यूपी चुनावों को लेकर यूपीडब्लूजेयू और सीपीजे ने जारी की पत्रकार सुरक्षा गाइड

लखनऊ : उत्तर प्रदेश सहित राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों की कवरेज कर रहे पत्रकारों की सुरक्षा की दृष्टि से बुधवार को अंतरर्राष्ट्रीय संस्था कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट (सीपीजे) की ओर से तैयार की गयी एक पत्रकार सुरक्षा गाइड को यूपी वर्किंग जर्नलिस्ट ने जारी किया।

इस सुरक्षा गाइड में वह पत्रकार जो राज्य के चुनाव में पत्रकारिता कर रहे हैं उन्हें शारीरिक हमलों, डराने की कोशिश, उत्पीड़न, इंटरनेट पर डराना, कोविड संक्रमण, गिरफ्तारी, नजरबंदी, रिपोर्टिंग पर सरकारी प्रतिबंध आदि रुकावटों व खतरों के संबंध में जानकारी देते हुए बचाव के बारे में बताया गया है। इस पत्रकार सुरक्षा गाइड को यूपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन (यूपीडब्लूजेयू) व सीपीजे ने मिलकर जारी किया है और इसे जिलों, कस्बों व गांवों में चुनाव कवरेज कर पत्रकार साथियों के बीच प्रसारित किया जाएगा।

बुधवार शाम को आयोजित एक वर्चुअल कार्यक्रम में पत्रकार सुरक्षा गाइड जारी करते हुए सीपीजे के लंदन स्थित प्रतिनिधि कोलिन परेरा ने कहा कि कोविड के साए में हो रहे चुनावों में भारतीय पत्रकारों के सामने कई तरह की चुनौतियां हैं। स्वास्थ्य के साथ पत्रकारों को शारीरिक, मानसिक व डिजिटल खतरों से बचाने की जरुरत है। सुरक्षा गाइड में इन सभी पहलुओं को संबोधित किया गया है। उन्होंने यूपीडब्लूजेयू के साथियों से आग्रह किया कि यदि उन्हें और भी किसी तरह के सुरक्षा संबंधी मार्गदर्शन की आवश्यकता लगती है तो उसे भी शामिल किया जा सकता है।

यूपीडब्लूजेयू अध्यक्ष टीबी सिंह ने कहा कि इस बार के चुनाव पांच राज्यों में अभूतपूर्व परिस्थितियों में हो रहे हैं। कोरोना संकट टला नहीं है और प्रचार के प्रतिबंधों के चलते प्रत्याशियों की निर्भरता मीडिया पर बढ़ी हैं। राजनैतिक दलों की अपेक्षाएं ज्यादा हैं और दबाव भी। पत्रकारों को बहुत सावधानी से काम करना होगा। न केवल खुद को महामारी से बचाना होगा बल्कि अपने जीवन को लेकर भी सावधानी बरतनी होगी। साइबर संसार के जरिए भी पत्रकारों को काम करने में बाधा उत्पन्न की जा सकती है। धमकी, दबाव, प्रलोभन तो चुनावों में आम हो चुके हैं। पत्रकार सुरक्षा गाइड में इन सभी चीजों को संबोधित किया गया है जो कि हम मीडिया के साथियों के लिए बहुत जरुरी है।

वर्चुअल कार्यक्रम में उपस्थिति इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी ने कहा कि पत्रकार सुरक्षा गाइड की सबसे ज्यादा जरुरत छोटे शहरों, कस्बों व गांवों में काम कर रहे पत्रकारों को है। उन्होंने कहा कि मीडिया के सामने इन चुनावों में कई तरह की चुनौतियां औऱ उनके बीच अपनी सुरक्षा सबसे ज्यादा जरुरी है। श्री तिवारी ने कहा कि संगठन की ओर से पत्रकार सुरक्षा गाइड को ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच पहुंचाया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिया कि सुरक्षा गाइड की डिजिटल प्रतियां जल्द से जल्द पांच राज्यों में जहां चुनाव हो रहे हैं वहां के ज्यादा से ज्यादा पत्रकारों तक पहुंचा दी जाएं।

सीपीजे के भारत प्रतिनिधि कुणाल मजूमदार ने कहा कि जल्द ही उनका संगठन यूपीडब्लूजेयू के साथ मिल कर साइबर सुरक्षा व अन्य जरुरी मसलों पर जागरुकता कार्यक्रम करेगा।

कार्यक्रम में आईएफडब्लूजे के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष विकास शर्मा, राष्ट्रीय सचिव सिद्धार्थ कलहंस, वरिष्ठ साथी श्याम बाबू, यूपीडब्लूजेयू के महासचिव राजेश महेश्वरी, प्रदेश सचिव संतोष गुप्ता, इंद्रमणि, राजेश मिश्रा, अजय त्रिवेदी, सर्वेश कुमार सिंह, प्रभप्रीत सिंह, प्रचार सचिव वीरेंद्र सिंह, लखनऊ मंडल अध्यक्ष एंथोनी सिंह, वरिष्ठ पत्रकार सुनील दिवाकर, अजय कुमार गुप्ता, लखीमपुर से कुलदीप पाहवा, बलरामपुर श्रमजीवी पत्रकार ईकाई के महामंत्री सुजीत कुमार सहित कई अन्य साथी मौजूद थे।

वर्चुअल कार्यक्रम का संचालन सिद्धार्थ कलहंस ने किया और यूपीडब्लूजेयू महासचिव राजेश महेश्वरी ने धन्यावद ज्ञापित किया।

संबंधित खबरें-

योगी के शासन काल में 12 पत्रकारों की हत्याएं हुईं, 138 पत्रकारों पर हमले हुए, देखें जांच रिपोर्ट भाग-1

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code