सड़क से उठकर स्टूडियो तक पहुंचने का रवि शर्मा का सफर संघर्ष से भरा था!

Deepak Sharma-

आजतक, इंडिया न्यूज और न्यूज नेशन के शानदार क्राईम रिपोर्टर व एंकर रहे रवि शर्मा की रोड एक्सीडेंट में मौत, बेहद दुखद है। सड़क से उठकर स्टूडियो तक पहुंचने का उनका सफर, संघर्ष से भरा था।

जिस पृष्ठभूमि से निकलकर युवा रवि ने आजतक में कदम रखा और फिर मेहनत करके अपने लिये जगह बनाई वे प्रेरणा से भरी एक अदभुत कहानी है। वे सच में जिंदादिल और खतरों के खिलाड़ी टाईप बहादुर रिपोर्टर थे।

उनका अचानक जाना टीवी इंडस्ट्री की क्षति है। ओम शांति

Amitaabh Srivastava-

रवि बहुत मेहनती, जोशीला और प्रतिभाशाली क्राइम रिपोर्टर था । हमारी टीम का सदस्य रहा । बाद में एंकर के तौर पर भी चर्चित हुआ। बेहद सौम्य, विनम्र युवा । संभावनाओं से भरे जीवन का अचानक दुर्घटना में अंत बहुत दुखद और स्तब्धकारी है। श्रद्धांजलि।

Rana Yashwant-

तुम्हारे जाने ने बहुत तकलीफ़ दी है। साथ रहने पर रिश्ते खट्टे मीठे से रहते हैं, लेकिन उसके लिए जीवन तो ज़रूरी है न! जो जानलेवा हादसा तुम्हारे साथ गुज़रा, वह ईश्वर की बहुत बड़ी नाइंसाफ़ी था। आज अस्पताल में सुबह तुम्हारे साथ की कई चीजें रील की तरह आँखों के सामने से गुज़रती रहीं। हर जीवन की हद तय है और उसमें जितने भी लोग आते हैं, उस जीवन विशेष के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। मेरे लिए इस लिहाज़ से तुम महत्वपूर्ण थे। ईश्वर तुम्हारी आत्मा को शांति दे रवि! ॐ शांति: !!

Devesh K Vashishtha-

रवि दादा भी चले गए ! पहली तस्वीर 2005 की है। कॉलेज में रवि सर से मुलाकात हुई थी। तब रवि सर आज तक में थे और उनकी पहचान देश के सबसे शानदार क्राइम रिपोर्टर की थी। उनके स्वागत के लिए हमने एक कार्यक्रम रखा था। स्वागत कार्यक्रम में एंकरिंग मुझे करनी थी। कार्यक्रम के बाद उन्होंने शाबाश कहने के लिए पीठ पर हाथ रखा… और फिर वो हाथ कभी नहीं हटाया। मैं जब जब उन्हें सर कहता, वो मुझे टोक देते…. अरे भाई बोला करो भाई। सर वर कुछ नहीं होता। बाद में वो मेरे रवि दादा हो गए।

फिर लंबे अर्से तक मुलाकात नहीं हुई। कुछ वक्त पहले न्यूज नेशन में मिले तो और फिट… और यंग दिखे। मैंने पूछा दादा आप पर वक्त असर नहीं करता है क्या? बोले- दादा कहते हो तो दादा से सीखो भी। रोज फास्ट वॉक किया करो। और चीनी कम कर दो बस।

बीती रात दादा की कार का एक्सिडेंट हो गया। कार चकनाचूर हो गई। रवि दादा चले गए। आज सुबह मैं देर से उठा… उठा तो…
इससे मनहूस सुबह क्या होगी?

लव यू रवि दादा… थैंक्यू फॉर एवरीथिंग…

RIP रवि दादा

Shweta R Rashmi-

TV पर क्राइम का सबसे सौम्य चेहरा कहे जाने वाले #रवि शर्मा का अचानक यूं जाना स्तब्ध कर देने वाला हैं। बड़ी मेहनत से रवि ने अपनी जगह बनाई थी और बुलंदियों पर पहुंचे थे, मैं किसी जमाने में सनसनी की टीम का हिस्सा रही हूं, ऐसे में रवि का क्राइम करना हैरान करता था! क्योंकि क्राइम के लिए जरूरत होती थी, श्रीवर्धन त्रिवेदी जैसे चेहरे की।

यकीन नहीं हो रहा कि रवि अब हमारे बीच में नहीं है। मनहुसियत मीडिया में जैसे घर कर गई है, पहले कोरोना ने अनगिनत लोगों को छिन लिया अब एक्सीडेंट में लोगों का जाना, भगवान बख्श दे!

रवि के परिवार को भगवान इस दुख को सहने की शक्ति दे।

मूल खबर-

‘न्यूज नेशन’ के वरिष्ठ एंकर रवि शर्मा नहीं रहे

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *