‘द हिंदू’ के यूपी ब्यूरो चीफ ओमर राशिद को हिरासत में लेकर पुलिस ने की बदतमीजी

लखनऊ से खबर है कि यूपी पुलिस ने द हिंदू अखबार के ब्यूरो चीफ ओमर राशिद को हिरासत में लेकर बदतमीजी की.

भारत समाचार चैनल के संपादक ब्रजेश मिश्रा ने इसकी आलोचना करते हुए कहा कि लखनऊ के कुछ और पत्रकारों के साथ ऐसी घटना हुई है. उम्मीद है सरकार घटना का संज्ञान लेकर कठोर कार्यवाही करेगी.

4पीएम अखबार के संपादक संजय शर्मा का कहना है कि तीन दिन से यूपी अराजक तत्वों के हाथ में है. आज भी यूपी के कई ज़िलों में हिंसा हो रही है. डीजीपी कह रहे हैं कि यह साज़िश है. बाहर के लोग आकर हिंसा कर रहे हैं. अगर यह सच है तो यह और भी गंभीर बात है कि बाहर से आकर लोग पच्चीस ज़िलों में अपना ऐसा नेटवर्क बना ले रहे हैं कि हज़ारों लोग उनके कहने पर सड़कों पर आ जा रहे हैं और ख़ुफ़िया विभाग को पता नहीं. पर इस कहानी की एक और तस्वीर है.. कहीं यह गाज डीजी इटेंलीजेस पर गिराने की साज़िश तो नहीं..

दूसरी तरफ़ द हिंदू जैसे देश के सबसे प्रतिष्ठित दैनिक के यूपी ब्यूरो चीफ़ को पुलिस हिरासत में लेकर बदतमीज़ी करती है और गिरफ़्तार करने की कोशिश करती है.. यह समझ नहीं आ रहा यह कौन काबिल अफ़सर है जिसको यह ग़लतफ़हमी हो रही है कि पत्रकारों का उत्पीड़न करके, उनकी फ़र्ज़ी जॉच करवाकर खबरें रोकी जा सकती हैं.

दिल्ली के पत्रकार अभिषेक श्रीवास्तव लिखते हैं-

Abhishek Srivastava : Amidst the on-going nationwide protest against CAA-NRC several journalist were attacked, intimidated and harassed by the police when they were doing the ground reporting. Ironically most of them come from the minority Muslim community. It shows the bias against the certain community from the state machinery. Several other photo and video journalists were also harassed in these protests by the mobs and protesters. Here is the current list of the attacked journalists (11/12/19 – 21/12/19)

NUJ(I) Condemns Journalists beaten in New Delhi

The National Union of Journalists (India) i.e. NUJ(I) strongly condemned the incident took place in Delhi. According to the information, the Delhi Police unleashed at the journalists and media persons last evening. Mr Arun Shankar and Mr Vaisakh Jayapalan of Mathrubhumi News are among those injured in the reckless action by the police. Their camera was snatched away by the police. It was done with the sole purpose suppressing the truth.

NUJ(I) President Prajnananda Chauduri and Sheo Kumar Agarwal Secretary General said that we request to Government to probe the incident and punish the guilty police officers for assaulting journalists. The NUJ(I)’s demand for the enactment of the Journalists Protection Act is endorsing this incident. NUJ(I) appeals to the central government and administration to give advisory to all authorities that this incidents could not occurs in future.

‘भड़ास ग्रुप’ से जुड़ें, मोबाइल फोन में Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *