वरिष्ठ IRS अधिकारी ने दो महिला IRS अफसरों को उनके मुंह पर कह दिया ‘वेश्या’!

आईआरएस अधिकारी संजय श्रीवास्तव


‘वेश्या’ कहे जाने को सुप्रीम कोर्ट ने भी किया नजरअंदाज, कैट ने आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशिमा नेब का प्रमोशन रोका….  सुप्रीम कोर्ट ने आईआरएस अधिकारी शुमाना सेन और एक अन्य आईआरएस अधिकारी अशिमा नेब को कमिश्नर एसके श्रीवास्तव द्वारा “वेश्या” कहे जाने को नजरअंदाज कर दिया। ज्ञात हो कि शुमाना सेन एंकर अभिसार शर्मा की पत्नी हैं।

केंद्रीय प्रशासनिक पंचाट (सीएटी) दिल्ली ने आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशीमा नेब की तरक्की रोक दी है। इन दोनों पर आरोप है कि इन्होंने वरिष्ठ आईआरएस अधिकारी एसके श्रीवास्तव के खिलाफ आपराधिक साजिश रच कार्रवाई की। वरिष्ठ आईआरएस अधिकारी एसके श्रीवास्तव ने एनडीटीवी के फ्रॉड का खुलासा किया था। शुमाना सेन तथा अशीमा नेब पर आरोप है कि उन्होंने यौन उत्पीड़न का फर्जी आरोप लगाकर उन्हें मुअत्तल कराया और सेवा से हटवा दिया। यह एनडीटीवी के फ्रॉड का खुलासा करने के चलते किया गया था। उस समय पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे।

न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ और न्यायमूर्ति एसए नजीर की खंडपीठ ने शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2018 को आईआरएस अधिकारिय़ों शुमाना सेन और अशीमा नेबा की शिकायतों और एतराज को खारिज करके एक तरफ सरका दिया। दोनों आईआरएस महिला अधिकारियों की शिकायत थी कि वरिष्ठ आईआरएस अधिकारी और नोएडा के कमिश्नर अपील्स  एसके श्रीवास्तव उन्हें “वेश्या” कहते हैं और वह भी उनके मुंह पर।

अरुण जेटली के नेतृत्व वाले वित्त मंत्रालय के जोरदार विरोध के बावजूद न्यायमूर्ति एन नरसिम्हन रेड्डी की खंडपीठ और सीएटी की न्यायमूर्ति अराधना जौहरी, प्रमुख पीठ, दिल्ली ने यूपीएससी और सरकार को इन आईआरएस अधिकारियों – शुमाना सेन और अशीमा नेब को कमिश्नर श्रीवास्तव के खिलाफ उनकी आपराधिक कार्रवाई के कारण तरक्की देने से रोक दिया। इन पर एनडीटीवी और इसके स्वामी की रक्षा के लिए यौन उत्पीड़न का फर्जी मामला बनाने का आरोप है। इस मामले में आपराधिक कार्रवाई के लिए इन्हें पटियाला हाउस, दिल्ली में समन किया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने कमिश्नर श्रीवास्तव के खिलाफ इन आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशीमा नेब के इस प्रलाप को नजरअंदाज कर दिया कि उन्हें “वेश्या” कहा जाता है क्योंकि शुमाना सेन और अशीमा नेब ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एक मेडिटेशन ध्यान में हिस्सा लेने से मना कर दिया। आधार यह बताया गया कि श्रीवास्तव उनके निजी जीवन के बारे में बोलेंगे जिसे वे ना रोक पाएंगी ना मना कर पाएंगी। इसलिए श्रीवास्तव को सुप्रीम कोर्ट द्वारा आदेश दिया जाए कि वे उनके निजी जीवन के बारे में न बोलें। ऐसा नहीं करने पर शुमाना सेन और अशीमा नेब ने केरल हाई कोर्ट के पूर्व जज द्वारा किए जाने वाले मेडिटेशन (ध्यान) में हिस्सा लेने से मना कर दिया था।

12 अक्तूबर को दोनों आईआरएस अधिकारी, शुमाना सेन और अशीमा नेब निजी तौर पर सुप्रीम कोर्ट में मौजूद थीं। इन लोगों ने निजी तौर पर सुप्रीम कोर्ट में शिकायत की थी कि कमिश्नर उन्हें नियमित रूप से “वेश्या” कहते हैं और वह भी मुंह पर ही। सुप्रीम कोर्ट ने आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशीमा नेब की इस मांग पर भी विचार करने से मना कर दिया कि श्रीवास्तव और सीएटी, दिल्ली को उनकी तरक्की का विरोध करने से रोका जाए जिसका आदेश वित्त मंत्री ने किया है पर सरकारी नियमों तथा डीओपीटी के निर्देशों का उल्लंघन करके तथा सीएटी, दिल्ली को अनुमति दी कि आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशीमा नेब की अवैध तरक्की को खारिज कर दिया जाए।

एक अन्य आईआरएस अधिकारी एसआर सेनापति द्वारा दाखिल एक और शिकायत पर सीएटी दिल्ली ने 12.10.2018 को ही आदेश दिया कि कमिश्नर श्रीवास्तव के खिलाफ यौन उत्पीड़न का फर्जी मामला बनाने और एनडीटीवी व उसके मालिकों को बचाने के लिए असल अपराधी आईआरएस  शुमाना सेना और अशीमा नेब हैं। इन्हें तरक्की नहीं दी जानी चाहिए। आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशीमा नेब को जब आपराधिक मामले में पटियाला हाउस कोर्ट में समन किया गया है तब तरक्की देने की वित्त मंत्री की कार्रवाई गलत है।

अदालत ने अरुण जेटली के नेतृत्व वाले वित्त मंत्रालय के इस विरोध को खारिज करने के बाद दोनों आईआरएस अधिकारियों शुमाना सेन और अशीमा नेब की तरक्की रोकने के आदेश दिए। कोर्ट ने कहा कि शिकायत कमिश्नर श्रीवास्तव ने दाखिल किए हैं, न कि पी चिदंबरम के नेतृत्व वाले वित्त मंत्रालय ने। वित्त मंत्रालय का कहना था कि अदालत को चाहिए कि उच्च पदों पर उनकी तरक्की की इजाजत दे।

IRS officers being “prostitutes”

Supreme Court ignored or rather allowed IRS officer Shumana Sen who is also the wife of the former BBC anchor & NDTV, ZEE & ABP News anchor & IRS officer Ashima Neb being called “prostitutes” by the Commissioner S.K. Srivastava.

The CAT, Delhi has barred the promotion of the two IRS officers Shumana Sen being wife of former BBC producer & NDTV, ZEE & ABP News anchor Abhisar Sharma & Ashima Neb because of their criminal acts & conduct against senior IRS officers S.K. Srivastava who exposed the NDTV fraud & against whom both of those IRS officers Shumana Sen & Ashima Neb had earlier faked sexual harassment to get him placed under suspension & removed from service by Finance Minister P. Chidambaram for exposing NDTV frauds.

The Division Bench of Justice Kurien Joseph & Justice SA Nazeer of Supreme Court of India on Friday, 12.10.2018 ignored & brushed aside the grievances & compliants of IRS officers; Shumana Sen who is wife of the former BBC producer & NDTV, ZEE & ABP News anchor Abhisar Sharma & Ashima Neb that they were being called by the senior IRS officer & Commissioner appeals of NOIDA “prostitutes” that too on their faces.

Later in the day, despite the strong opposition of Arun Jaitley led Finance Ministry; Division Bench of Justice N. Narsimha Reddy & Justice Aradhana Johari of CAT, Principle Bench, Delhi barred the UPSC & the Govt. from promoting IRS officers Shumana & Ashima Neb because of their criminal act against Commissioner Srivastava being faking of sexual harassment against him to save NDTV & its owners & for which they have been summoned by the Patiala House Court in Delhi to face the criminal trial.

Supreme Court ignored the rant of the IRS officers Shumana & Ashima Neb against Commissioner Srivastava over being called “prostitute” by him because Shumana Sen & Ashima Neb refused to participate in the meditation ordered by the Supreme Court on the ground that in that mediation Srivastava would start speaking the truth about their private lives which they would not be able to controvert or refute & unless Srivastava is ordered by the Supreme Court not to disclose the details of their private lives; Shumana Sen & Ashima Neb would not join the mediation being done by the former judge of Kerala High Court.

Both of those IRS officers Shumana Sen & Ashima Neb were personally present in the Supreme Court on 12.10.2018 & had personally complained to the Supreme Court that Commissioner regularly calls them “prostitutes” that too on their faces itself.

The Supreme Court also declined to entertain the demands of Shumana Sen & Ashima Neb that Srivastava & the CAT, Delhi be stopped from objecting to their promotion which has been ordered by the Finance Minister but by violating the Govt. rules & allowed the CAT, Delhi to reject the illegal promotion of IRS officers Shumana Sen & Ashima Neb ordered by the Finance Ministry of Arun Jaitley but by violating the DOPT Instructions.

The CAT, Delhi in a complaint filed by another IRS officer S.R. Senapati ordered on 12.10.2018 that IRS officers Shumana Sen & Ashima Neb who faked sexual harassment Commissioner Srivastava to save NDTV & its owners were criminals & should not be promoted & action of Finance Ministry to promoter them when Shumana Sen & Ashima Neb had been summoned by the Patiala House Court in Delhi to face criminal trial was wrong.

The Court ordered stopping the promotion of both IRS officers Shumana Sen & Ashima Neb after rejecting the opposition of the Arun Jaitley led Finance Ministry that the complaints against Shumana Sen & Ashima Neb were filed by Commissioner Srivastava & not by the P. Chidambaram led Finance Ministry & therefore, the Court should allow their promotion to higher post.

It may be noted by the esteemed readers of “bhadas4media” that the inhuman harassment of Commissioner Srivastava by NDTV & P. Chidambaram & his heroic exposure of NDTV frauds & the bribe paid by NDTV & its owners to corrupt IRS officers that included Shumana Sen has been independently reported by the “bhadas4media” & its editorial team over all these years.

इन्हें भी पढ़ें….

इस IRS अफसर ने किया चिदंबरम, प्रणय राय और NDTV को एक्सपोज… देखें 3 Video

xxx

सीबीआई जांच के घेरे में आए पत्रकार अभिसार शर्मा और उनकी आईआरएस पत्नी सुमाना सेन, पढ़ें पत्र

xxx

प्रणय राय की काली कमाई की पोल खोल दी इस IRS अधिकारी ने, देखें वीडियो

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *