैनलों के ज्‍यादातर स्ट्रिंगर इनके साथ नहीं आए. जाहिर है कि ज्‍यादातर चैनल अपने स्ट्रिंगरों को एक फूटी कौड़ी नहीं देते हैं, लिहाजा ये स्ट्रिंगर दलाली करके, ब्‍लैकमेल करके पैसे की उगाही करते हैं और अपना परिवार चलाते हैं. इन लोगों के चलते ही पत्रकारिता में जबर्दस्‍त गिरावट आई है. हालांकि दलाली और ब्‍लैकमेलिंग का काम प्रिंट मीडिया के पत्रकार भी करते हैं, लेकिन उनकी संख्‍या कम है. चंदौली जिले में चैनलों पर क्राइम की वही खबरें चलाई जाती हैं, जिनको कोतवाल और थानेदार ओके करते हैं. पत्रकारों पर लाठीचार्ज इसका जीता जागता सबूत है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “मुगलसराय में पत्रकारों पर लाठीचार्ज की खबर क्‍यों नहीं चली चैनलों पर?

  • is khabar ko likh kar bhadas jaise naami portal par chhapwaane wala hi chandauli jile ka sabse bada DALLAAAA hai.kyonki isne sahi khabar nai di hai.is dharne me baithe logo me ek bhi patrkaar nahi hai.sab vyapari hai.jinhone apni dukaano ke aage atikraman kiya hua hai.aise hi ek akhbaar ke agent ko baar baar kahne ke baavjut atikraman na hataane par pulis jab thane le gai to yaha ke kuchh tv aur print ke patrakaaro ne pulis se baat chit kar k turant chhudaa diya.uske baad bhi doglapan karte huye kuchh farji type ke patrkaaro ne vyapariyo ko bhadka diya aur sadak jaam kar diya .jispar pahuchi pulis ne pahle to samjhane ki kosis ki lekin jab log nahi maane to polis ne danda patak kar khaded diya.
    pres se jude hain to kya kanoon todege.

    Reply
  • Yah bahut hi ghinauna aur pulis mahkme ko srm sar krnewali kary hai yadi pulis atikramad htana chahti thi to iske any kyi trike the grib aur begunah logo ko es tarah es trah prtadit krna pure trike se manav adhikar ka ulnghan hai aur aaschry ki bat hai ki channel walo ne q esko nhi chalaya ….. Kya news channel walo k pas achchhe stringer nhi hai Jo es news ko coverage de ske unko ye shi ya galat Jo v laga unko apne njriye se news ko present to karna chahiye open news thi Sara mughalsarai jan rha tha ……. Aakhir news channel walo me is khabar ko q important nhi diya kya yah news kisi school ke nikalne wale julus se v chhota tha Maine dekha hai yadi kisi school ka julus nikle to svi stringer camera le k recording krne lgte h …. Aur es ghatna ka ek do stringer ko chhod kr kisi ne v recording v nhi kiya channelo ko bhejna to dur hai …
    Ant me mai yahi chahunga ki pulic apna kary kre lekin manav adhikar ko dhyan me rakhte huye aur print media aur electronic media apna kam emandari se news lagaye khabro ko chhupaye nhi sachchayi jnta tk phuchaye

    Reply
  • भाई साहब आपने अपने रिपोर्ट में खुद ही लिखा है की चंदौली के अधिकारी इलेक्ट्रानिक मिडिया के अर्दब में रहते हैं। इसका मतलब साफ़ है की वहां के इलेक्ट्रानिक मिडिया के पत्रकार ईमानदार हैं। क्योंकि कोई भी अधिकारी बेईमान और भरष्ट लोगो के अर्दब में नहीं रहता. वो अर्दब में रहता है तो ईमानदार और कर्मठ लोगो से। इस से साफ़ लगता है की यह रिपोर्ट बदले की भावना से लिखी गयी है।

    Reply
  • भाई इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकारो अाप लोगो का कहना है कि वहां पे धरने पे बैठे सभी लोग व्यापारी है वहां कोई भी पत्रकार नही बैठा था व्यापारीयो के साथ ——- मुझे लगता है आप को एक बार फिर से इस फोटो को देख लेना चाहिए—— यहां व्यापारीयो पर अतिक्रमण के नाम पे पुलिस द्वारा को परेशान किया जा रहा है इलेक्‍ट्रानिक मीडिया इस खबर को न चलाये जाना इस बात कि ओर संकेत करता है कि इलेक्‍ट्रानिक मीडिया केवल वही खबरो को चलाता है जहां उसे मोटी धन उगाही होती है।

    Reply
  • mughalsarai ke tv chenel vale sirf mughalsarai police or grp police ke talve chatne vale hai ye ye unki sift vah vahi lutne ka kaam karti hai
    vigat varso alinagar me tel ke khel me kavrej karne gaye yahi chenel vale unka shikar bane the to
    yahi print media ne alinagar thane me dharna dekar aropi va police ke khilaf karyavahi ki maag ki gayi thi

    Reply
  • patrakaar krishna gupta ko jab police pakad kar thane le gai thi to yahi tv ke patrakaaro ne 2 minute me chhodwaa diyaa tha aur samman ke saath wapas le aaye the.uske baad bhi dharna pradarshan kyon kiya gaya. rahi baat talva chatne ki to ye sabko pata hai ki kaun kiska talva chatta hai.koyala chor aur loha choro se 100 -100 rupaye mahina lene wale imaandaari ki baat kar rahe hain.

    Reply
  • ye dekhiye aaj aap logo ne dainik jagaran pada nahi to padiye kotwaal mugalsarai ke khilaf ek page khabar likho khub likho bagal page par ek photo aur hai chatro ne ki todphod police ne khadeda….jara in tashveero ko dekhiye jaha anirudh singh lathi liye patrkaaro se bat kar rahe hai aur ab jara danik ki aaj ki photo dekhe jaha ladhi marte huye ki tashveer chapi hai mera matlab ye hai ki jaha tashveer gavahi de rahi hai vaha sirf khadeda aur jahan bat cheet ki tashveer hai vahan ladhi charge kahane ka matlab ye hai ki aap khabariyon ki bat nahi sunege to akhbaar me abhiyaan hoga aur chavi bigad kar patrkaar avaidh vashuli kare vo thik ye nahi chalega janta bahut budhimaan hai

    Reply
  • ye galat hai akhbaar padiye aap khud jaan jayege chandauli me chatra pite to khadeda aur bat cheet ki tashveer par lathicharge ki shikayat…………

    Reply
  • Deepak Shukla says:

    Hamare Yha Chandauli Me Ham Patrkaro Ke Bech Me Jalan Ki Bhawana Bahut Hai Eska Udahran Aapke Samne Hai Hamme Ekta Ho To Anirudh Singh Jaise Wiwadit Kotwal Ki Himmat Nhe Hai Ye Jha Bhe Rhe Hai Wiwad Me Rhe Hai Anirudh Singh

    Reply
  • yeah aman naam ka vyakti ko dharmna de rah patrkar isleaye nazar nahi aa rahe the kyoki inki nazar me partkaar wo hai jo police ke talve chaate jais ki chandauli jile me elctronic channel ke kuch patrkar karte hai ….khud ka pata nahi chale hai dusro ko patrkarita ka licence dene

    Reply
  • chandra shekhar says:

    कुछ हो चाहे नहो । चाहे सभी गलत हो मगर क्या कोतवाल को ऐसा करना चाहिए था। जबकि आज के पेपर में चन्दौली के अधिवक्ताओं ने अपने बयान दर्ज कराए है कि किन धाराओं में और किसके आदेश पर लाठी चार्ज किया जा सकता है फिर ऐसी गुण्डा गर्दी क्यों । एक बात तो है अनिरूद्ध सिंह जी यदि आपने हम पत्रकारों से टकराने की विधि विरूद्ध कार्यवाही कर ही डाली है तो अन्जाम भी समझ ही गये होगें कि क्या होने वाला है आगे

    Reply
  • मुगलसराय के चैनलों के स्ट्रिंगर पूरी तरह दलाली करके कमाई करते हैं। एक एक स्टिं्रगर के पास कई चैनलों का ठेका है। कई चैनलों के ठेकेदार स्ट्रिंगर जीआरपी कोतवाल के चम्मचे के रूप में अब तक काम कर रहे थे। मुगलसराय कोतवाल के रूप में एक और बॉस उनको मिल गया है। पत्रकारों पर लाठीचार्ज हो या व्यापारियों पर खबर तो बनती ही थी, लेकिन कोतवाल के दलाल के रूप में काम करने वाले स्ट्रिंगरों ने खबर चैनलों को भेजना ही उचित नहीं समझा। ना ही ऊपर बैठे आकाओं ने इस पर सवाल और जवाब।

    Reply
  • tv ke patrakaro ki dalali dekhani hai to subah mughalsarai station par tatkal tikat karwate hue dekhiye ye in mhasay ke pata nahi kitane riste dar hai jo har roj rail ka safar tay karte hai yakin nahi hai to mughalsarai station par lage CC tv camere ki photez ki jach kara le sab samne aajaye ga dalal kaun hai in ki dalali is kadar hai ki ye paise ki khatir kuch bhi karwa lenge ????

    Reply
  • ye tv ke ptrakar railway ke dalalo se mil kar tatkal tikat karwate hai in ke pass 1 tikat par 4 logo ka nam hota hai aur ek vyakti se 500 me tay hota hai theka yani kul 2000 ki inki roj ki kamai hoti hai yani mahine ka 60000 tabhi to branded kapade branded jute pahante hai aur car se chalte hai ye sab jante hai ki stringar ko 1 khabar ka kitna milta hai maximum 200 ya 500 roj to khabar chalni nahi hai isi liye ye tv wale puri tarah dalali par nirbhar rahte hai agar grp in tv ke dalalo ko roti dena band karde to ye tv ke dalal bhukhe marne ki naubat ajaye gi
    agar meri bat par viswas nahi hai to mughalsari ke pichhale 2 mahino me huye tatkal tikat me hue regirvation ki RTI dwara jach kara lijiye

    Reply
  • RAVI KUMAR says:

    its so bad
    twenty first cen. me bhi ye condition h
    country ko ye beaurocrate kaha le jayenge
    where where where is the freedom of speech & expression ???????

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *