आजमगढ़ वाले पत्रकार अरविंद कुमार सिंह डाक्टरेट उपाधि से विभूषित हुए

आजमगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार सिंह को पिछले दिनों आंचलिक पत्रकारिता पर किए गए विशेष शोधकार्य के लिए देश की राष्ट्रीय महत्व की संस्था- ‘ उच्च शिक्षा एवं शोध संस्थान, दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा मद्रास’ से डाक्टरेट की उपाधि मिली. इस ख़बर से आजमगढ़ समेत पूर्वांचल के पत्रकार और साहित्यकार गदगद हैं. उन्होंने श्रीसिंह को उनके इस महत्वपूर्ण शोधप्रबंध के लिए बधाई दिया है.

बताते चले कि श्रीसिंह ने डीबीएचपी मद्रास के हैदराबाद केन्द्र से हिंदी विषय में शीर्षक- “स्वतंत्रता आंदोलन के परिप्रेक्ष्य में आंचलिक हिंदी पत्र-पत्रिकाओं का योगदान ” विषय पर शोधकार्य के लिए विगत वर्षों में विधिवत पंजीकृत शोधार्थी के रूप में कार्य प्रारंभ किया था. इसके पूर्व उन्होंने एमफिल भी इसी अनुसंधान केन्द्र से आंचलिक पत्रकारिता पर ही पूरा किया था, जिस पर उन्हें दो स्वर्ण पदक मिले थे. पीएचडी के लिए उसी आंचलिक पत्रकारिता पर स्वतंत्रता आंदोलन कालीन संदर्भों पर बहुत ही विशष अध्ययन किया और स्वतंत्रता संग्राम में आंचलिक पत्रकारिता की भूमिका को बड़े ही तथ्यात्मक ढंग से उठाया है, जो ज्ञान के क्षेत्र में एक नवीन अध्याय के रूप में जुड़ गया.

विगत दिनों 26 जून को आनलाईन मौखिकी परीक्षा में तमिलनाडु केन्द्रीय विश्वविद्यालय के प्रोफेसर नारायण राजू बाह्य परीक्षक के रूप में जुड़े और दिल्ली विश्वविद्यालय से डा० शैलजा तथा हैदराबाद केन्द्र से जी नीरजा, विभागाध्यक्ष- संजय एल० मादार,तथा स्वयं विश्वविद्यालय कैंपस से परीक्षा नियंत्रक रंजय सिंह सहित कुल 41 प्रोफेसर और शोधार्थी, विश्वविद्यालय के चारों अनुसंधान केन्द्रों से इस वाइबा में जुड़े थे. लगभग एक घंटे चले इस परीक्षा में श्रीसिंह की शोधकार्य से संबंधित विभिन्न चरणों पर विस्तार से विषय को रखा और विशेषज्ञों के प्रश्नों तथा जिज्ञासाओं को शांत किया, जिसके बाद जूरी ने पीएच०डी० को एवार्ड किया.

इस अवसर पर शुभचिन्तको और पत्रकारों ने बधाइयाँ दीं. जिसमें प्रमुख रूप से साहित्यकार जगदीश बरनवाल कुंद, अमन कुमार त्यागी, पत्रकारिता और सामाजिक क्षेत्र से क्षेत्र से एसके दत्ता, आशुतोष द्विवेदी, डा० दिग्विजय सिंह, दीप नारायण मिश्रा, महेंद्र सिंह, वसीम अकरम, उपेन्द्र मिश्रा, पवन सिंह, स्वरमिल चन्द्रा, सुभाषचंद्र सिंह, राजेश चन्द्र मिश्र, मो० अख्तर, सहजानंद राय, पारितोष राय, राणा बलवीर सिंह, रामाधीन सिंह,डा० कन्हैया त्रिपाठी आदि हैं.



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code