एक न्यूज एंकर के महापतन की कहानी इस आईपीएस की जुबानी सुनें (देखें वीडियो)

एफएम न्यूज चैनल के एंकर अजितेश मिश्रा ने महापतन की जो गाथा लिख दी है, उसकी बराबरी शायद की कोई दूसरा एंकर कर पाए. मीडिया में काम करने वाले लोगों को आमतौर पर समाज के दूसरे लोगों के मुकाबले ज्यादा संवेदनशील और उदात्त माना जाता है. इनसे अपेक्षा रहती है कि ये किसी भावना, किसी साजिश, किसी छल की बजाय बेहद ठंढे दिमाग से, लोकतांत्रिक तरीके से चीजों को समझेंगे, हल करेंगे.

पर अजितेश ने जो कर दिया, वह अकल्पनीय है. अपनी पत्नी की हत्या की ऐसी साजिश तो कोई शातिर अपराधी भी नहीं कर सकता. जो महिला अपने शादी की तस्वीरें दिखा रही हो अपने मुंहबोले भाई को, उसे क्या पता कि उसके मुंहबोले भाई को उसका पति यमदूत बनाकर हत्या के लिए भेजा हुआ है.

अपनी प्रेमिका से शादी रचाने के लिए अपनी पत्नी को रास्ते से हटाने की ये कहानी बहुत सारे लोगों को सबक सिखाएगी कि कभी भी ऐसे सपने न देखे जिसको पूरा करने का रास्ता गैर-कानूनी, अमानवीय और अलोकतांत्रिक हो. मर्डर करना कराना तो दूर, एक पत्रकार किसी का शारीरिक अहित तक नहीं सोच सकता.

पत्रकार के पास शब्दों की ताकत होती है, समझाने की ताकत होती है, लिखने की ताकत होती है. कलम की ताकत होती है. ये बहुत बड़ी ताकत है. अगर आप किसी के विचार को बदल दो तो उससे बड़ी चीज क्या हो सकती है. पर एंकर अजितेश मिश्रा ने जो रास्ता अपनाया, उसे सुन कर उसे सोचकर हर कोई कांप उठा.

सुनें एंकर के महापतन की कहानी एक आईपीएस की जुबानी, नीचे क्लिक करें-

Ek Anchor ke mahapatan ki kahani

एक महापतित एंकर की कहानी, इस आईपीएस की जुबानी

एक महापतित एंकर की कहानी, इस आईपीएस की जुबानी

Posted by Bhadas4media on Sunday, October 20, 2019

मूल खबर-

चैनल की मेकअप आर्टिस्ट के चक्कर में एंकर अजितेश मिश्रा ने मीडियाकर्मी दोस्त से पत्नी की करा दी हत्या!

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

One comment on “एक न्यूज एंकर के महापतन की कहानी इस आईपीएस की जुबानी सुनें (देखें वीडियो)”

  • prashant tripathi says:

    भौतिकवाद के इस युग में पत्रकारिता एक मिशन की जगह पेशा बन गया है.. दरअसल बहुत गंभीरता से अब सोचने की जरूरत है कि क्या वह वक्त आ चुका है कि पत्रकारिता से जुड़ने वाले लोगों की भी पड़ताल की जाए.. यह पता किया जाए कि जो लोग इस पेशे से जुड़े हैं क्या वह सक्षम है कि अपनी बातों को दूसरों तक समझा सकते हैं.. उसके बाद ही पत्रकारों की नियुक्ति के लिए संस्थान गंभीर हो तो इस मिशन को आगे बढ़ाया जा सकता है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *