भूमि अधिग्रहण अध्यादेश विरोधी आंदोलन की रिपोर्टिंग पर अपनी विश्वसनीयता को संदिग्ध न बनाए मीडिया

लखनऊ । रिहाई मंच ने जन्तर-मन्तर पर चल रहे भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ चल रहे जनआंदोलन का समर्थन करते हुए मीडिया से अपील की है वह इस आंदोलन की रिपोर्टिंग में अपनी तटस्थता व विश्वसनियता बनाए रखे। उसे वहीं दिखाना चाहिए जो इस आंदोलन के वास्तविक नेता और संगठन हैं न कि ऊपर से थोपे गए मीडिया और कारपोरेट निर्मित चेहरों को जो हर आंदोलन के अंत में सरकारों से समझौता कर लेते हैं।

रिहाई मंच प्रवक्ता शाहनवाज आलम ने कहा कि इस पूरे आंदोलन में देश भर से वामपंथी पार्टियों के नेता-कार्यकर्ता हजारों की तादाद में अपने झंडे और बैनरों के साथ आए हैं, वहीं दूसरी ओर कुछ एनजीओ के कार्यकर्ताओं ने अन्ना हजारे को केन्द्रित करते हुए एक अलग मंच लगया है। चैनल जिस मंच पर अन्ना को बैठे दिखा रहे थे, वह मंच अन्ना का नहीं था बल्कि वांमपथी पार्टियों माकपा, भाकपा, माले व अन्य दलों का था। जबकि अन्ना का अपना मंच थोड़ी ही दूर पर वीरान पड़ा था। उन्होंने कहा कि वामपंथियों के मंच जिनके आह्वान पर केरल, कश्मीर, उड़ीसा तक से किसान मजदूर आए हैं उनके नेताओं सुनीत चोपड़ा, अतुल अंजान, हन्नान मुल्ला, कविता कृष्णन आदि को साजिशन अनदेखा करते हुए आंदोलन का नेता अन्ना को बताना तथ्यों के साथ छेड़छाड़ है। उन्होंने कहा कि इसी तरह मीडिया में बताया गया कि अरविंद केजरीवाल ने अन्ना के मंच पर आ कर उनके आंदोलन का समर्थन किया जो कि गलत है। अरविन्द केजरीवाल जिस मंच पर गए थे वह वामपंथी पार्टियों का था न कि अन्ना के समर्थकों द्वारा घोषित मंच था।

रिहाई मंच नेता अनिल यादव ने कहा कि मीडिया का यह आचरण एक वेब साइट (http://www.junputh.com/2015/02/blog-post_25.html) में गृह मंत्रालय के सूत्र के हवाले से छपी खबर की उनकी तरफ से चैनलों को निर्देशित कर दिया गया है कि आंदोलन में उन्हीं चेहरों को दिखाया जाए जो निगोशिएबल हों यानी जिनसे समझौता किया जा सके, और भी शर्मनाक हो जाता है। जिससे यह साफ होता है कि अपने को गैरराजनीतिक बताने वाले अन्ना और राजगोपाल इत्यादि को सरकार के इशारे से इस आंदोलन का नेता मीडिया बता रही है। ताकि उनसे जरूरत पड़ने पर समझौता किया जा सके जैसा कि तीन साल पहले आदिवासियों के सवाल पर काफी बड़े-बड़े दावों के साथ पीवी राजगोपाल ने दिल्ली तक यात्रा निकाली थी और दिल्ली पहुंचने से पहले आगरा में ही तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश के साथ सौदा कर लिया था और इसी मीडिया ने उस यात्रा में शामिल 12 आदिवासियों जो गर्मी से मर गए थे कि खबर तक नहीं दिखाई।

द्वारा जारी
शाहनवाज आलम
प्रवक्ता, रिहाई मंच
09415254919

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code