वॉक इन इंटरव्यू : बेइमान दूरदर्शन वालों ने फिर युवा पत्रकारों के अरमानों पर फेरा पानी, देखें तस्वीरें

दिल्ली दूरदर्शन में आज 4 जनवरी को पेड इंटर्न भरे जाने के संबंध में वॉक इन इंटरव्यू था। समय निर्धारित था, सुबह के 11 बजे। लेकिन आवेदकों की लाइनें दूरदर्शन भवन के आगे सुबह छह बजे से लगनी शुरू हो गई। आलम ये रहा कि 11 बजते बजते मेन रोड तक कतारें लग गई। धक्का मुक्की का आलम‌ देखने को मिला। 11 बजते ही दूरदर्शन ने गेट बंद कर दिया। कुछ आवेदकों का आरोप है कि जिन पेड इंटर्न को भरा जा‌ना था, उनको पहले ही सेलेक्ट किया जा चुका है। ये सिर्फ औपचारिकता थी।

हैरानी की बात ये देखने को मिली कि इंटर्न पदों के लिए अनुभवहीन आवेदकों से ज्यादा सालों के अनुभव लिए हुए लोग भी अपनी सेटिंग-जुगाड़ के जरिए पहुंचे थे। आखिर में जो आवेदक एंट्री नहीं कर पाए, जो दूर दराज के क्षेत्रों से आए हुए थे, उन्होंने जबरन निराश होकर अपना रिज्यूम दूरदर्शन के गेट के बाहर फेंक दिया और लौट गए। इंडस्ट्री में मौजूदा हालात क्या है, आप इन लंबी कतारों को खुद देखकर समझ सकते हैं। अनुभवहीन से लेकर सालों का अनुभव लिए हुए भी पहुंचे। कई लोगों को कूपन देकर बाद में इंटरव्यू के लिए बुलाए जाने की बात कह कर चलता कर दिया गया।

दूरदर्शन वालों ने फिर अपनी बेइमानी साबित की। उन्हें अंदाजा होना चाहिए था कि कितनी भीड़ आएगी और उन्हें कैसे मैनेज करना है। महिलाएं काफी मात्रा में थी जिनके लिए कोई सुविधा न थी। आखिर जब सेटिंग गेटिंग वालों को ही रखना था तो फिर ये वाक इन इंटरव्यू टाइप नौटंकी क्यों। अगर टोकेन देकर बाद में बुलाना था तो आवेदन ऑनलाइन मंगा कर सबको अलग अलग डेट इंटरव्यू के लिए देकर बुलाते ताकि अफरातफरी भी नहीं मचती और लोग पैसा, समय, ऊर्जा की बचत कर पाते!

मौके पर पहुंचे एक युवक ने बताया- “बुरा हाल था. सिर्फ 150 लोगों का इंटरव्यू आज लिया. बाकियों को टोकन देकर बोल दिया कि बाद में बताएंगे. वहां भेदभाव भी दिखा. एक लड़के को भीड़ से बाहर बुलाकर इंट्रीपास दिया गया और सीधा अंदर बुला लिया गया. इससे साफ जाहिर है कि होगा उन्हीं का जिनका सिस्टम में जुगाड़-पहुंच है. वहां के कर्मचारी भी यही बात बोल रहे थे.”

इस ज़रूरी खबर को भी पढ़ें-

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “वॉक इन इंटरव्यू : बेइमान दूरदर्शन वालों ने फिर युवा पत्रकारों के अरमानों पर फेरा पानी, देखें तस्वीरें

  • Unnat pachauri says:

    साहब आजकल बिना जुगाड़ के मीडिया क्षेत्र में नौकरी करना संभव नहीं है इसीलिए जो जुगाड़ वाले थे उन्हें अंदर बुला लिया गया बाकी लोक धक्के खाते रहे हालांकि मैं भी इंटरव्यू में आने के इच्छुक था लेकिन मन में यही विचार आया कि वहां पर मेरी कोई जुगाड़ नहीं इसलिए मैं रह गया अच्छा हुआ मैं वहां नहीं गया

    Reply
  • shobhit suman says:

    agr inhe yhi krna tha toh yeh walk in interview ka drama kyu lga rakha tha.. mera tokan no. 317 hai. mai subah 7 bje se line me tha.. uske bad v dhakka mukki huyi.. na to inhe seats clear kr rakhi thi n hi us hisab se organise kr rakha tha ki aakhr krna kyah hai.. wha ke staffs tak keh rhe the unke kuch malum hi nhi hai.. mai patna se aaya tha ab 11-1-19 ko jb dusri date rakhi gyi hai us din kyah gurantee hai iss baat ki interview hogi hi.. aur dubara fir aana jana v toh posible nahi hai n..

    Reply
  • shubham pandey says:

    वाक इन इंटरव्यू में आये हुए सभी लोग का इंटरव्यू तो ले लिया ,लेकिन ये नहीं बताया की चैनल में कितने लोगो के लिए और कौन – कौन से पोस्ट के लिए जगह खाली है |
    और बिना जुगाड के किसी का भी नहीं होने वाला है|

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *