शशि थरुर को परेशान करने के लिए दबाव बनाए जाने पर रिपब्लिक टीवी के एक और पत्रकार ने दिया इस्तीफा

अरनब गोस्वामी वाले रिपब्लिक टीवी और कांग्रेसी नेता शशि थरूर के बीच की जंग थमती नजर नहीं आ रही है. श्वेता कोठारी के बाद अब एक और पत्रकार ने रिपब्लिक टीवी को गुडबाय बोल दिया है. इस पत्रकार का नाम दीपू अबी वर्गीस. इस पत्रकार ने शशि थरूर को परेशान करने हेतु जबरन खबर क्रिएट कराए जाने का दबाव बनाने का आरोप लगाते हुए नौकरी छोड़ दी. इस बात की जानकारी खुद शशि थरूर ने एक ट्वीट के जरिए दी. ट्वीट के साथ एक फोटो भी उनने शेयर की जिसमें इस्तीफा देने वाला पत्रकार उनके साथ खड़ा है.

शशि थरूर ने ट्वीट में कहा है कि रिपब्लिक टीवी के एक पत्रकार ने उनसे माफी मांगने के लिए संपर्क किया, क्योंकि वह पत्रकार रिपब्लिक में कार्यरत था और उस पर मुझे परेशान करने का दबाव बनाया जा रहा था.  थरूर ने लिखा, ‘पत्रकार दीपू अबी वर्गीस द्वारा दिखाए गए नैतिक साहस का मैं कायल हो गया हूं, जिन्होंने रिपब्लिक टीवी द्वारा मुझे परेशान करने के आदेश दिए जाने के बाद चैनल छोड़ दिया. अपने व्यवहार पर माफी मांगने को लेकर उसने मुझसे संपर्क किया और वह मुझसे प्रेस क्लब में मिला, जैसा कि टाइम्स नाउ के कुछ पूर्व कर्मचारियों ने किया था.’

उधर, पत्रकार वर्गीस ने शशि थरूर के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए शुक्रिया अदा किया और कहा कि मैं सिर्फ शशि थरूर से बात करना चाहता था.  शशि थरूर ने अरनब गोस्वामी और उनके न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के खिलाफ 2 करोड़ रुपए का मानहानि का मुकदमा कर रखा है. उन्होंने अपनी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में गलत तरीक से रिपोर्टिंग का आरोप लगाया है.

देखें शशि थरूर का ट्वीट…
Shashi Tharoor @ShashiTharoor : Many young idealists are repelled by what they are being asked to do in the name of journalism. Some media owner-anchors may have no scruples, but morality & decency are basic human values & most people find it troubling to abandon them for a paycheque. #UDontHave2Lie4ALiving

Touched by the moral courage  of journalist Deepu Aby Varghese who resigned from @republic TV after being ordered to harass me at the Tvm Press Club. He approached me to apologise for his behaviour, as have some former employees of @TimesNow. Decency appreciated. @seegerblues

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code