दक्षिणपंथियों का एक और पोर्टल ‘राइट इंडियंस डॉट कॉम’ हुआ शुरू

Shivendra Shukla : हम सब जानते हैं की फेसबुक , ट्विटर पर लिखने से आपकी ऑडिएंस उतनी बड़ी नही हो सकती जितनी किसी ऑनलाइन पोर्टल से. पर फेसबुक ट्विटर के माध्यम से हम अपने पोर्टल को जरूर बड़ा कर सकते हैं.

आज राइट विंग बड़े स्तर पर बंटा हुआ है. हम लोगों ने जितनी पोस्टें संसदीय भाषा मे लिख डालीं, कोई पत्रकार क्या लिखेगा.

मुझे आज भी याद है मेरी पोस्टें रोहित सरदाना फैन पेज पर मेरे नाम से कॉपी पेस्ट हुई हैं. कोई RJD के लिए लिखने वाला हो, कांग्रेसी हो, या सपाई हो, उसकी विचारधारा के लोग उसे तुरन्त प्रमोट करके बड़ी ऑडिएंस तक पहुंचा देते हैं.

पर मज़ाल है कि किसी भाजपा नेता ने किसी की भी पोस्ट शेयर की हो. किसी IT सेल ने खुद को छोड़ के किसी के विचारों को महत्ता दी हो. इक्के दुक्के ही पेज हैं जो ऐसा करते हैं.

पर कोई बात नहीं, हम इस कार्य को खुद से करने के योग्य भी हैं, और हौसला भी है कि इसे बहुत दूर तक ले जाएंगे.

मित्र Akash ने ऐसे ही प्रयास की शुरुआत की है. वेबसाइट भी बनाई है. राइट इंडियंस डाट काम नाम से.

अच्छे अच्छे लेखकों के लेख वहाँ मौजूद हैं. बस आप का गिलहरी योगदान चाहिए. ज्यादा से ज्यादा सपोर्ट करिये क्योंकि इसे हमें opindia के लेबल तक ले जाना है.

युवा दक्षिणपंथी लेखक शिवेंद्र शुक्ला की एफबी वॉल से.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “दक्षिणपंथियों का एक और पोर्टल ‘राइट इंडियंस डॉट कॉम’ हुआ शुरू

  • शक्ति सिन्हा says:

    अब शुक्ला जी हैं तो Right Wing तो होंगे हीं ना! मनुवाद जो ख़ून में बसा जो हैं! आश्चर्य यह हैं की यह इतने निकम्मे निकले की मेन्स्ट्रीम गोदी मीडिया में भी नौकरी नहीं मिल पायी तो अपनी दुकान खोलना पड़ा! चलोज़ी, यह भी सही।

    Reply
    • Abhijeet Kumar says:

      Aplog to padhe likhe h aur aj jo harkat ho rhi h use dekhne sunne k bad to aplogo ko v knowledge ho hi Jana chahiy ki right wing h is desh Ka izzat h nhi to secularism k raste se Apne desh ki halat is situation me la hi diy ho aaplog

      Reply
  • जनाब राईट विंग एक ऐसा विंग हैं जो मानता है कि कोई विचार धारा नहीं होनी चाहिए

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code