मजीठिया वेज बोर्ड मामले की सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई फिर टली

देश भर के प्रिंट मीडियाकर्मियो के वेतन, एरियर और प्रमोशन से जुड़े जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड मामले की सुनवाई  माननीय सुप्रीमकोर्ट में २३ फरवरी को होनी थी मगर  तकनीकि रीशैडेयुलिंग की वजह से अब आज २३ फरवरी को इस मामले की सुनवाई नहीं हो पायेगी। इस मामले की अगली डेट जल्द पड़ने की संभावना है।

सुप्रीमकोर्ट द्वारा जारी एडवांस लिस्ट में इस सुनवाई को शामिल किया गया था जिसका आयटम नंबर २४ था मगर फाईनल लिस्ट में यह सुनवाई शामिल नहीं हो पायी। मीडियाकर्मियों के वकील ने कहा है कि तकनिकी रीशैडेयुलिंग की वजह से अब २३ फरवरी को इस मामले की सुनवाई नहीं हो पायेगी। इस मामले की अगली डेट जल्द पड़ने की संभावना है। मजीठिया वेज बोर्ड मामले की 10 जनवरी को सुनवाई हुई थी जिसके बाद अभी तक सब लटका हुआ है।

10 जनवरी को हुयी सुनवाई में पत्रकारों की तरफ से चर्चित एडवोकेट प्रशांत भूषण भी शामिल हुए थे और उन्होंने भी मीडियाकर्मियों का जोरदार पक्ष रखा था। मीडियाकर्मियों की तरफ से इस केस में, प्रशांत भूषण,  सीनियर एडवोकेट कोलिन गोंसाल्विस और परमानंद पांडेय ने जोरदार तरीके से मीडियाकर्मियों का पक्ष रखा था जिसके बाद अखबार मालिकों के खेमे में हड़कंप मच गया।

उधर इस मामले में एडवोकेट विनोद पांडे और आश्विनी वैश्य का कहना है कि मजीठिया वेज बोर्ड मामले की सुनवाई की डेट ना मिलने के पीछे वजह है कि यह केस पार्ट हर्ड है यानि आंशिक रूप से सुना गया है। 10 फरवरी के आर्डर को देखें तो उसमें स्पष्ट लिखा है कि केस की कुछ सुनवाई हुई है, कुछ होनी है और यह भी लिखा है कि इस केस को माननीय जज गोगोई और अशोक भूषण ही सुनेंगे। ऐसा होने की वजह साफ है कि अगर दूसरे जज पूरा केस फिर से सुनेंगे तो इससे समय जाया होगा। इस समय श्री गोगोई के साथ एक नए जज को रखा गया है, ऐसा होने की वजह से ही हमारा  केस लिस्ट में नहीं आया। आगे जब ये दोनों साथ होंगे, केस की सुनवाई होगी।

 शशिकांत सिंह

पत्रकार और आरटीआई एक्सपर्ट

९३२२४११३३५

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “मजीठिया वेज बोर्ड मामले की सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई फिर टली

  • Mujhey to samajh me nahi aa raha ki SC apney hi ‘Hagey’ ko kyon ponchhney me laga hai…! Ek bar inhoney hi lagoo kar diya, ab bar-2 kyon date par date deker malikon ki manshaa ko mazboot kar rahey hain? Isse to malikon ka hausla hi buland ho raha hai aur workers par gaaz par gaaz girayi jaa rahi hai. SC kabhi nahin samjhega ki HT, Jagaran, Bhaskar etc se jitney workers nikaale gaye aur jinko salary nahin mil rahi, unke pariwar me kya chal raha hoga, kaise unke bachchey pal rahey honge? Isse Supreme Court ko kaun samjhaye…!

    Reply
  • Sabko pata tha ki ya to date padegi ya sunwayi nahi hogi.
    Sab mili Bhagat hai..milna kuch nahi hai Naukari ya aur jayengi.
    Maliko ko aur time Diya ja raha hai karamchariyon ko jaise b hata sakte ho hata lo.
    Sab gadbad jhal hai…intejar karo aur rote raho.jai ho media mailik aur jai ho supreem court.

    Reply
  • bhai logo abhi bhi wakt h samajh jao kuch bhi GHNTA milne wala nahi wo kahawat nahi suni kya ki “wakil ka karna yaar juge hi kar lete h.”
    akhbaar maliko ne juge kar rakhe h or hamne wakil…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *