सहारा प्रबंधन से आए लोग सुनवाई से पहले ही श्रमायुक्त कार्यालय देहरादून को कागजात रिसीव कराकर रफूचक्कर हुए (देखें दस्तावेज)

मूल पेज / मूल खबर पर लौटने के लिए नीचे लिखे Start पर क्लिक करें.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “सहारा प्रबंधन से आए लोग सुनवाई से पहले ही श्रमायुक्त कार्यालय देहरादून को कागजात रिसीव कराकर रफूचक्कर हुए (देखें दस्तावेज)

  • सहारियन says:

    सहारा प्रबंधन ठीक ठाक है पर वह कान का कमजोर है. इस कमजोरी का फयदा कामचोर, चुगलखोर व castist किशम के सहराकर्मी उठाते है. प्रबंधन चाहता है की मेरिट को तवज्जो दिया जाये पर चुगलखोर कान भरके प्रबंधन की मति को बिगाड़ देता है. पटना में ऐसे ही एक कामचोर रिपोर्टर है. कान भरके ब्यूरो में आ गया है. उसका काम ही है सहारा में चुगलखोरी करना. जैसे ही उसे लगता है कि अमुक मेरिट वाले कर्मी की तरक्की होने वाली है वह वरिष्ठ कर्मी को गलत सूचना देकर गुमराह कर देता है. वह इस हद तक कहता है कि सर वह तो आपकी माँ बहन की गली देता है. बस प्रबंधन उस चुगल खोर की बात में आ जाते है. इस तरह के घुन सहारा को बर्बाद कर रहे है. प्रबंधन को क्रॉस जानकारी लेकर ऐसे चुगलखोर को दण्डित करना चाहिए.वह चुगलखोर आपनी करनी के कारन १३ वर्षों तक स्ट्रिंगर रहा और जब पटना संस्करण लांच हुवा तो वह कन्फर्म किया गया. उसका नाम ब से शुरू होता है. हलाकि ब कहने की भी जरुरत नहीं वह चिठिबाजी , चुगलखोरी व जातिवाद करने में माहिर है. प्रबंधन ऐसे लोगों से बचे.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *