अमर उजाला में महिला पत्रकार को लॉकडाउन के दौरान नौकरी से निकाला

सेवा में,
भड़ास 4 मीडिया

विषय : लॉकडाउन के दौरान वेतन न देने व बिना जानकारी के नौकरी से बर्खास्त करने हेतु।

महोदय,

सविनय निवेदन है कि मैं ज्योती सक्सेना अमर उजाला की कॉट्रेक्ट रिपोर्टर हूं। अमर उजाला में मेरी भर्ती संवाद न्यूज़ एजेंसी, बरेली द्वारा हुई थी। मेरे रिपोर्टर इंचार्ज राजन सर के कहने पर लॉकडाउन के दौरान मुझे वेतन नहीं दिया गया साथ ही बिना जानकारी मुझे नौकरी से भी बर्खास्त कर दिया गया है।

इस बात की पुष्टि मुझे एच.आर विभाग से हुई, जब मैंने वेतन न आने पर विभाग में संपर्क किया, तब मुझे यह कहा गया कि राजन सर ने विभाग में यह जानकारी दी है कि मैंने 31 मार्च 2020 को नौकरी छोड़ दी है। इसके बाद मैंने राजन सर से संपर्क किया लेकिन न ही उन्होंने मेरा फोन उठाया और न ही मेरे मैसेज पर कोई प्रतिक्रिया दी।

तत्पश्चात् मैंने अन्य वरिष्ठ अधिकारी से संपर्क किया और अपनी विवशता उनके सामने रखी तो उनकी ओर से दूसरा बयान सामने आया कि ‘मैंने मार्च महीने में काम ही नहीं किया है, इस कारणवश राजन सर ने मुझे नौकरी से बर्खास्त कर दिया होगा।‘

इसके बाद मैंने संवाद न्यूज़ एजेंसी के एच.आर विभाग से संपर्क किया। जिनसे मुझे यह जानकारी प्राप्त हुई कि ‘ब्यूरो द्वारा मेरा त्याग पत्र एच.आर विभाग को भेजा गया है’, लेकिन मेरे द्वारा ऐसा कोई त्याग पत्र ब्यूरो को नहीं दिया गया है। अत: ब्यूरो द्वारा भेजा गया ये त्याग पत्र पूर्णत: जाली है।

महोदय लॉकडाउन के पहले 21 मार्च 2020 तक मैं लगातार ऑफिस गई हूं साथ ही काम भी दिया है। जब्कि करीब 17 मार्च 2020 से मेरी तबीयत कुछ खराब थी, जिसको ध्यान देते हुए ऑफिस स्टाफ ने मुझे डॉक्टर को दिखाने के लिए भी कहा था। लॉकडाउन में भी मैं डॉक्टर से जॉच कराती रही साथ ही प्रिस्क्रिपशन व रिपोर्ट राजन सर को भेजती रही व अपनी तबीयत से अवगत कराती रही। ऐसे मेरी तबीयत न ठीक होने पर ऑफिस स्टाफ की तरफ से ही मुझे कोविड हैल्पलाइन का न. दिया गया, जिसके जरिए मेरा संपर्क डॉ. मनोज से हुआ, जिनसे संपर्क करने पर मुझे होम क्वारंटाइन रहने को कहा गया। अत: मेरी तबीयत खराब होने के चलते मैं कार्य करने में असमर्थ रही।

अत: आपसे निवेदन है कि उचित कार्यवाई कर मेरे साथ हो रही अमानवीयता का समाधान करें।

धन्यवाद

आभार

ज्योती सक्सेना

लखनऊ।

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “अमर उजाला में महिला पत्रकार को लॉकडाउन के दौरान नौकरी से निकाला

  • Manish Singh says:

    This is totally unethical..
    As per govt instructions: The Home Secretary, The Ministry of Home Affairs (MHA) and the Government of India, through an Order dated 29.03.2020, directed the authorities of the State/Union Territories to take necessary action and to issue the necessary orders to their District Administration / Police Authorities in order to ensure that all the employers, shall make payment of wages to their workers on the precise due date, without any deductions for the period during the nationwide lockdown when the commercial and business establishments are under closure. In addition, The Ministry of Labour & Employment, The Government of India through its letter dated 20/03/2020, advised all the employers of Public and Private Establishments to not terminate their employees or implement any kind of wage cut. The Order, specifically laid emphasis on the casual or contractual worker. The Order said that if any worker took any leaves, he should be deemed to be at work without any substantial wage cut during the time of the nationwide lockdown. Further, if the employment space is deemed as non-operational due to the COVID-19 lockdown, the workers of such units shall be deemed to be on duty. In certain states such as Haryana, the Director, Industries of Commerce, Haryana through their advisory dated 27/03/2020 has advised all the industrial and commercial establishments to transfer salaries to those who are employed under them.

    This girl is on contract basis as per the post. How India’s 3 rd largest newspaper can do this to anyone…?? I think they dun follow govt rules..

    Reply
  • Amar Ujjala is old newspaper agency, can’t aspect such fraud happen, this is case of fraud attempt to female employee, as per Prime Minister said no employees can be expelled from organization during COVID-19 period, fraud letter shared by Mr Rajan, without any verification from victim employee Ms. Jyoti Saxena how can this be considered by HR team.
    It is shame on newspaper industry, need enquiry on this.
    Shame on u guys, coward

    Reply
  • shubham Srivastava says:

    omg…. amar ujala se aisa expected nhi tha…. means ye log i. e. MEDIA, which is fourth pillar… syd ab inpe hi public jyada trust krti hai nd agr ye log hi unethical ho jaayege to kaise kaam chlega….. SHAME ON YOU AMAR UJALA

    Reply
  • Uday bhan says:

    Ye bilkul bhi thik nahi kiya amar ujala ne…. Ab media bhi agar aise unethical karega to fir kya hoga…. Action should be taken against Mr rajan……

    Reply
  • This is unethical.. Resignation comes from employee’s email or with signature on a paper atleast. Forged signature is crime. she should complain this to HR first about this and HR dept not pursue this complain then go to higher authorities.

    Reply
  • Satish Saini says:

    अमर उजाला राज्य का जाना माना न्यूज पेपर हैं जिसपे लोगों का विश्वास भी भी बना हुआ है… लेकिन इसके बावजूद भी बिना किसी पूर्व सूचना के इस महिला को नौकरी से निकाल दिया गया है.. जिससे इनकी प्रतिष्ठा पर सवालिया निशान लगाना ही चाइये… और इनकी जवाबदेही भी बनती है..

    Reply
  • SHUBHAM MATHUR says:

    This type of unethical behavior is totally not acceptable from a media brand like Amar Ujala,this is a matter of shameful forgery of resignation letter of the employee and disrespectful behaviour towards their own employ.If a brand like Amar Ujala who is widely readed and one of the top newspaper media agency this will disgrace their image.They should apologize to Miss Jyoti in written and take strict action against Mr. Rajan.And if any action has not be taken by the media agency then I promise you to spread this matter to every sohail media platform and will send the written complaint to Press Council.

    Reply
  • It’s already a law that , no company can fire their employees during this crisis.
    It’s really so inhuman action in such crucial time.
    Shame!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code