पंकज चतुर्वेदी ने ‘वीरेन डंगवाल स्मरण’ 111 कड़ियों के साथ पूरा किया, पढ़ें आखिरी कुछ कड़ियां

 

पढ़ने के लिए शीर्षकों पर एक एक कर क्लिक करते जाएं>

तब वीरेन डंगवाल ने कहा था : ….गण्यमान्य लोगों की धारा मेरी धारा नहीं है

xxx

वीरेन डंगवाल स्मरण : वीरेन कविता को इतना पवित्र मानता है कि अक्सर उसे लिखता ही नहीं है…

xxx

पंकज चतुर्वेदी लिख रहे हैं ‘वीरेन डंगवाल स्मरण’, पढ़िए कुछ शुुरुआती कड़ियां

xxx

वीरेन दा की कविता ‘इतने भले न बन जाना साथी’ का यशवंत ने किया पाठ, देखिए वीडियो

xxx

वीरेन दा एक व्यक्ति नहीं, संस्था थे

xxx

मैं 2014 के जून में वीरेनदा को कैंसर के दौरान पहली बार देखकर भीतर से हिल गया था

xxx

जन संस्कृति मंच‬ ने हिंदी के अनूठे कवि Virendra Dangwal की उपस्थिति में एक आत्मीय आयोजन किया

xxx

गाजा का कुत्ता : (वीरेन डंगवाल की नयी कविता)

 

 



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code