RSTV : कभी इसे ‘भारत का बीबीसी’ कहा जाता था, आज का ताजा हाल देखें

Om Thanvi : “परम पूज्य” सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत “जी” मंच पर मौजूद?? ये हाल हो गया है राज्यसभा टीवी का। आपके-हमारे पैसे से चलता है, पर चिलम नागपुर की भरता है। कभी चैनल की चर्चा भारत का बीबीसी कहते हुए होती थी, क्योंकि सरकार से पैसा लेकर भी सरकार की जगह दर्शकों के प्रति ज़्यादा वफ़ादार था। मोदी लहर एक-एक कर जाने कितनी संस्थाओं को लील गई है। उनमें अब इस Rstv को भी शरीक कीजिए।

Sanjaya Kumar Singh : चैनल में जब चुन-चुन कर या छांट-छांट कर रखा जाएगा तो यही होगा। इससे चुनने या रखने की शर्त मालूम होती है। जिसके परम पूज्य होंगे वो तो लिखेगा ही। मुझे नहीं लगता कि किसी ने कहा होगा परमपूज्य लिखने के लिए। दरअसल लिखने वाले वही हैं जिनके वो परमपूज्य हैं। यही है पत्रकारिता की दुकान। अफसोस सिर्फ इस बात का है कि ये दुकान सरकारी है और वहां ऐसे लोग पहुंच गए। पर यह सरकारी संस्थाओं को नष्ट करने की कोशिशों का हिस्सा है।

वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी और संजय कुमार सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “RSTV : कभी इसे ‘भारत का बीबीसी’ कहा जाता था, आज का ताजा हाल देखें

  • Dipak Singh says:

    Sahi baat hai.. RSTV pehle bharat ka BBC tha… Per aaj jo Image mein likha hai wo sahi nahi hai.. param pujniya sirf santo ke liye likha jata hai.. Mohan Bhagwat ek samaj sudharak ho sakte hai per sant nahi… rahi baat aaj RSTV mein BJP ke log appoint hone ke to.. Pehle Congressi aur Left ke log bhare the… us samay agar aapki pehchan Congress ya Left se nahi hai to aapka waha per contract pana lagbhag asambhav sa tha… us samay congress aur left ke logon ko badi badi salery muft mein baati the.. kuch log ese bhi the jo saal mein 1 ya 2 aadhe ghante ke programme banate the.. aur salery 80 hajar ya lakh se uper the…. aur us samay to Guest coordinator ko Ukrain ya koi aur desh mein reporter banakar maje liye the… ese he us samay congress ke gulam bahut se patrakaron nein bahut se videsh yatra ki the… agar aap non political ho to aapko Rajya sabha secretariat ke written exam pas karne aur saare document jama karne per bhi contract nahi diya tha…. unme se main bhi tha… jise contract nahi diya tha… yahi haal 2014 mein bhi hua tha…. aab wahan per sayad BJP ke log aa rahe honge… per mere jaise non political candidate ko to mayus hokar rehna pedta hai….
    hain main us samay ke CEO ke es baat ke tarif jaroor karunga ki unhone Video ki quality se kabhi samjhota nahi kiya… aur sayad content mein bhi kabhi dakhal nahi diya… per unke time mein appoint to political he the….
    Jai Hind
    Dipak Singh

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *