मुसलमानों ने मस्जिद के अंदर योग करके प्रतिमान कायम किया (देखें वीडियो)

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर यूपी के हाथरस जिले के गांव अल्हैपुर चुरसैन के मुलमानों ने मस्जिद के अंदर योग करके उन लोगों को आइना दिखाया है जो ओम उच्चारण और सूर्य नमस्कार का बहाना बनाकर योग को धर्म से जोड़ने का काम कर रहे हैं। साथ ही यह संदेश भी दिया है कि योग से धर्म का कोई लेना देना नहीं है और भागदौड़ की जिंदगी में शरीर की हिफाजत के लिए योग की महत्वपूर्ण भूमिका है।

सुनकर आपको यकीन न हो रहा हो तो यूपी के हाथरस जिले के गांव अल्हैपुर चुरसैन की मस्जिद के अंदर के इन दृश्यों को देखिये। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर मस्जिद में मुसलमान पूरे मनोयोग से योग कर रहे है। योग करने में सभी आयु वर्ग के लोग शामिल है। देश दुनिया से जैसे भी आवाजें उठें उन्हें इसकी कोई परवाह नहीं है। वे तो अपने शरीर को निरोगी बनाने के लिए योगक्रिया में तल्लीन है। योगासन करने में मस्जिद के मौलाना डॉ वली मोहम्म्द भी आगे है। उनका कहना है कि योग से काया निरोग रहती है। शरीर के अंदर पूरे दिन फुर्ती रहती है। हाथ पैरों में जान आती है। खून का सर्कुलेशन बढ़ता है। आँखों की रोशनी बढ़ती है। पेट की खराबियां दूर होती है और नर्वस सिस्टम सही रहता है।

उनका कहना तो यह भी है कि योग से धर्म का कोई लेना देना नहीं है यह तो शरीर की हिफाजत के लिए है। देश दुनिया में ओम उच्चारण और सूर्य नमस्कार का बहना बनाकर योग को भले ही धर्म से जोड़ा जा रहा हो लेकिन हाथरस के गांव अल्हैपुर चुरसैन की मस्जिद के मौलाना डॉ वली मोहम्म्द कहते है कि जरूरी नहीं कि ओम कहा जाय ओम न कहकर अल्लाह कह लें। रही बात सूर्य नमस्कार की तो मौलाना कहते है कि सूर्य की तरफ मुंह करने से एनर्जी मिलती है। मौलाना कहते है कि यह हमारा देश है और इसे हम हरा भरा देखना चाहते हैं।

संबंधित वीडियो देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

मस्जिद में योग करते हुए 1 https://youtu.be/R8l_8ttB1iA

मस्जिद में योग करते हुए 2 https://youtu.be/Z0pImHkECyc

मस्जिद में योग करते हुए 3 https://youtu.be/GBgUjZ2QoMc

योग कराने वाले मस्जिद के मौलाना से बातचीत  https://youtu.be/oaPoZQmpzW0

हाथरस से वरिष्ठ पत्रकार विनय ओसवाल की रिपोर्ट. संपर्क: 9837061661

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code