हिंदुस्तान देहरादून से भी दस मीडियाकर्मी हटाए गए

हिंदुस्तान अखबार से जिस कदर निर्ममता से पूरे देश भर से पत्रकारों को नौकरी से निकाला गया, वह अपने आप में एक मिसाल है. कहने को तो इस देश में लोकतंत्र है, नियम कानून का राज है लेकिन मीडिया हाउसों के मालिकों के चरणों में लोकतंत्र नतमस्तक दिखता है. इन्हें किसी का डर नहीं. न श्रम विभाग से, न कोर्ट से, न अफसर से, न मंत्री से, न अपने कर्मियों से. ये सबसे बड़े अलोकतांत्रिक और अमानवीय लोग हैं.

हिंदुस्तान अखबार से मीडियाकर्मियों को निकाले जाने के क्रम में सूचना है कि देहरादून संस्करण से भी कइयों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

बताया जा रहा है कि देहरादून हिंदुस्तान से कुल दस लोग निकाले गए हैं. इनमें तीन स्टाफर हैं और 7 स्टिंगर हैं.

सूत्रों के मुताबिक जिन स्टाफर्स को कार्यमुक्त किया गया है उनके नाम हैं- प्रदीप बहुगुणा, नरेंद्र शर्मा और चीफ फोटो जर्नलिस्ट प्रवीण डंडरियाल.

कार्यमुक्त किए गए स्टिंगर्स में कुणाल, रश्मि, संजय, अजय आदि हैं.

एक मीडियाकर्मी द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

ये भी पढ़ें-

हिंदुस्तान से एनई ने दिया इस्तीफा

हिंदुस्तान अखबार में फिर कई सम्पादक बदले, एक की छुट्टी

हिंदुस्तान अलीगढ़ यूनिट में फिर दो पत्रकार छंटनी की भेंट चढ़े

हिंदुस्तान अखबार के इस सम्पादक की भी हो गयी छुट्टी!

हिंदुस्तान अखबार में भयंकर छंटनी के खिलाफ इस ट्रेड यूनियन लीडर ने उठाई आवाज

हिंदुस्तान लखनऊ से रचना सरन और आशीष राजपूत का विकेट गिरा!

हिंदुस्तान में छंटनी का दौर जारी! हल्द्वानी, नोएडा, अलीगढ़, रांची से कई लोग कार्यमुक्त

हिंदुस्तान बनारस से तीन पत्रकार हटाए गए

हिंदुस्तान के स्थानीय संपादक पर गिरी गाज, रांची में भी छंटनी

हिंदुस्तान भागलपुर में अब ‘यस सर’ वाले ही बच गए हैं!

हिंदुस्तान की नोएडा और लखनऊ यूनिटों में भी छंटनी, दर्जनों हटाए गए

हिंदुस्तान आगरा से आठ पत्रकारों के लिए गए इस्तीफे

हिंदुस्तान भागलपुर से 11 लोग फायर, संपादक के खास रविंद्र-वीरेंद्र सुरक्षित

हिंदुस्तान आगरा में भी छंटनी

हिंदुस्तान में फेरबदल : सुनील द्विवेदी लखनऊ और आशीष त्रिपाठी कानपुर के स्थानीय संपादक बने

छंटनी के बाद सदमे में आए ‘हिंदुस्तान’ संवाददाता की ब्रेन हैमरेज से मौत

हिंदुस्तान बरेली में 11 साल पुराने हेड डिजाइनर को नौकरी से निकाला

हिंदुस्तान अखबार में शीर्ष स्तर पर व्यापक फेरबदल, कई संपादकों की जिम्मेदारी बदली, एक की छुट्टी

हिंदुस्तान में भयंकर छंटनी चल रही, एक अन्य संपादक नपा, प्रधान संपादक की नौकरी भी खतरे में!

हिंदुस्तान लखनऊ के रेजिडेंट एडिटर समेत डेढ़ दर्जन पत्रकारों की नौकरी गई

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *