माखनलाल पत्रकारिता विवि के सहायक प्राध्यापक सुरेन्द्र पाल का असमय निधन

Surender Paul

BhimShankar Sahu : माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल के सहायक प्राध्यापक सुरेन्द्र पाल सर का आज सुबह चंडीगढ़ में निधन हो गया। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें। शोक संतृप्त परिवार को प्रभु इस अपार दु:ख को सहने की शक्ति प्रदान करें।

Sanjay Dwivedi : तुमको न भूल पाएंगे: माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में सहायक प्राध्यापक श्री सुरेंद्र पाल का आज सुबह चंडीगढ़ में निधन हो गया। उनकी पावन स्मृति को नमन। सुरेंद्र जैसा खुशदिल इंसान होना कठिन है। यारों के यार सुरेन्द्र का इस तरह हमें छोड़ जाना बहुत पीड़ादायक है। अपने दोस्तों, विद्यार्थियों के बेहद प्रिय इस युवा प्राध्यापक का यूं चला जाना बहुत त्रासद है। इस सूचना को लिखते हुए हाथ कांप रहे हैं। मैंने कभी सोचा भी न था कि अपने अनुज सुरेंद्र के लिए कभी ये शब्द लिखने होंगे। श्रद्धांजलि।

Ankur Vijaivargiya : अलविदा पाल सर… Surender Paul सर नहीं रहे। आज सुबह चंडीगढ़ में उनका निधन हो गया। मन ये मानने को तैयार ही नहीं कि ये खबर सच है। पिछले साल जब मोनिका मैम और सुरेंद्र सर नोएडा ट्रांसफर होकर आये थे, तो कैंपस में ही मेरी उनसे मुलाकात हुई थी। उस वक़्त वो नोएडा में घर ढूंढ रहे थे। उन्होंने कहा कि घर सेट कर हम जल्दी तुम्हारे यहां आएंगे। लेकिन अब ये इंतज़ार…इंतज़ार ही रहेगा। ईश्वर मोनिका मैम को ये दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करे।

Ritika Mishra Shastri : यह लिखते हुए हाथ कांप रहे है कि Surender Paul सर हमारे बीच नहीं रहे। कल ही सोच रहीं थी कि सर से मिलना है कॉल करुंगी और आज वो हम सबको अलविदा कह कर चले गए। आप हमेशा से मेरे फेवरेट थे और रहेंगे। मन में अचानक से सारी यादें घूम रही है। सिर्फ आप ही थे जो शिक्षक के साथ-साथ दोस्त भी थे। आप ही तो थे जिससे मैं कॉलेज मे हर रोज लंच टाइम के पहले बातें करने आ जाती थी। कुछ समय पहले ही आपने कहा था रीतिका जल्दी से स्वस्थ हो जाऊ फिर तुम मुझसे मिलने आना। अब बस आपकी यादें साथ है। भगवान आपकी आत्मा को शांति दे।

Surya Prakash : याद बहुत आओंगे दोस्त… मृदभाषी,व्यवहार कुशल, हमारे सहयोगी सुरेन्द्र पॉल अब हमारे बीच नही रहें। पिछले एक वर्ष से आप बीमार थे। विश्वविद्यालय में वर्ष 2005 से संग जुड़ते ही सुरेंद्र खण्डवा परिसर का कमान सौपा गया। भोपाल के बाद पिछले वर्ष वे नोएडा परिसर आ गए थे। अल्पायु में उनका यूं चले जाने विश्वविद्यालय के लिए अभूतपूर्व क्षति है। विनम्र श्रद्धांजलि

सौजन्य- फेसबुक

Tweet 20
fb-share-icon20

भड़ास व्हाटसअप ग्रुप ज्वाइन करें-

https://chat.whatsapp.com/B5vhQh8a6K4Gm5ORnRjk3M

भड़ास तक खबरें-सूचना इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Comments on “माखनलाल पत्रकारिता विवि के सहायक प्राध्यापक सुरेन्द्र पाल का असमय निधन

  • Rajeev P. Singh says:

    माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में सहायक प्राध्यापक श्री सुरेंद्र पाल जी जैसी लोकप्रिय शख्सित का यू असमय चला जाना एक अपूरणीय क्षति है. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति और सभी को इस अपार दु:ख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें. शत-शत नमन…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *