विटामिन B17 की कमी से होने वाला कैंसर बीमारी कम, बिजनेस ज्यादा है

कैंसर कोई बीमारी नहीं बल्कि चिकित्सा जगत में पैसा कमाने का साधन मात्र है। पिछले कुछ सालों में कैंसर को एक तेजी से बढ़ती बीमारी के रूप में प्रचारित किया गया। इसके इलाज के लिए कीमियोथिरेपी, सर्जरी या और उपायों को अपनाया जाता है, जो महंगे होने के साथ-साथ मरीज के लिए उतने ही खतरनाक भी होते हैं। लेकिन, अगर हम कहें कि कैंसर जैसी कोई बीमारी है ही नहीं तो?

जी हां… यह बात बिल्कुल सच है कि कोशिकाओं की अनियंत्रित वृद्धि को स्वास्थ्य जगत में कैंसर का नाम दिया गया है और इससे अच्छी खासी कमाई भी की जाती है। इसी विषय पर लिखी गई है एक किताब ‘वर्ल्ड विदाउट कैंसर’। इसमें कैंसर से बचाव के हर पहलू को इंगित किया गया है। यह किताब अब तक विश्व की कई भाषाओं में ट्रांसलेट की जा चुकी है! इस किताब का दावा है कि कैंसर कोई बीमारी नहीं बल्कि शरीर में विटामिन ‘बी17’ की कमी होना है। मतलब कि शरीर में विटामिन बी17 की कमी से होने वाले असर को कैंसर नाम दे दिया गया है और इस कैंसर नाम को भयावह बनाते बताते हुए चिकित्सा के क्षेत्र में एक व्यवसाय के रूप में स्थापित कर दिया गया है। इस कैंसर के इलाज से फायदा मरीज को कम और चिकित्सकों को अधिक होता है।

चूंकि कैंसर मात्र शरीर में किसी विटामिन की कमी से है तो इसकी पूर्ति करके इसे कम किया जा सकता है और इससे बचा जा सकता है। यह उसी तरह का मसला है जैसे सालों पहले ‘स्कर्वी’ रोग से कई लोगों की मौते होती थी… लेकिन, बाद में खोज में यह सामने आया कि यह कोई रोग नहीं बल्कि विटामिन सी की कमी या अपर्याप्तता थी। कैंसर को लेकर भी कुछ ऐसा ही है।

इसे भी पढ़ें : कैंसर से ज्यादा खतरनाक है कैंसर का treatment

विटामिन बी 17 की कमी को कैंसर का नाम दिया गया है लेकिन इससे डरने या मानसिक संतुलन खोने की जरूरत नहीं है। आपको इसकी स्थिति को समझना होगा और उसके अनुसार इसके वैकल्पिक उपायों को अपनाना होगा। इस कमी को पूरा करने के लिए फ्रूट स्टोन, खूबानी, सेब, पीच, नाशपाती, फलियां, अंकुरित दाल व अनाज, मसूर के साथ ही बादाम विटामिन आदि लें जो विटामिन बी17 का बेहतरीन स्रोत हैं।

इनके अलावा स्ट्रॉबेरी, ब्लू बेरी, ब्लैक बेरी, कपास व अलसी के बीज, जौ का दलिया, ओट्स, ब्राउन राइस, धान, कद्दू, ज्वार, अंकुरित गेहूं, ज्वारे, कुट्टू, जई, बाजरा, काजू, चिकनाई वाले सूखे मेवे आदि विटामिन बी17 के अच्छे स्रोत हैं। इन्हें अपनी रोज की डाइट में शामिल करके आप कैंसर से यानि इस विटामिन की कमी से होने वाली गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से बच सकते हैं। खानपान ठीक रखने के साथ-साथ आप रोज 45 मिनट तक योग करें। खासकर कपालभाति। कपालभाति से शरीर के किसी भी हिस्से में हुए गठान या कैंसर को खत्म किया जा सकता है।

डॉ. निर्मला डांगी
रतलाम
मध्यप्रदेश

कैंसर के प्रति जागरूक रहने के लिए इससे संबंधित ये पोस्ट भी पढ़ें….
ऐसे वैसे जाने कैसे कैसे शराबी 😀

ऐसे वैसे जाने कैसे कैसे शराबी 😀

Bhadas4media ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶನಿವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 16, 2019
Tweet 20
fb-share-icon20

भड़ास के अधिकृत वाट्सअप नंबर 7678515849 को अपने मोबाइल के कांटेक्ट लिस्ट में सेव कर लें. अपनी खबरें सूचनाएं जानकारियां भड़ास तक अब आप इस वाट्सअप नंबर के जरिए भी पहुंचा सकते हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Support BHADAS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *