गलत खबर लिखने पर दैनिक जागरण के एक और पत्रकार की नौकरी केजरीवाल ने ले ली!

लगता है दैनिक जागरण के मुख्य संपादक और सीईओ अरविंद केजरीवाल हो गए हैं. यही कारण है कि आजकल दैनिक जागरण के पत्रकारों की छुट्टी खुद केजरीवाल की नजर तिरछी होते ही कर दी जा रही है. दैनिक जागरण के नेशनल ब्यूरो में कार्यरत पत्रकार राजकिशोर को आड-इवन पर केजरीवाल की आलोचना करने वाला ट्वीट उस समय महंगा पड़ गया जब केजरीवाल ने ऐसी घटिया टिप्पणी लिखे जाने पर नाराजगी जताई और दैनिक जागरण का विज्ञापन बंद कर दिया. पैसे के लिए जीने मरने वाले दैनिक जागरण के मालिकान ने फौरन राजकिशोर को नौकरी से निकाल दिया. यही प्रकरण अब फिर दुहराया गया है लेकिन थोड़े हेर फेर के साथ.

दरअसल इस बार दैनिक जागरण का रिपोर्टर झूठी खबर लिखने में फंस गया. ऐसा अरविंद केजरीवाल द्वारा जांच कराए जाने से सामने आया. बस फिर क्या था. उस रिपोर्टर की अखबार ने कर दी छुट्टी. दिल्ली में दैनिक जागरण के पत्रकार अरविन्द कुमार द्विवेदी ने दिल्ली में पानी के संकट पर एक सचित्र स्टोरी प्रकाशित की. इस रिपोर्टिंग में जो तस्वीर प्रकाशित हुई उसमें दिख रहा है कि औरतें पानी के लिए लड़ रही हैं. यह खबर 12 जून को दैनिक जागरण अखबार के दिल्ली संस्करण में छपी. दिल्ली के महिपालपुर में महिलाओं को पानी को लेकर लड़ते हुए दिखाया गया. केजरीवाल ने ट्विटर के जरिये अपने मंत्री कपिल मिश्रा को इस घटना की जांच कर जवाब देने को कहा.

कपिल मिश्रा ने जांच के बाद बताया कि दैनिक जागरण के रिपोर्टर ने एक ह्वाट्सएप वीडियो के आधार पर खबर का निर्माण कर दिया और उसने मौके पर जाने की कोई जहमत नहीं उठाई. कपिल मिश्रा ने रिपोर्टर के साथ हुए चैट को भी सार्वजनिक कर दिया. कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री को बताया कि रिपोर्टर घटनास्थल पर कभी गया ही नहीं. इसके फौरन बाद केजरीवाल ने ट्वीट कर ऐसी पत्रकारिता को शर्मनाक बताया.

@ArvindKejriwal

This is absolutely shocking. Is this journalism? https://twitter.com/kapilmishraaap/status/742008306286268416

केजरीवाल की नाराजगी देख दैनिक जागरण ने फौरन अपने रिपोर्टर अरविंद कुमार द्विवेदी को निकाल बाहर किया. तो इस प्रकरण से क्या शिक्षा मिलती है भाइयों? वो ये कि हे दैनिक जागरण वालों, केजरीवाल से पंगा न लेना वरना तुम्हारा लाला तुम्हार एक सेकेंड में बाहर कर देगा.

इसे भी पढ़ें….

xxx

xxx

xxx

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Comments on “गलत खबर लिखने पर दैनिक जागरण के एक और पत्रकार की नौकरी केजरीवाल ने ले ली!

  • Naushad ali says:

    इसमें गलत क्या जिस पत्रकारों पर जनता भरोसा करती है वो गलत खबर छापकर जनता के साथ साथ किसी भी पार्टी या व्यक्ति (बीजेपी को छोड़कर) बदनाम करता है उसके खिलाफ कार्यवाही होनी ही चाहये मै तो कहता है दैनिक जागरण के मालिक पर भी कार्यवाही होनी चाहये

    Reply
  • शशांक राज says:

    खबरों की सत्यता जाँच किये बगैर छापना गलत है। मेरे हिसाब से उस पत्रकार पर एक fir भी दर्ज किया जाना चाहिए। सरकार को बदनाम करने के लिए गलत अफवाह फ़ैलाने का। पत्रकारों की जबाबदेही तय होनी चाहिये। मैं इस बात का समर्थन करता हूँ। मैं बिहार से पत्रकारिता करता हूँ। अधिकाश मामलों में जाँच में लीपा पोती की जाती है। मैंने इस मुद्दे को स्थानीय स्तर पर कई बार उठाया है कि आप जाँच के दौरान खबर प्रकाशित करने वाले पत्रकार से भी सवाल पूंछे और यदि मामला गलत पाया जाता है तो उस पर fir करें। फिर मालूम होगा कि कौन सही है। पत्रकार सबूत के बिना खबर नहीं लिखता है। किसी मामले पर जाँच कर एक सप्ताह में रिपोर्ट देने का आदेश दिया गया। जाँच अधिकारी 15 दिन बाद जाँच पर गए। इतने समय में तो घटना स्थल का सारा सबूत मिटा दिया गया। फिर मेरा सवाल था कि खबर लिखने वाले से सवाल कीजिये या फिर उस पर fir कीजिये। उन्होंने कहा कि मेरा काम जाँच करना था। वरीय अधिकारी ने पत्रकार से सवाल पूछने या fir का आदेश नहीं दिया।
    ऐसे में क्या होगा। जो लोग पत्रकारिता के नाम पर वसूली करते है वे बेहतर साबित होंगे। जो पत्रकारिता में समाज की सेवा कर रहे है उनकी कभी भी हत्या हो सकती है और हो रही है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *