इत्ता सारा सफ़ेद धन आवे कहाँ से जो हर अख़बार टीवी ख़रीद लेवे?

Om Thanvi : इसके बावजूद समर्थन के लिए दोस्तों और दुश्मनों के सामने याचक बने बैठे हैं? … और मितरो, इतना (सफेद) धन आवे कहाँ से है?

Sheetal P Singh : कहानी तो यहाँ है! इत्ता सारा सफ़ेद धन आवे कहाँ से जो हर अख़बार टीवी ख़रीद लेवे?

Manoj Dash : Manufacturing consent and opinion with in home black money. How can I trust the intent? This is the reason why black money issue is bound to stay in cold storage till next election.

Vandan Kumar : इसीलिए तो स्विस बैंक से वापस लाने लायक कुछ बचा ही नहीं… ‘पाई – पाई’ में से कुछ पाईयाँ ही मिलेंगी!

Zafar Ali : जब तक अम्बानी की मेहर है? कालाधन विदेश से आएगा नहीं चुनाव सामाग्री पे खर्च होगा बस

Kamal Joshi : क्या दादा आप भी….रिलायंस के गैस के दाम ऐसे ही बढ़ गए क्या ? कुछ एक अखबारों में विज्ञापन तो मित्र लोग दे ही सकते है…

फेसबुक से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “इत्ता सारा सफ़ेद धन आवे कहाँ से जो हर अख़बार टीवी ख़रीद लेवे?

  • thanvi ji ko soniya v rahul gandhi ke vigyapan dikhai nahi diya yanha tak to thik tha lekin huda ka no 1 hariyana to dikhna mangta tha, lekin thanvi ji jaise patrkar achhi ankho ke bavjud andhe h, bahut mal khaya h congress se,

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *