Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

द गार्जियन के खुलासे पर भारतीय मीडिया में चुप्पी!

गिरीश मालवीय-

द गार्जियन के खुलासे पर भारतीय मीडिया में अजीब सी चुप्पी है। कल गार्जियन में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस्राइल के कॉन्ट्रैक्टर्स की एक टीम ने दुनिया में 30 ज्यादा चुनावों में हेरफेर की। ऐसा उन्होंने हैकिंग, सोशल मीडिया के जरिए दुष्प्रचार और चुनाव प्रक्रिया में रुकावट डाल कर किया।

Advertisement. Scroll to continue reading.

कॉन्ट्रैक्टर्स की इस टीम के संचालक 50 वर्षीय ताल हनान हैं, जो तेल अवीव में रहते हैं। वे इस्राइल के एक स्पेशल फोर्स के पूर्व कर्मचारी हैं। उन्होंने विभिन्न देशों में चुनावों को प्रभावित किया है, हनान की यूनिट कोड नेम “टीम जोर्ज” के तहत काम करती है।

इंटरनेशनल कॉन्जर्टियम ऑफ जर्नलिस्ट्स (आईसीजे) ने इस पूरे मामले का खुलासा किया है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

टीम जॉर्ज की प्रमुख सेवाओं में से एक परिष्कृत सॉफ्टवेयर पैकेज, एडवांस्ड इम्पैक्ट मीडिया सॉल्यूशंस या एम्स है। यह ट्विटर, लिंक्डइन, फेसबुक, टेलीग्राम, जीमेल, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर हजारों फर्जी सोशल मीडिया प्रोफाइल की विशाल आर्मी को नियंत्रित करता है।

पहले केंब्रिज एनेलिटिका फिर पगासस और अब इस टीम जॉर्ज के खुलासे के बाद अब यह सिद्ध हो गया है सोशल मीडिया का असली इस्तेमाल कौन कर रहा है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

आप इस भरम में है कि आप सोशल मीडि‍या का उपयोग कर रहे हैं, लेकिन हकीकत में वो आपका इस्‍तेमाल कर रहा है।दुनिया भर में ऐसे गुप्त संगठन जिनके पास डेटा को समझने और हासिल करने की ताकत होती है, वे अब सोशल मीडिया की सहायता से अब चुनावों को प्रभावित कर रहे हैं।

18 से 30 साल की आयु वाले वोटर जो पहले अपने परिवार की परंपरा के आधार पर वोट डालते थे, आज उनकी खुद की सोच है पसंद नापसंद है। और ये पसंद बन रही है सोशल मीडिया से।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सोशल मीडिया पर भी इसी आयुवय के लोगो की भरमार है ट्विटर और फेसबुक के पेज शख्सियत केन्द्रित है न कि विचारधारा केन्द्रित। पार्टी ब्रांड से ज्यादा व्यक्ति पर आधारित है।

फेसबुक ट्विटर और व्हाट्सएप व्यक्तिगत व सामूहिक जासूसी का बड़ा माध्यम बन चुके हैं। 2024 के चुनाव मे वोट डालने वाले 18 से 22 की आयुवर्ग वाले युवा 30 फीसदी के आस पास होंने जा रहे हैं भारत में फेसबुक के 50 फीसदी से ज्यादा यूजर्स की उम्र 25 साल से कम है। ये युवा ही इनका मेन टारगेट है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सोशल मीडिया बिग डेटा इकट्ठा करता है और इस बिग डेटा का विश्लेषण डाटा साइंस के जरिये किया जाता है विभिन्न तरह के डाटा की अंदरूनी जानकारियां रिकॉर्ड कर उन्हें अलग-अलग ट्रेंड, व्यवहार और बाजार के मूड के अनुसार अध्ययन किया जाता है।

यदि हम कारपोरेट जगत का उदाहरण ले तो कौनसी कंपनी बाजार के अनुसार किस तरीके से काम कर रही है उस सभी डाटा को इकट्ठा किया जाता है और फिर इन जानकारियों को खास गणित की प्रणालियों के इस्तेमाल से इसके पैटर्न का अध्ययन किया जाता है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

ठीक यही काम अब चुनावी दल भी करते हैं।

डाटा एनालिसिस करने वाली कंपनियां फेसबुक डाटा के जरिए यूजर्स की प्रोफाइलिंग करती हैं। यूजर के पर्सनल डाटा को ध्यान में रखकर उसकी राजनीतिक पसंद, नापसंद को देखते हुए उससे जुड़ी हुई पोस्ट ही दिखाती हैं। लंबे समय तक ऐसी पोस्ट देखने से व्यक्ति का झुकाव किसी भी राजनीतिक पार्टी की तरफ हो जाता है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

किसी भी नए यूजर की फेसबुक प्रोफाइल को डिकोड करने का एक फॉर्मैट है। इसके तहत प्रोफाइल बनाने के बाद उसके 10 पोस्ट शेयर, 100 पोस्ट लाइक और 20 पोस्ट का वैज्ञानिक विश्लेषण किया जाता है। साथ ही उसके नैटवर्क और ग्रुप का विश्लेषण किया जाता है। राजनीति से जुड़े पेज इन्हीं प्रोफाइल को देखकर बनाए जाते हैं और उन पर पोस्ट भी उसी अनुरूप में दिए जाते हैं।

कुछ साल पहले ब्रिटिश चैनल-4 ने केंब्रिज एनालिटिका के आधिकारियों का स्टिंग कर उनसे कबूलवाया था कि उनकी कम्पनी द्वारा डाटा की बड़े पैमाने पर चोरी की गई है। यह कंपनी दुनिया भर के राजनीतिक दलों के लिए चुनाव के दौरान सोशल मीडिया कैंपेन चलाती है। अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए यह फर्म हनी ट्रैप, फेक न्यूज जैसे गलत हथकंडे भी अपनाती है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

ऐसे ही एनिलिसिस से केंब्रिज एनेलेटिका और टीम जॉर्ज जेसे समुह अपनी अनुशंसा राजनीतिक दलों को देते हैं आपको याद होगा कि 2019 के चुनावों में ‘नमो टीवी’ अचानक से अस्तित्व में आया।

पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान 31 मार्च को यह चैनल सभी बड़े डीटीएच प्लेटफ़ॉर्म और केबल ऑपरेटरों के जरिये देशभर में अचानक से प्रसारित होने लगा, और मतदान ख़त्म होते ही ग़ायब हो गया था. न तो इसका कोई पंजीकरण था और न ही कोई इसका मालिक. हां, पहले दिन भाजपा ने सोशल मीडिया पर इसका ख़ूब प्रचार ज़रूर किया था. इसका नेटवर्क भाजपा के केंद्रीय दफ़्तर के नाम पर पंजीकृत ‘नमो एप’ पर भी था।

Advertisement. Scroll to continue reading.

यानी हर तरफ के हथकंडे अपनाए जाते हैं।

हार्वर्ड के मनोवैज्ञानिक डैनियल गिल्बर्ट ने लिखा है, ‘लोगों में अक्सर किसी बात पर तुरंत विश्वास करने की प्रवृत्ति पाई जाती है। साथ ही उनके लिए किसी चीज को शक के नजरिये से देखना भी मुश्किल होता है। वास्तव में विश्वास करना इतना आसान और अवश्यंभावी है कि लोग तर्कों पर कसने के बजाय स्वत: ही चीजें स्वीकार कर लेते हैं।’ गिल्बर्ट और उनके सहयोगियों ने प्रयोगों द्वारा यह सिद्ध किया है कि लोग अक्सर उन चीजों को पहली नजर में सही मान लेते हैं, जो वह पढ़ते हैं सुनते हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सोशल मीडिया ही आज युवाओं के फर्स्ट इंफरमेशन का स्त्रोत है इसलिए ऐसे दौर में सेलेब्रिटी संस्कृति को प्रोत्साहित कर ये काम मास लेवल पर किया जाता है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement