प्रेस कांफ्रेंस में अच्छे गिफ्ट के लिए धमकाने वाले दो फोटो जर्नलिस्टों नवीन शर्मा और नईम के खिलाफ लिखित शिकायत

Subject : Request for action against Mr.Naveen Sharma, Photographer, Millennium post

Dear Durbar Sir,

Hope you are doing well!

This is regarding a complaint against your Photographer Mr.Naveen Sharma. On Monday, 16th January, there was a press conference of my client at Hotel Le Meridien, New Delhi. I had invited all print media, electronic media and photographer for the same. Photojournalist Mr. Naveen Sharma, Millennium Post newspaper was also present to cover the press conference, press conference was going on and people were coming and going for the press conference. Naveen sharma told me that today my camera isn’t working so can you share few high resolution images of the press conference because  I had to leave early.i said yes I will. I gave a press docket to him and requested him to please stay till lunch but he left the Conference hall. Finally he moved on and said bye to me.

After five minute he called me and asked me to come to Hotel lobby. I went there and asked him , what happened? He replied that aren’t you guys giving any media gift ? I said yes we are giving a Flash Drive of 8GB to each journalist and this is media gift which has been given to us to give to media. He again explained me that Flash Drive is cheap media gift and we photojournalist don’t accept it. If you give me fancy gift I can assure you that your press will be published in Millennium post. Because  HUMKO UPER JAWAB DENA HOTA. Untill unless I shall kill your news. I requested that try to understand the situation, since our client is only giving flash drive to each hence I am not able to give you another gift. Finally, he left for the day and next day ie 17th January there is no news of my client in Millennium Post News paper. is this the tradition in your office? 

Thanks
Ashok Choudhary
choudharyashok2005@gmail.com

xxx

Subject : Request for action against Mr.Naeem , Photographer, Rastriya Sahara

Dear Rajnikant Sir,

Hope you are doing well! This is regarding a complaint against your Photographer Mr.Naeem. On Monday,16th January, there was a press conference of my client at Hotel Le Meridien, New Delhi. I had invited all print media, electronic media and photographer for the same. Photojournalist Mr. Naeem , Rastriya Sahara newspaper was also present to cover the press conference, press conference was going on and people were coming and going for the press conference. Naeem told me that i have to leave earlyto shoot another assignment. I gave a press docket to him and requested him to please stay till lunch but he left the Conference hall. Finally he moved on and said bye to me.

After five minute he called me and asked me to come to Hotel lobby. I went there and asked him , what happened? He replied that aren’t you guys giving any media gift ? I said yes we are giving a Flash Drive of 8GB to each journalist and this is media gift which has been given to us to give to media. He again explained me that Flash Drive is cheap media gift and we photojournalist don’t accept it. If you give me fancy gift I can assure you that your press will be published in Rastriya Sahara. Because HUMKO UPER JAWAB DENA HOTA. Untill unless I shall kill your news. I requested that try to understand the situation, since our client is only giving flash drive to each hence I am not able to give you another gift. Finally, he left for the day. is this the tradition in your office? 

Thanks
Ashok Choudhary
choudharyashok2005@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सहारा प्रबंधन से आए लोग सुनवाई से पहले ही श्रमायुक्त कार्यालय देहरादून को कागजात रिसीव कराकर रफूचक्कर हुए (देखें दस्तावेज)

देहरादून में राष्ट्रीय सहारा अखबार के कर्मियों ने प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा कर रखा है। यह मुकदमा श्रमायुक्त आफिस में किया गया है। सुनवाई के दिन सहारा प्रबंधन की तरफ से कोई नहीं आ रहा है। हां, आश्वासन के कागजात जरूर सौंप जाते हैं। सहारा प्रबंधन के लोग इस बार भी सुनवाई के दौरान सहायक श्रम आयुक्त देहरादून के कार्यालय में नहीं पहुंचे। इसके पहले भी 18 अगस्त 2015 को जब वेतन संबंधी मामले की पहली सुनवाई थी तब भी प्रबंधन पक्ष के लोग तय समय तक नहीं पहुंचे थे।

इस बार प्रबंधन के लोग मामले की सुनवाई से पूर्व कार्यालय में कागजात रिसीव कराकर रफू चक्कर हो गए। सहायक श्रम आयुक्त ने 15 सितंबर 2015 की तारीख कर्मचारियों को दी है। अगली तारीख पर न आने की दशा में मामले को लेबर कोर्ट में सौंपे जाने के आश्वासन के साथ अगली तिथि मुकर्रर की है। प्रबंधन ने २५ दिन का समय मांगा था। गौरतलब है कि 18 अगस्त 2015 को एचआर के अखिल कीर्ति ने अगस्त की पूरी सेलरी सितंबर माह में देने, अक्टूबर से धीरे धीरे बकाया देने और मजीठिया वेज का नियमानुसार पालन करने, काम के घंटे छह करने और पद के अनुसार काम लेने सहित सभी संस्तुतियां व परिलाभ देने की बात कही थी।

राष्ट्रीय सहारा देहरादून ने खुद को किस कैटगरी में रखा है, यह तो सहायक श्रम आयुक्त को दिये गए प्रपत्र से साफ नहीं हो रहा है। लेकिन सौंपे गए दस्तावेज के अनुसार ये अपने सब एडिटर को 12000 से 21700 रुपये, सीनियर सब एडिटर को 13000 से 23500 रुपये और चीफ सब एडिटर को 14000 से 25300 रुपये का पे स्केल देने के कागजात पेश किये हैं।

ध्यान देने वाली बात यह है कि एक कर्मचारी की तरह आठ घंटे काम करने वालों को प्रबंधन ने अपना कर्मचारी नहीं माना है जबकि मजीठिया वेजबोर्ड ने एक साल की नियमित सेवा वाले को भी कर्मचारी का दर्जा देने की बात कही है। दुखद स्थिति यह है कि संविदा पर चार साल से काम करने वाले चीफ सब एडिटर का पे स्केल सब एडिटर से काफी कम रखा गया है। 1992 से सेवा देने वाले और 2007 से नौकरी शुरू करने वालों को एक पद दिया गया है। देहरादून संस्करण को शुरू हुए सात साल हो गए। कुछ कर्मचारियों को इस अवधि में एक दो प्रमोशन दे दिये गए तो कुछ को 12-15 साल से प्रमोशन नहीं मिला।


अपडेट…  कर्मचारियों की लिस्ट में अपना नाम न पाकर राष्ट्रीय सहारा देहरादून के संवादसूत्र भड़के


दस्तावेज देखने के लिए नीचे लिखे Next पर क्लिक करें>>

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

complaint to NBA against Zee News for spreading communal hatred

Date: 2nd august 2015

To

News Broadcaster Association    
Reg. Off.: Juris House Ground Floor
22, Inder Enclave, Paschim Vihar
New Delhi 110087          
New Delhi                                                                                                                                                                            

Sir,       

Subject  :  Complaint against zee news who is spreading communalism and hatred though news channel

This is to inform you that I am a citizen of india , who feels that zee news is spreading hatred and communalism and working as an agent of saffron outfits. Now a days zee news has become an anti muslim news broadcaster. Sudhir chowdhry whos is chief editor of zee news  and other journalists belong to zee group are puppet of BJP and sangh parivar . this is going to divide the secular minds of our country.

On 2nd august 2015, zee news telecasted a programme named ‘kathghare me Azmi aur Owaisi’ between 7:57 pm and 8:27pm. In this programme zee targeted some muslim leaders who were not in favour of yaqub memon’s hanging  while a lot of  leaders from other communities and activists did the same before and after the hanging of yaqub memon. But Zee news targeted only  Muslim leaders and used the defamative languages against them. Anchor of programme used the words like “aap ko sharm nahi aati hay” for a reputed leader of Mahrashtra , “Akberuddin Owaisi jo is desh ko galiyan deta hay” while he is Member of Telangana Assembly etc.

Even , Anchor of programme insulted Indian judiciary by saying that  “ aap ko pata nahi Indian judiciary slow hay”

Sir, I want to remind you that during post Godra riot zee news conducted an exclusive interview of then Gujarat CM mr. Narendra modi in which he explained the theory of Newton. During the investigation , Hon. Court issued the summon thrice to the zee news to produce the CD of that interview but they never did . This was also an act of insult to judiciary.

Last year , they telecasted a fabricated program named ‘love jihad aur sab se badi panchayat’ . Due to use of anti Islamic word during the debate I went to Hon. Gujarat High court. On my petition , Hon. Gujarat High Court issued notice to Ahmedabad Police Commissioner to take action accordance to law on my complain which was pending in the police station of Bapu Nagar. Later Noida police taken statements of zee news official . But they don’t care any one .

I don’t expect more from News Broadcaster Association, if possible atleast issue a notice to zee news and editor. Hope you will inform me regarding any progress of this complaint

I apeal to NBA to consider my pain and save fairness of Indian media

Thans & Regard
Mohd kaleem siddiqui
89-1509 sundaram Nagar, Rakhial
Ahmedabad 380023
Mob. : 9276848549                                                                                                                                            

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

राजस्थान पत्रिका के भ्रामक और भड़काऊ संपादकीय के खिलाफ सामाजिक संगठन HRD ने की पुलिस में रिपोर्ट

जयपुर। राजस्थान पत्रिका के 30 मर्इ, 2015 के जयपुर संस्करण के सम्पादकीय में आरक्षण के बारे में भ्रामक और भड़ाकाने वाला सम्पादकीय लिखकर प्रकाशित करने पर हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन के राष्ट्रीय प्रमुख डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ने राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष रूपचन्द मीणा के साथ पुलिस थाना मोती डूंगरी, जयपुर में उपस्थित होकर लिखित रिपोर्ट पेश की है और राजस्थान पत्रिका के विरुद्ध आपराधिक और देशद्रोह का अभियोजन चलाने एवं राजस्थान पत्रिका के प्रकाशन पर प्रतिबन्ध लगाने की मांग की है।

रिपोर्ट में लिखा है कि पुलिस को अवगत करवाया जाता है कि आज 30 मर्इ, 2015 के राजस्थान पत्रिका, जयपुर, शनिवार, के सम्पादकीय में निम्न असत्य, मूल अधिकार एवं संविधान विरोधी, आरक्षित वर्गों के विरुद्ध अनारक्षित वर्गों को भड़काने वाली और संविधान सभा एवं संविधान में आस्था रखने वालों का अपमान करने वाली समाग्री प्रकाशित की गयी है। सम्पादकीय में लिखी गयी आप़त्तिजनक पंक्तियों और उनके बारे में डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ने संवैधानिक वास्तविकता को दर्शाते हुए रिपोर्ट में लिखा गया है कि-

सम्पादकीय पहली आपत्तिजनक पंक्ति-

‘‘..एक तरफ हम नौरियों में दस साल के लिए लागू किए गए आरक्षण को हर दस साल बाद बढाते जा रहे हैं…’’

इसके बारे में डॉ. मीणा ने रिपोर्ट में लिखा है कि-जबकि वास्तविकता यह है कि अजा एवं अजजा वर्गों के लिये सरकारी नौकरियों में प्रारम्भ से ही जो आरक्षण लागू उसके बारे में संविधान में दस साल का कोर्इ उल्लेख ही नहीं है, बल्कि कड़वी संवैधानिक सच्चार्इ यह है कि अजा एवं अजजा के लिये सरकारी नौकरियों में लागू आरक्षण संविधान के अनुच्छेद-16 (4) के अनुसार प्रारम्भ से स्थायी संवैधानिक व्यवस्था है। जिसे आज तक कभी भी नहीं बढाया गया है।

सम्पादकीय दूसरी आपत्तिजनक पंक्ति-

‘‘…आरक्षण हमेशा गरीबों के उत्थान के नाम पर दिया जाता है लेकिन उसका लाभ उठाते हैं सम्पन्न।’’

इसके बारे में डॉ. मीणा ने रिपोर्ट में लिखा है कि-जबकि वास्तविकता यह है कि अजा एवं अजजा वर्गों को प्रदान किया गया आरक्षण सामाजिक एवं शैक्षणिक पिछड़ेपन के आधार पर प्रदान किया गया है, न कि आर्थिक आधार पर। जिसका मकसद गरीबों का उत्थान नहीं, बल्कि अजा एवं अजजा वर्गों को राज्य के अधीन प्रशासन में पर्याप्त प्रतिनिधित्व प्रदान करना है। सुप्रीम कोर्ट भी इस तथ्य की अनेक बार पुष्टि कर चुका है कि अजा एवं अजजा के आरक्षण का आधार सामाजिक एवं शैक्षिक पिछड़ापन है, न कि आर्थिक पिछड़ापन।

सम्पादकीय तीसरी आपत्तिजनक पंक्ति-

‘‘…राजनेताओं ने नौकरियों में तो आरक्षण दिया ही, संसद और विधानसभाओं में भी आरक्षण दे डाला।…’’

इसके बारे में डॉ. मीणा ने रिपोर्ट में लिखा है कि-जबकि वास्तविकता यह है कि अजा एवं अजजा वर्गों को संसद और विधानसभाओं में आरक्षण राजनेताओं ने नहीं दिया, बल्कि संविधान सभा ने मूल संविधान के अनुच्छेद-334 में पहले दिन से प्रदान किया हुआ है।

सम्पादकीय चौथी आपत्तिजनक पंक्ति-

‘‘…ये सब देखकर देश की जनता भले शर्मसार होती है लेकिन राजनेता हैं कि उन्हें हर हाल में सत्ता सुख चाहये।’’

इसके बारे में डॉ. मीणा ने रिपोर्ट में लिखा है कि-जबकि वास्तविकता यह है कि अजा एवं अजजा वर्गों को सरकारी शिक्षण संस्थानों, सरकारी नौकरियों और संसद और विधानसभाओं में जो आरक्षण प्रदान किया गया है, वह देश की जनता की ओर से ही मूल संविधान में प्रदान किया गया है। क्योंकि संविधान के पहले पृष्ठ, अर्थात् प्रस्तावना की पहली पंक्ति में ही लिखा है कि-
‘‘हम भारत के लोग……संविधान को अंगीकृत,
अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं।’’
अर्थात् देश की समस्त जनता के द्वारा जो संविधान स्वीकृत किया गया, उसी के लिये जनता को शर्मसार होने की बात लिखना सीधे-सीेधे जनता को अजा एवं अजजा के विरुद्ध भड़काना और संविधान सभा का अपमान करना सम्पादकीय का दुराशय है।

सम्पादकीय पांचवीं आपत्तिजनक पंक्ति-

‘‘…यह खेल यूं ही चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब देश में दो वर्ग आमने-सामने होंगे और वो भी खुलकर। मंडल आयोग की सिफारिशों के खिलाफ 1990 के आरक्षण विरोधी उग्र आंदोलन को लोग अभी भूले नहीं हैं।…’’

इसके बारे में डॉ. मीणा ने रिपोर्ट में लिखा है कि- सम्पादकीय की उपरोक्त पंक्ति में जिन बातों के चलते रहने का उल्लेख किया गया है, वे सब संविधान की मूल भावना और संविधान के मूल ढांचे का हिस्सा हैं, जिनको लागू और क्रियान्वित करना प्रत्येक लोकतान्त्रिक सरकार का संवैधानिक दायित्व है, लेकिन इसके उपरान्त भी, बनावटी, असत्य, असंवैधानिक एवं निराधार बातों को संवैधानिक बतलाकर सम्पादकीय में जानबूझकर अनारक्षित लोगों को आरक्षित वर्गों के विरुद्ध भड़काने वाली आपराधिक भाषा का उल्लेख किया गया है।

उपरोक्त आपत्तियों का उल्लेख करने के साथ हक रक्षक दल सामाजिक संगठन के राष्ट्रीय प्रमुख डॉ. पुरुषोत्तम मीणा की ओर से पेश की गयी रिपोर्ट में आगे लिखा है कि इस प्रकार उक्त सम्पादकीय की उक्त पंक्तियॉं सीधे -सीधे अजा एवं अजजा के विरुद्ध खुला अपराध व राष्ट्र के विरुद्ध राजद्रोह हैं, यही नहीं यह देश की कानून और व्यवस्था के विरुद्ध आम लोगों को उकसाने और भड़काने वाली आपराधिक भाषा हैं और इसमें संविधान सभा द्वारा निर्मित संविधान के मौलिक प्रावधानों के खिलाफ आम लोगोंं को भ्रमित करके संविधान का अपमान करने के लिये आम लोगों को उकसाने वाली भाषा का उपयोग किया गया है। जिससे अजा, अजजा एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों तथा संविधान में आस्था रखने वाले करोड़ों लोगों की भावनाएँ आहत हुर्इ हैं। इस प्रकार राजस्थान पत्रिका का उपरोक्त सम्पादकीय आपराधिक कृत्य एवं राजद्रोह से कम नहीं है। अत: आग्रह है कि नियमानुसार राजस्थान पत्रिका के जिन-जिन भी संस्करणों में उक्त सम्पादकीय प्रकाशित हुआ है, उनके प्रकाशकों, मुद्रकों एवं सम्पादकों के विरुद्ध तत्काल सख्त विधिक कार्यवाही कर, सभी को दण्डित करने हेतु अभियोजित किया जावे और इस प्रकार के अपराधी एवं देशद्रोही समाचार-पत्र के प्रकाशन को तत्काल प्रतिबन्धित किये जाने की कार्यवाही की जावे।

यहां यह उल्लेखनीय है कि 28 मर्इ, 2015 के एचआरडी न्यूज लैटर में हक रक्षक दल सामाजिक संगठन के राष्ट्रीय प्रमुख डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ने इस बात का खुलाशा किया था कि सरकारी शिक्षण संस्थानों और सरकारी नौकरियों में अजा एवं अजजा को प्रदान किया गया आरक्षण संविधान  में सथायी व्यवस्था है, जिसे हर दस वर्ष बाद बढाने के बारे में भ्रामक प्रचार किया जाता रहा है। इसके दो दिन बाद ही राजस्थान के सबसे बड़े कहलाने वाले समाचार-पत्र में इस संविधान विरोधी और आरक्षण तथा सभी आरक्षित वर्गों के विरुद्ध जहर उगलने वाला सम्पादकीय लिखा जाना अत्यन्त चिन्ता का विषय है। जिसकी कड़े शब्दों में भ्रर्त्सना की जाती है और हक रक्षक दल सामाजिक संगठन ऐसे विषयों पर चुप नहीं रहने वाला है, लेकिन ऐसे विषयों पर आरक्षित वर्गों का सक्रिय सहयोग जरूरी चाहिये।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

विवादित चिटफंड कंपनी समृद्ध जीवन के अखबार ‘प्रजातंत्र लाइव’ में बवाल, पुलिस पहुंची, मालिक से शिकायत

खबर है कि विवादित चिटफंड कंपनी समृद्ध जीवन के अखबार प्रजातंत्र लाइव में अचानक की गई छंटनी के खिलाफ बवाल हो गया है. छंटनी के शिकार मीडियाकर्मी आफिस पहुंचे. ये लोग संपादक बसंत झा से मिलना चाहते थे. बसंत झा ने मिलने से इनकार कर दिया. इसके बाद सभी छंटनी के शिकार कर्मचारी जबरन बसंत झा की केबिन में घुस गए. इससे नाराज संपादक बसंत झा ने सेक्यूरिटी गार्ड्स को बुलाकर सबको बाहर करने का आदेश दिया. इससे नाराज कर्मियों ने 100 नंबर पर पुलिस को काल कर दिया. पुलिस आफिस आई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की.

पुलिस ने लिखित कंप्लेन देने को कहा. इसके बाद कर्मियों ने स्थानीय थाने में शिकायत दर्ज कराई. उधर कुछ कर्मियों ने समृद्ध जीवन चिटफंड कंपनी के मालिक को मेल कर अपनी बात कही है. चर्चा है कि ये मीडियाकर्मी जल्द ही लेबर विभाग जाकर कंपनी के मालिकों के खिलाफ कंप्लेन दर्ज कराएंगे. मालिकों को भेजा गया शिकायती मेल इस प्रकार है….

To-Supriya.svk@gmail.com
Cc:- Basantzha@gmail.com

DEAR SIR/Mam

WE REQUEST YOU TO PLEASE MANAGE TIME TO MEET WITH US. YOU TERMINATED OUR SERVICES WITH OUT ANY PRIOR INFORMATION WHICH IS NOT ONLY AGAINST THE EMPLOYEE’S POLICY BUT ALSO THE EXPLOITATION OF OUR RIGHTS. WE REQUEST YOU TO MEET AND EXPLAIN US AUTHENTIC REASON AND ALSO TAKE CARE OF OUR IMMEDIATE COMPANSATIONS. EE HAVE FAMILY AND UNAVOIDABLE DAILY OVERHEADS FOR LIVELIHOOD. WE RRQUEST TO NEGOTIOTE OUR OPPORTUNITIES WITH IN THE COMPANY OTHERWISE WE HAVE TO SEEK HELP OF GOVT. ADMINISTRATIONS AND AGENCIES AND POLICE.WE WOULD HAVE TO LOUDGE COMPLAINTS AGAINST YOUR UNLAWFULL BEHAVIOUR TOWARDS EMOLOYEES AND INVESTORS IN THE COMPONY. KINDLY REPLY ME & SUGGEST ME ALSO

REGARDS

NEWSPAPER & MAGAZINE CIRCULATION STAFF

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हिंदुस्तान, बरेली के संपादक अभिमन्यु की प्रधान संपादक शशिशेखर से शिकायत

Date: 2015-03-26 14:56 GMT+05:30

Subject: COMPLAIN

To: sshekhar@livehindustan.com

सर

हिंदुस्तान बरेली में 14 march शनिवार की क्यू सी मीटिंग में जो कुछ हुआ, उसकी ओर आपका ध्यान आकर्षित कराना चाहता हूँ।

1. संपादक श्री अभिमन्यु कुमार सिंह ने कुछ साथियों को कॉलर पकड़ कर बाहर निकालने की धमकी दी।कहा कि कुत्ता बना दूंगा। हरामखोरों की यहाँ जगह नहीं है। यह भी कहा कि यहाँ गद्दार भरे हुए हैं।

2. इस घटना के बाद से तमाम साथियों में गुस्सा है। यह शब्द किसी गाली से कम नहीं हैं। कुछ लोगों ने पूरा मामला वेस्ट यूपी हेड श्री अनिल भास्कर के सामने भी मेल के जरिये रखा। 11 दिन हो गए हैं, लेकिन किसी ने पूछा तक नहीं है।

3. एक साथी चीफ रिपोर्टर पंकज मिश्र इन्हीं सब तनाव की वजह से कल से बीमार भी हो गए। उन्होंने इसकी सूचना भी भास्कर जी को दे दी है। इससे पहले भी पंकज मिश्र को इन्ही संपादक जी की प्रताड़ना से तंग आकर हार्ट अटैक पड़ा था, जो आपकी जानकारी में भी है।

सर, सभी निराश हैं और गुस्से में भी। कोई इनके साथ काम नहीं करना चाहता है। गाली गलौज इनका प्रिय शगल है, जिसके ये बहाने तलाशते रहते हैं।तमाम बार अपने से पहले के साथियों को पुराने संपादको का ‘पाप’ ढोना बताते रहते हैं।

ऑफिस में काम का कोई माहौल नहीं है। गाली खाकर कौन काम करना चाहेगा। अगर इस मामले को निपटाया नहीं गया तो कोई भी अप्रिय हालात पैदा हो सकते हैं। इस मामले की जाँच वेस्ट यूपी हेड श्री अनिल भास्कर को छोड़कर किसी अन्य या HR Department के किसी व्यक्ति से करा ली जाये।

सादर
हिंदुस्तान परिवार के कुछ कर्मचारी
बरेली

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भास्कर के रिपोर्टर की शासन से शिकायत

होशंगाबाद : भास्कर के एक रिपोर्टर की हरकतों से तंग आकर जिला चिकित्सालय हौशंगाबाद (मध्यप्रदेश) की नर्सों ने प्रदेश के प्रमुख सचिव से इंसाफ की गुहार लगाई है। सचिव ने आरोप का संज्ञान लेते हुए जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। 

आरोपी रिपोर्टर अमित शर्मा

जिला अस्पताल की नर्सों ने आरोप लगाया है कि रिपोर्टर अमित शर्मा की हरकतों से वे तंग आ चुकी हैं। वह उनकी हरकतों पर ऐतराज जताती हैं तो वह उनका ट्रांसफर करा देने और अखबार में नाम सहित खबर छाप देने की उन्हें धमकी देता है। भयभीत नर्सों ने पूरे मामले की शिकायत पहले दैनिक भास्कर के संपादक, फिर जिले के कलक्टर से की लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। इसके बाद उन्होंने भोपाल पहुंच कर मुख्य सचिव को आपबीती सुनाई।

बताया गया है कि मुख्य सचिव ने मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रमुख सचिव प्रवीर कृष्ण को मामले की छानबीन कर वैधानिक कार्रवाई की हिदायत दी है। उधर, नर्सों ने चेतावनी दी है कि शीघ्र कार्रवाई न हुई तो वे आंदोलन करेंगी।  

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

जागरण के पत्रकार ने नोएडा के उप श्रमायुक्त की श्रम सचिव और श्रमायुक्त से की लिखित शिकायत

मजीठिया मामले में अपने को पूरी तरह से घ‍िरा पाकर दैनिक जागरण प्रबंधन इतना बौखला गया है कि अब वह हमला कराने, घूसखोरी और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने पर उतर आया है। इस बात के संकेत उस जांच रिपोर्ट से मिल रहे हैं, जिसके लिए जागरण के पत्रकार श्रीकांत सिंह ने उप श्रम आयुक्त को प्रार्थना पत्र दिया था। जांच के लिए पिछले 21 फरवरी 2015 को श्रम प्रवर्तन अध‍िकारी राधे श्याम सिंह भेजे गए थे। यह अफसर इतना घूसखोर निकला कि उसने पूरी जांच रिपोर्ट ही फर्जी तथ्यों के आधार पर बना दी। उसने जांच रिपोर्ट में बतौर गवाह जिन लोगों के नाम शामिल किए हैं, उनमें से कोई भी घटना के मौके पर मौजूद नहीं था।

इस बात के पुख्ता प्रमाण श्रीकांत सिंह के पास हैं, क्योंकि उन्होंने मौके की फोटोग्राफी भी अपने स्मार्ट फोन से कर ली थी। इन गवाहों में दो लोग तो घटना के दिन बरेली में थे और एक सहयोगी अवकाश पर थे। नोएडा के उप श्रम आयुक्त कार्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार से लोगों में रोष व्याप्त है क्योंकि इसी विभाग पर सताए जा रहे श्रमिकों को राहत पहुंचाने की जिम्मेवारी होती है। यह जानकारी सीबीआई को भी दे दी गई है। अब देखना यह है कि इन भ्रष्ट अफसरों पर कब और कहां से कार्रवाई होती है। श्रम आयुक्त से जो श‍िकायत की गई है, वह मूल रूप में नीचे दी जा रही है। श्रम प्रवर्तन अध‍िकारी की जांच रिपोर्ट आप खुद देखें, सच का पता अपने आप चल जाएगा। 

सेवा में,
श्रम आयुक्त महोदय
विषय : दैनिक जागरण प्रबंधन के इशारे पर मुझे नौकरी से निकाले जाने की साजिश की गलत जांच रिपोर्ट देने के बारे में
मान्यवर,

निवेदन है कि मैं पिछले 20 वर्षों से दैनिक जागरण की नोएडा यूनिट में कार्य कर रहा हूं और इस समय मुख्य उपसंपादक के पद पर कार्यरत हूं। मजीठिया वेतन आयोग के अनुसार वेतन देने से बचने और इस संदर्भ में माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश का खुला उल्लंघन करने के लिए दैनिक जागरण प्रबंधन मुझे नौकरी से निकालने की साजिश रच रहा है। इस संदर्भ में मैंने जब नोएडा के उप श्रम आयुक्त कार्यालय में अर्जी दी तो उसकी गलत जांच रिपोर्ट प्रस्तुत की गई। जब मैंने जांच रिपोर्ट पर एतराज जताया तो मुझे उप श्रम आयुक्त कार्यालय में अपमानित किया गया। इसलिए मजबूर होकर मुझे आपको आवेदन देना पड़ रहा है। आशा है मेरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की अनुकंपा करेंगे। मामला इस प्रकार है-

1-28 दिसंबर 2013 को मेरा तबादला जम्मू कर दिया गया, लेकिन मेरे तबादले की कोई सूचना अथवा डाटा जम्मू नहीं भेजा गया और उसके लिए मुझे अप्रैल 2014 तक परेशान किया गया। इस दौरान मुझे कोई वेतन नहीं दिया गया, जिससे मेरी माली हालत बहुत खराब हो गई। परिवार और सामान के साथ जम्मू जाने के लिए मुझे न तो कोई खर्च दिया गया और न ही कोई पदोन्नति अथवा वेतन बढ़ोतरी दी गई। ऐसी हालत में परिवार के साथ जम्मू स्थानांतरित होना संभव नहीं था। मुझे इस समय मात्र 25 हजार रुपये वेतन दिया जा रहा है, जिसमें जम्मू का 10 हजार रुपये खर्च और बढ़ गया। मुझे इस आश्वासन के साथ जम्मू भेजा गया कि मेरी माली हालत सुधारने के लिए क्षतिपूर्ति की जाएगी, जिस पर आज तक कोई विचार नहीं किया गया।

2-नोएडा कार्यालय के इशारे पर मुझे जम्मू कार्यालय में उठवा लेने की धमकी दी गई और मुझे अशुद्ध पानी पीने के लिए मजबूर किया गया। मेरी तबीयत खराब होने लगी तो मैंने पानी की शुद्धता पर सवाल उठाया। इस पर वहां के महाप्रबंधक ने मुझे धमकाया और पानी के मामले में माफीनामा लिखवा लिया। यह बात मैंने नोएडा कार्यालय को बताई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस बात की जांच जम्मू कार्यालय के कर्मचारियों और मेरी मेडिकल जांच रिपोर्ट से की जा सकती है।

3-इसी बीच 7 फरवरी 2015 को जागरण प्रबंधन की प्रताड़ना के विरोध में नोएडा कार्यालय के कर्मचारियों ने काम बंद हड़ताल कर दी। हड़ताल वापस लेने के लिए दैनिक जागरण प्रबंधन और कर्मचारियों के बीच समझौता हुआ। समझौते के तहत प्रताडि़त करने के लिए हाल में किए गए तबादले वापस लिए जाने थे। उसी के तहत मुझे 10 फरवरी 2015 को बातचीत के लिए बुलाया गया था। जब मैं कार्यालय में प्रवेश करने लगा तो गार्डों से मुझ पर हमला करा दिया गया और मेरी जेब से 36 हजार रुपये निकाल लिए गए। मैंने मौके पर पुलिस पीसीआर वैन बुला ली, लेकिन गार्डों ने कार्यालय का गेट अंदर से बंद कर लिया और पुलिस को जांच में कोई सहयोग नहीं दिया गया।

4-मेरे आवेदन पर उप श्रम आयुक्त कार्यालय, नोएडा से 21 फरवरी 2015 को श्रम प्रवर्तन अफसर राधे श्याम सिंह को जांच के लिए भेजा गया, लेकिन उन्होंने ठीक से पूछताछ किए बगैर दैनिक जागरण प्रबंधन को क्लीन चिट दे दी और मेरी समस्या पर कोई विचार नहीं किया। मैंने दैनिक जागरण, नोएडा के महाप्रबंधक श्री नीतेंद्र श्रीवास्तव और कार्मिक प्रबंधक श्री रमेश कुमार कुमावत को मेल भेज कर अपने पक्ष से अवगत कराया, लेकिन मुझे न तो मेल का कोई जवाब दिया गया और न ही मुझे कार्यालय में प्रवेश करने दिया जा रहा है। इस प्रकार मुझे गैरहाजिर दिखा कर और वेतन से वंचित रखकर दैनिक जागरण प्रबंधन मुझे नौकरी से निकालने की साजिश रच रहा है।

भवदीय
श्रीकांत सिंह
मुख्य उपसंपादक
संपादकीय विभाग, दैनिक जागरण  
नोएडा

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मतंग सिंह को बचाने वाले पूर्व केन्द्रीय गृह सचिव अनिल गोस्वामी की आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने सीवीसी में लिखित शिकायत की (पढ़ें पत्र)

आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर ने पूर्व केंद्रीय गृह सचिव अनिल गोस्वामी द्वारा सारधा  घोटाले के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री मतंग सिंह की गिरफ्तारी कथित रूप से रुकवाने के लिए सीबीआई पर दवाब बनाने की भूमिका के सम्बन्ध जांच करने हेतु केन्द्रीय सतर्कता आयोग में शिकायत भेजी है. उन्होंने कहा है कि इस गंभीर आरोप के सामने आने के बाद श्री गोस्वामी को पद से तत्काल हटाया जाना स्वागत योग्य है पर उन्हें तत्काल स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति मिल जाने से उनके संभावित दुराचरण के विषय में उचित दंड नहीं दिया जा सका है.

उन्होंने कहा कि गृह सचिव जैसे जिम्मेदार पद पर इस तरह का आचरण निश्चित रूप से प्रशासनिक और दांडिक कदाचरण की श्रेणी में आता है और इसके लिए स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति पर्याप्त नहीं है. अतः उन्होंने श्री गोस्वामी की भूमिका की जांच करने और दोषी पाए जाने पर उनकी पेंशन रोकने सहित अन्य कार्यवाही करने की मांग की है.

To,
The Chief Vigilance Commissioner,
Central Vigilance Commission,
New Delhi

Subject- Enquiry against Sri Anil Goswami, ex Home Secretary, Government of India in his role in favouring Saradha scam accused and taking appropriate departmental and penal action

Sir,

I hereby present a matter pertaining to ex Home Secretary Sri Anil Goswami’s alleged sacking. As per various newspaper reports, a conversation between Sri Anil Goswami and Sri Matang Sinh, an accused in the Saradha scam, recorded by the Central Bureau of Investigation (CBI) at the time of the latter’s arrest in Kolkata last Saturday, resulted in Sri Goswami getting sacked on 04/02/2015, four months before his tenure was due to end in June. Copy of the media reports from reputed newspapers like Times of India, Hindustan Times, Indian Express, The Hindu, Economic Times, Dainik Jagran etc are being enclosed.

Again, as per newspaper reports, through the government order issued late tonight, Sri Goswami “opted for voluntary retirement following which his notice period was waived off.”

It has come to public that the CD of the recorded conversation produced by CBI director Sri Anil Sinha before the Hon’ble Home Minister Sri Rajnath Singh and senior officials in the Hon’ble Prime Minister’s Office (PMO). It is said that when CBI officials went to arrest Sri Matang Sinh, he resisted arrest and flaunted his “high-level contacts.” Subsequently, the CBI let him use the agency’s phone and when he called up Sri Goswami on it, that conversation was recorded. It is also said that this conversation indicated alleged abuse of power to interfere in a CBI investigation.

As per media reports, Sri Goswami declined to comment on the matter. It has also been reported that at Sri Goswami’s son’s wedding last year in Delhi, Sri Matang Sinh was a prominent guest.

Prima-facie the facts presented above seem to be definite administrative misconduct and might also be criminal misconduct, if enquired properly. This must be the reason for the immediate turn of events whereby Sri Goswami tendered his voluntary retirement so suddenly. But, due to this sudden voluntary retirement and its acceptance, the criminal and/or administrative culpability of Sri Goswami could not be properly enquired and appropriate action under the provisions of law taken. Hence, it is kindly prayed that an immediate high-level enquiry be conducted about the above-mentioned facts and Sri Goswami’s role in the entire set of events related with arrest of Sri Matang Sinh.

The government release by PIB in this regards says- “Shri Anil Goswami, IAS (JK:78).  The ACC has also approved the acceptance of the request of Shri Anil Goswami, Home Secretary for voluntarily retiring from service with immediate effect by waiving the notice period. The term of Shri Goswami as Home Secretary stands curtailed with immediate effect.

It is kindly prayed that the immediate removal of Sri Goswami after the fact of his alleged misconduct is most welcome. At the same time, the acceptance of voluntary retirement might give Sri Goswami an opportunity to get advantage in his pensionary benefits. If the facts as mentioned in the newspapers and as stated in this complaint are found true and Sri Goswami is found guilty of administrative and/or criminal misconduct, then the appropriate repercussions of these misconduct on all benefits, including the pensionary benefits, must follow, as per the provisions of law.

Hence this complaint.

Lt No- NT/Comp/73/15 

Amitabh Thakur
5/426, Viram Khand,
Gomti Nagar, Lucknow
# 094155-34526
amitabhthakurlko@gmail.com
Dated- 05/02/2015

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

COMPLAINT AGAINST MS. KIRAN BEDI FOR PROMOTING ENIMITY THROUGH ILLEGAL VISIBLE REPRESENTATIONS

DATED:- 23/01/2015

To,

COMMISSIONER OF POLICE,
POLICE HEAD QUARTER,
I.T.O.
NEW DELHI.

D.C.P. OFFICE (EAST)
P.S. MANDAWALI
DELHI

S.H.O.,
P.S. KRISHNA NAGAR,
NEW DELHI.

OFFICE OF THE CHIEF ELECTORAL OFFICER
OLD ST. STEPHEN COLLEGE BUILDING
KASHMERE GATE
DELHI-110006

SUBJECT: –  COMPLAINT AGAINST MS. KIRAN BEDI R/O 56, UDAI PARK, NEW DELHI, FOR PROMOTING ENIMITY AMONG THE RESIDENTS OF KRISHNA NAGAR THROUGH ILLEGAL VISIBLE REPRESENTATIONS.           

Respected Sir,

That the complainant is a permanent resident/social worker of Krishna Nagar vicinity and law abiding patriotic citizen of India and respects the freedom fighters and leaders of the National Pride from the bottom of his heart. It is a paramount duty of the complainant to raise the voice against the illegality and immorality to strengthen the largest democracy of world and to save the pride of the Nation. 

That on 21/01/2015, during the election campaign being a Chief Minister candidate of Bhartiya Janta Party, the above mention Ms. Kiran Bedi along with her associates and party members had visited at Sh. Lala Lajpat Rai Chowk, Krishna Nagar, Delhi, where the idol of Late Sh. Lala Lajpat Rai is placed.

That Ms. Kiran Bedi with the collusion and connivance and consent with Sh. Mahesh Giri Member of Parliament, Dr. Sh. Harsh Wardhan Union Minister, Sh. Vijay Goel Member of Rajya Sabha, Sh. Satish Upadhya President Delhi B.J.P and Ms. Kalpana Jain Municipal Counselor, put the saffron clothe with mark of BJP on the idol of Punjab Kesri Late Sh. Lala Lajpat Rai  in order to saffronize the image of the great freedom fighter  for  her political gain and  to influence her vote bank by depicting that the great freedom fighter was having ideology of B.J.P and R.S.S only. It is further clarified that he was a great freedom fighter who belongs to whole of the Nation but not to a particular section of the society.

That the sole intention of above mentioned persons is to ruin, disparage and defame the hard built reputation of Punjab Kesri Late Sh. Lala Lajpat Rai in order to hurt the sentiments of his followers and admirers including complainant by representing him from a particular political party. The act of Ms. Kiran Bedi was pre-determine and with the collusion and connivance of the above mention associates. The above mention Ms Kiran Bedi along with her associates hurt the sentiments and feelings of the complainant as well as other secular and patriotic citizens of the entire country who respect their freedom fighters and love their country above anything else by visible representation to promote disharmony, feeling of hatred and ill will among the residents of Krishna Nagar vicinity. The act of the above mentioned persons are prejudicial to the maintenance of harmony between communities and which likely to disturb the public tranquility at large.    

It is therefore requested from your kind office to register the FIR in the appropriate Section of law against the above mentioned Ms. Kiran Bedi and her associates to save the rights of the complainant and for the survival of the largest democracy of the world.  

COMPLAINANT
Sh. Suresh Khandelwal    S/o Sh. Gainda Lal
R/o A-7/37, Krishna Nagar Delhi-110051
9810845555
    Copy to :-

HON’BLE SPEAKER OF LOK SABHA
SMT. SUMITRA MAHAJAN,
17, PARLIAMENT HOUSE,
NEW DELHI-110001

HON’BLE CHAIRMAN OF RAJYA SABHA,
SH. MOHAMMAD HAMID ANSARI,
PARLIAMENT HOUSE,
NEW DELHI-110001

इस मामले में आगे क्या हुआ, यह जानने के लिए इस शीर्षक पर क्लिक करें….

लाला लाजपत राय को भाजपाई पटका पहनाने के मामले में कोर्ट ने किरण बेदी के खिलाफ कार्रवाई का ब्योरा मांगा

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

यूपी में जंगलराज : MBSC ग्रुप के बिल्डर को अपनी जमीन औने-पौने दाम में नहीं बेचने पर जान के लाले

अमिताभ ठाकुर


(आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर ने अपनी जनपक्षधरता और जनसक्रियता से उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में एक क्रांति ला दी है. आमतौर पर यूपी पुलिस विभाग के अफसर सत्ता के दबाव और सत्ता के इशारे पर संचालित होते हैं. लेकिन अमिताभ ठाकुर किसी भी जेनुइन मामले को बिना भय उठाते हैं भले ही उससे सीधे सीधे सत्ता के आका लोग निशाने पर आते हों. ऐसे ही एक मामले में आज अमिताभ ठाकुर ने पीड़ित व्यक्ति को न्याय दिलाने के लिए मुहिम शुरू की. पढ़िए इस नए प्रकरण की कहानी उन्हीं की जुबानी.  -एडिटर, भड़ास4मीडिया)


आज मैंने एसएसपी, लखनऊ यशस्वी यादव से मुलाकात कर मिर्जापुर, थाना गोसाईंगंज में एमबीएससी ग्रुप के लोगों के आपराधिक कृत्यों तथा उस गांव के पोसलाल पुत्र परीदीन की जमीन को जबरदस्ती खरीदने के प्रयास के बारे में शिकायत दिया. एसएसपी ने एसओ गोसाईंगंज को तत्काल मामले में एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए. शिकायत के अनुसार एमबीएससी ग्रुप ने बीएससी होम्स नाम से लगभग 170 लोगों से बुकिंग के नाम पर करोड़ो रूपये ले भी लिए हैं जबकि अभी उसके पास न तो आवश्यक जमीन है और न ही उसका नक्शा एलडीए से स्वीकृत है.

इस कंपनी के चेयरमैन अखण्ड प्रताप सिंह, उनके भाई ग्रुप डायरेक्टर विष्णु सिंह ने अन्य लोगों के साथ दूसरों की जमीनों पर जबरिया बोर्ड लगा लिया है और गुंडई के बल पर गरीब लोगों की जमीन बहुत कम दाम में खरीदने की कोशिश कर रहे हैं. इन लोगों ने पोसलाल को अपनी 5 बीघा पुश्तैनी जमीन बहुत ही कम दाम में बेचने का दबाव डाला और मना करने पर 12 दिसंबर 2014 को उन्हें जबरन पकड़कर  रजिस्ट्री कराने मोहनलालगंज तहसील ले गये जहां से वे किसी तरह निकल पाए.

पुनः 16 दिसंबर को दिन के 12 बजे ये पोसलाल को गोंसाईगंज कस्बे से हथियारों के बल पर अगवा कर अर्जुनगंज में अखण्ड प्रताप सिंह के घर ले आये जहां उसे यातनायें दी गयी. जब बात फ़ैल गयी तो पुलिस हरकत में आई और वे अपने घर आ सके. रात में भी उनके घर के अन्दर और बाहर पहरा रहा जहां से वे मेरे मित्र अमेरिका में रहने वाले अजय मिश्रा की मदद से निकल सके. पोसलाल का आरोप है कि अहमामऊ चौकी के कुछ पुलिसवाले भी इसमें शामिल हैं. इन लोगों ने 17 दिसंबर को गोसाईगंज थाने में तहरीर दी पर कोई कार्यवाही नहीं हुई. आज हमने एसएसपी आवास जा कर एफआईआर दर्ज कराने और इनकी सुरक्षा करने के लिए प्रार्थनापत्र दिया है जिसपर उन्होंने तत्काल कार्यवाही के निर्देश दिए हैं.

ये है एसएसपी लखनऊ को दिया गया प्रार्थनापत्र…

सेवा में,
एसएसपी,
लखनऊ

विषय- ग्राम मिर्जापुर, पो-अहमामऊ, थाना गोसाईंगंज,  लखनऊ में एमबीएससी ग्रुप और और उसके पदाधिकारियों द्वारा किये जा रहे भारी आपराधिक अनियमितता तथा श्री पोसलाल, पुत्र परीदीन, निवासी-ग्राम-मिर्जापुर के अपहरण, उनकी जमीन पर जबरदस्ती कब्जा करने और उन्हें जान-माल की धमकी देने के सम्बन्ध में एफआईआर दर्ज कर कठोर विधिक कार्यवाही किये जाने विषयक

महोदय,

निवेदन है कि मेरे एक मित्र श्री अजय मिश्रा पुत्र श्री आरके मिश्रा, निवासी-बी-2/52, जानकीपुरम्, सेक्टर-एफ, लखनऊ, जो आमतौर पर अमेरिका में रहते हैं और वर्तमान में अपने माता-पिता से मिलने लखनऊ आये हैं, ने कल दिनांक 01/01/2015 को श्री पोसलाल, पुत्र परीदीन, निवासी-ग्राम-मिर्जापुर, थाना गोसाईंगंज के साथ मुझसे मिलकर एक बहुत ही गंभीर प्रकरण के सम्बन्ध में बताया. श्री मिश्रा ने बताया कि एमबीएससी ग्रुप/बीएससी होम्स नामक एक कथित कंपनी के द्वारा ग्राम मिर्जापुर और उसके आस-पास के इलाके में भारी आपराधिक अनियमितता की जा रही है.

अभिलेखों के अनुसार इसका ग्रुप कॉर्पोरेट ऑफिस निकट निर्वाण प्रोजेक्ट ऑफिस, निर्वाण सिटी, सेक्टर 49-50, गुडगाँव 122002, हरियाणा तथा रीजनल ऑफिस ए–3/113, साईं वाटिका काम्प्लेक्स, विभूति खंड, गोमतीनगर, लखनऊ है. साथ ही टेलीफैक्स नंबर +91 124 4271405, कस्टमर केयर नंबर  +91 522 3199595, ईमेल info@mbscgroup.in, अन्य संपर्क नंबर 9336759595, 9336659595 हैं.

श्री मिश्रा ने बताया कि इस कंपनी के चेयरमैन श्री अखण्ड प्रताप सिंह, उनके भाई श्री विष्णु सिंह, ग्रुप डायरेक्टर, पुत्रगण श्री विमल सिंह तथा अन्य कई सारे लोग जैसे श्री राजन सिंह, राजन शुक्ला, कमलेश यादव, शिवनाम पुत्र राजाराम आदि द्वारा स्वयं को एक हाउसिंग कम्पनी बताते हुए ग्राम मिर्जापुर और आसपास में बिना कोई जमीन खरीदे ही दूसरों की जमीनों पर जबरिया हथियारों के बल पर कब्जा करके अपना बोर्ड जबरदस्ती लगाकर तमाम लोगों को प्लाट/मकान/फ्लैट देने के नाम पर खुले आम धांधली कर रहे हैं.

श्री मिश्रा के अनुसार इन लोगों ने बिना कोई जमीन अपने पास हुए ही दूसरे की जमीनों पर अपना बोर्ड लगा कर स्वयं को बिल्डर घोषित कर लोगों को फ्लैट/प्लाट आदि के लिए फंसाना शुरू कर दिया है. इसके लिए इन लोगों ने अपना एक वेबसाइट (www.mbscgroup.in) भी खोल रखा है. इसके अलावा इन्होंने पूरे शहर में बड़े बड़े चकाचैंध वाले बोर्ड लगा रखे हैं. इन्होंने कथित रूप से इस योजना की शुरूआत बताने के नाम पर होटल ताज में एक भारी भरकम पार्टी भी की. सारांशतः यह लोग हर प्रकार से लोगों को बरगला कर और लुभाकर बिना जमीन हुए ही उन्हें प्लाट/फ्लैट्स आदि बेच दे रहे हैं. बताया गया कि इन लोगों ने अपने काफी भव्य बुकलेट/पम्फलेट भी बना रखे हैं जिसमें अनगिनत फर्जी और झूठे तथ्य लिखे हुए हैं. इसमें खासकर बिना जमीन हुए जमीन का मालिक बताने के अलावा बिना लखनऊ विकास प्राधिकरण से नक्शा स्वीकृत कराये ही कई प्रकार के भविष्य में बनाये जाने वाले बिल्डिंगों के नक्शे भी लगाये गये हैं जबकि बिना एलडीए के नक्शा स्वीकृत हुए इन्हें यह अधिकार नहीं था कि वे इस प्रकार से बिल्डिंग के नक्शे दिखाकर लोगों को बरगलायें और बिना नक्शा और प्रोजेक्ट स्वीकृत हुए तमाम लोगों से बिल्डिंग/फ्लैट/प्लाट के लिये लोगों से बुकिंग लें.

श्री मिश्रा के अनुसार इन लोगों ने अब तक लगभग 170 लोगों से बुकिंग के नाम पर करोड़ो रूपये ले लिये हैं जिन्हें न मालूम कब कोई भी सम्पत्ति मिलेगी क्योंकि इन लोगों के पास न तो जमीन है और न ही एलडीए द्वारा उस पर निर्माण की स्वीकृति. 

उन्होंने बताया कि इन लोगों ने ग्राम मिर्जापुर में अनुसूचित जाति के तमाम गरीब लोगों की जमीनों पर हथियारों और दबंगई के बल पर भौतिक कब्जा कर अपनी कम्पनी का बोर्ड लगा दिया है और उस इलाके में अपने तमाम हथियार बंद लोगों को भी छोड़ रखा है जो जमीन के असली मालिक गरीब लोगों को डरा धमका कर रखते हैं और ये लोग इन्हीं बोर्डों और इन्ही जमीनों को गलत तरीके से अपना बताकर देश विदेश के लोगों को प्लाट/फ्लैट्स के नाम पर आये दिन ठग रहे हैं.

श्री मिश्रा के साथ आये श्री पोसलाल पुत्र श्री परिदीन, जो अनुसूचित जाति के हैं, पढ़े-लिखे तक नहीं हैं और देखने से ही अत्यंत ही निर्धन दिख जाते हैं, ने श्री अखंड प्रताप सिंह तथा अन्य व्यक्तियों द्वारा उनके साथ किये जा रहे आपराधिक कृत्यों का विस्तार से विवरण बताया. उन्होंने बताया कि उनके और उनके भाईयों की पुश्तैनी जमीन खसरा सं0-929, 939, 940 कुल रकबा 5 बीघा है. इस जमीन पर श्री अखण्ड प्रताप सिंह आदि द्वारा जबरन कब्जा करने तथा उसका बैनाम करने हेतु प्रार्थी व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी जा रही है.

उन्होंने बताया कि यह जमीन समय के साथ सड़क पर आ जाने के कारण काफी महत्वपूर्ण हो गयी है लेकिन उनकी जमीन पर एमबीएससी ग्रुप्स/बीएससी होम्स वालों ने बिना उन लोगों की अनुमति लिये उनकी इच्छा के खिलाफ जबरिया बलपूर्वक अपना बोर्ड लगा लिया है. साथ ही श्री अखण्ड प्रताप सिंह, श्री विष्णु सिंह पुत्रगण श्री विमल सिंह तथा उनके साथी श्री कमलेश यादव (पुत्र श्री हरीप्रसाद), श्री शिवनाम (पुत्र श्री राजाराम), श्री राजन सिंह, श्री राजन शुक्ला समेत कुछ लोग उनसे लगातार यह जमीन बेचने का दबाव डालते रहे हैं. चूंकि एक तो इन लोगों की शोहरत अच्छी नहीं है और दूसरे इन लोगों ने बहुत ही कम पैसा देने की बात कही थी और श्री पोसलाल को यह भी भरोसा नहीं है कि जितना पैसा वे कह रहे हैं उतना भी यह देंगे या नहीं देंगे इसलिये उन्होंने लगातार इन्हें अपनी जमीन देने से मना किया है.

श्री पोसलाल के मना करने के बाद भी ये लोग लगातार दबाव डालते रहे हैं कि उन्हें जमीन बेच दें अथवा उनकी हत्या कर दी जायेगी.  कई बार लोग मेरे घर पर हथियार के साथ आयें हैं और उन्होंने इस प्रकार की धमकी दी है. अत्यंत कष्ट का विषय है कि श्री पोसलाल के अनुसार श्री अखंड प्रताप सिंह आदि के इन कार्यों में स्थानीय पुलिस चौकी और गोसाईंगंज थाने के कुछ लोग भी खुल कर उनका समर्थन और सहयोग कर रहे हैं जो न सिर्फ कई बार स्वयं इन हथियारबंद लोगों के साथ श्री पोसलाल को धमकी देने आये बल्कि श्री पोसलाल के बार-बार गुहार लगाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं कर रहे हैं जिसमे पुलिस चौकी अहमामऊ के श्री तिवारी का नाम विशेष रूप से बताया गया है.

श्री पोसलाल के अनुसार दिनांक 12/12/ 2014 को उन्हें जबरन पकड़कर वे लोग हथियारबंद लोगों की सहायता से कचहरी, मोहनलालगंज ले गये और वहीं के वहीं बिना पैसा दिये बैनामा कराने के लिये दबाव डालने लगे किन्तु वे बड़ी मुश्किल से किसी तरह से वहां से भागने में सफल रहे. पुनः दिनांक 16/12/2014 को दिन के 12 बजे श्री अखण्ड प्रताप सिंह के लोगों ने श्री पोसलाल को गोंसाईगंज कस्बे से हथियारों के बल पर अगवा कर लिया और एक चार पहिया गाड़ी में डालकर श्री अखण्ड प्रताप सिंह के घर ले आये.  प्रार्थी को अर्जुनगंज में श्री अखण्ड प्रताप सिंह के घर ले जाकर यातनायें दी गयी और बैनामा करने हेतु बुरी तरह डराया धमकाया गया, उन्हें रात दस बजे तक बंधक बनाकर रखा गया. इसी बीच जब बात चारों ओर फ़ैल गयी तो पुलिस हरकत में आई और तब जाकर वे अपने घर आ सके.

श्री पोसलाल ने मुझे बताया कि घर पर भी रात्रि में चारों तरफ और घर के अंदर हथियारबंद लोगों का पहरा लगाया गया था और उन्हें यह कहा गया था कि सुबह होते ही वे जाकर तहसील में रजिस्ट्री कर दें, बैनामा न करने पर जान से मारने की धमकी दी गई. वे किसी तरह श्री मिश्रा की मदद से वहां से जान बचा कर भाग सके. उनकी बहन सुश्री गीता रावत और बहनोई श्री सुखदेव रावत को भी प्रताडि़त किया गया और धमकाया गया.

श्री पोसलाल इस घटना की शिकायत करने दिनांक 17/12/2014 को गोसाईगंज थाने गए. उन्होंने अपने प्रार्थनापत्र में पुलिसवालों की भूमिका का भी उल्लेख किया था जिसमे ख़ास कर श्री तिवारी का जिक्र था. थाना इंचार्ज श्री विनोद यादव ने पुलिस वालों का नाम काट कर दुबारा तहरीर लिखवाया और आवश्वासन दिया कि उनका एफआईआर दर्ज हो जाएगा पर फिर भी अब तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुआ है. आज स्थिति यह है कि श्री अखण्ड प्रताप सिंह को जमीन बेचने से मना करने के कारण न सिर्फ दो बार श्री पोसलाल को अगवा किया जा चुका है बल्कि इस समय भी उन्हें अपनी जान का भारी खतरा बना हुए है. वर्तमान में वे श्री अजय मिश्र के आवास पर अपनी स्वेच्छा से रह रहे हैं पर उन्हें भारी आशंका है कि जैसे ही वे गाँव आयेंगे उनकी हत्या कर दी जायेगी.

अतः आपसे अनुरोध है कि इस अत्यंत गंभीर प्रकरण में एफआईआर दर्ज करने तथा अगवा कर धमकी देने वाले लोगों के विरूद्ध कार्यवाही करने तथा श्री अजय मिश्रा और श्री पोसलाल के जान माल की सुरक्षा करने हेतु कठोर आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें. 

पत्र संख्या-AT/Complaint/46                                                               
दिनांक- 02/01/2015
भवदीय,                                                                                                           
(अमिताभ ठाकुर)
5/426, विराम खंड,
गोमती नगर, लखनऊ
# 94155-34526
amitabhthakurlko@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भय दिखाकर वसूली करने वाले इस फर्जी पत्रकार की शक्ल याद रखिए, ये न तो दैनिक जागरण में है और न के. न्यूज में

सेवा में,
प्रभारी, साइबर सेल,
हजरतगंज,
जनपद लखनऊ

विषय- कथित पत्रकार रणजीत सिंह राठौड़, जनपद लखनऊ विषयक

महोदय,

कृपया निवेदन है कि मुझे कतिपय विश्वस्त सूत्रों द्वारा यह बताया गया कि रणजीत सिंह राठौड़ नाम के एक व्यक्ति स्वयं को पत्रकार बता कर ना सिर्फ तमाम लोगों पर गलत-सही रौब दिखा रहा है बल्कि वह इसके जरिये कई सरकारी कर्मियों को भय दिखा कर उनसे वसूली भी कर रहा है. मुझे जब इस बारे में विश्वास हो गया कि ये शख्स फर्जी है, तो इस प्रकरण में कार्यवाही कराने के लिए आवेदन कर रहा हूं.

फर्जी पत्रकार ने अपने फेसबुक वॉल पर खुद की यही फोटो डाल रखी है

सूत्रों द्वारा मुझे उस व्यक्ति का Ranjeet Singh Rathour नाम से फेसबुक एकाउंट (वेबलिंक https://www.facebook.com/ranjeet.singhrathour.92 ) भेजा गया जिस पर उसका पता लखनऊ का और मूल निवास लखीमपुर खीरी का बताया गया. इस एकाउंट में उसने खुद को crime reporter in samajwadi party and dainik jagran बताया है.  इसके अलावा इस फेसबुक एकाउंट में उसने खुद को न्यूज़ चैनल का भी पत्रकार बताते हुए एक फोटो लगा रखा है. फोटो उपर प्रकाशित है.

मैंने इस सम्बन्ध में दैनिक जागरण लखनऊ के जिम्मेदार पदाधिकारियों से बात की तो उन्होंने बताया कि उन्होंने भी सुन रखा है कि इस नाम का कोई आदमी उनके अख़बार का पत्रकार बन गलत काम कर रहा है. उन्होंने स्पष्ट किया कि इस आदमी का उनके अख़बार से कोई रिश्ता नहीं है पर वह फर्जी रूप से स्वयं को इस अख़बार का पत्रकार बता कर गलत काम कर रहा है.

मैंने के-न्यूज़ के भी जिम्मेदार लोगों से इस बारे में बात किया तो उन्होंने भी बताया कि उन्हें भी एक आदमी द्वारा के-न्यूज़ की आईडी लगा कर घुमने और गलत काम करने की शिकायत मिली है. उन्होंने मुझे व्हाट्सएप पर उस आदमी की फोटो भेजी जो हूबहू इसी आदमी श्री रणजीत सिंह राठौड़ की थी.

उपरोक्त तथ्यों से स्पष्ट होता है कि यह आदमी फर्जी रूप से स्वयं को दैनिक जागरण और के-न्यूज़ और शायद अन्य अख़बारों का पत्रकार बता कर इसके जरिये समाज में गलत काम कर रहा है. वह इसके लिए फेसबुक का भी अनुचित प्रयोग कर रहा है.

अतः आपसे निवेदन है कि कृपया इस व्यक्ति द्वारा इन्टरनेट और भौतिक जगत में स्वयं को गलत ढंग से पत्रकार बता कर लोगों को ठगने, गलत रौब दिखाने, इसके माध्यम से विधि-विरुद्ध कार्य करने आदि के मामले में रिपोर्ट दर्ज कर अग्रिम कार्यवाही करने की कृपा करें. निवेदन करूँगा कि यह कार्य व्यापक जनहित का है, जिसमे एक व्यक्ति द्वारा पत्रकारिता जैसे गंभीर कार्य को अनुचित, अनैतिक और अवैध हितों के लिए प्रयोग किया जा रहा है, अतः इस शिकायत पर प्राथमिकता देने की कृपा करें.

पत्रांक संख्या- AT/Comp/37/14 
दिनांक –    24/12/2014                                                                  
(अमिताभ ठाकुर)
5/426, विराम खंड,
गोमती नगर, लखनऊ
094155-34526

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मनोरंजन टीवी के फर्जीवाड़ा ‘चेहरा पहचानो इनाम जीतो’ का एक शिकार मैं भी हूं

विषय : Fraud of Manoranjan TV

निदेशक
मनोरंजन टीवी
आदरणीय सर

आपके चैनल Manoranjan TV पर आने वाले ‘चेहरा पहचानो इनाम जीतो’ विज्ञापन के जरिए लोगों को पागल बनाने का काम किया जाता है. इसका एक शिकार मैं भी हुआ हूं. मेरे पास आज दिनांक 09 दिसंबर को फोन आया कि आपको 12 लाख 50 हजार रुपए इनाम में मिलने वाला है. इसे पाने के लिए मेरे से अभी तक इनाम देने वालों ने 86 हजार रुपए तक वसूल लिए हैं.

जब मैंने पैसे वापस करने के लिए कहा तो भी इन्होंने कहा कि इसके लिए 14 हजार रुपए और एकाउंट में डाल दो. आपसे निवेदन है कि आप इस संदर्भ में मदद करने की कृपया करें ताकि मुझ गरीब को न्याय मिल सके. मैं आपको वह मोबाइल नंबर दे रहा हूं जिसके जरिए मुझे लगातार फोन किया गया और पैसे मांगे गए. वह नंबर 08969362566 है.

सतीश चन्द शर्मा
कोटपूतली जयपुर राजस्थान
M. 09314090617
satishsharma.pa@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मुलायम के जन्मदिन जश्न के लिए स्कूली बच्चों को घंटों खड़ा रखा, बाल अधिकार आयोग को शिकायत

रामपुर में मुलायम सिंह के जन्मदिन समारोह के लिए स्कूलों की बंदी और बच्चों को मुलायम सिंह के नारे लगाने के लिए घंटों खड़ा रखने को बाल अधिकारों का खुला उल्लंघन बताते हुए सामाजिक कार्यकर्त्ता डॉ नूतन ठाकुर ने इस सम्बन्ध में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को शिकायत भेजी है. शिकायत संख्या 201400001016 पर दर्ज इस ऑनलाइन शिकायत में कहा गया है कि एक नेता, जिन्हें ये बच्चे संभवतः जानते तक नही थे, के लिए नारे लगाने को इन बच्चों को घंटों खड़ा रखना आईपीसी की धारा 342 में अपराध है.

इस प्रकार 21 और 22 नवम्बर को डीएम रामपुर सी पी त्रिपाठी के आदेशों पर इस जश्न के लिए कई स्कूलों को बंद करने का आदेश देना शिक्षा का अधिकार अधिनियम के खिलाफ है. अतः डॉ ठाकुर ने आयोग से इन दोनों बिन्दुओं पर जांच कर डीएम रामपुर सहित जिला प्रशासन की जिम्मेदारी नियत करने का आग्रह किया है ताकि यह भविष्य में बाल अधिकारों का हनन करने वालों के लिए एक उदाहरण बन सके.

Email from Child Rights Commission—

Dear Sir/Madam,

Your complaint has been registered with NCPCR and your complaint ID is : 201400001016 .To know details and action taken, please visit http://eBaalNidan.nic.in
Thanks.

Letter for Child Rights Commission—

To,
Chairperson
National Commission for Protection of Child Rights,
5th Floor, Chanderlok Building,
36, Janpath,
New Delhi – 110 001

Subject- Enquiry into the closure of schools and use and extreme harassment of children for a political program in Rampur

Respected Sir,

The petitioner Dr Nutan Thakur, a luck now based social activist working in the field of transparency and accountability in governance and Human Rights issues presents an extremely sad and disgusting incidence that happened in Rampur (UP) yesterday (21/11/2014) during the 75th birthday celebrations of Samajwadi Party President Sri Mulayam Singh Yadav.

While the pomp and show and the alleged misuse of government machinery for private and political event is a separate matter and not exactly the concern of the Child Rights Commission, but there are two specific aspects which the petitioner like to bring in the notice of this Commission.

The first is that children were used, in all certainty against this wish, along the 12 kilometre from Ambedkar Park to Mohd Ali Jauhar University campus, to line up and cheer for a leader whom they possibly did not even know.  As per the news items from various respected media sources, children from 20 schools were transported to line the route where the children had to remain stranded for hours to cheer a political leader, in all certainty in a forced manner because it can be almost naturally presumed that no school-going child will himself line up for hours for cheering a political leader.

The second aspect is that many schools in Rampur were closed on 21/11/2014 and 22/11/2014 on the orders of Sri CP Tripathi, District Magistrate, Rampur, who is presumed to have said- “All departments have been working to ensure that Netaji’s 75th birthday is celebrated in a grand manner.” These schools were asked to declare a holiday for two days as school buildings are used to provide accommodation to the security forces.

There is no need saying that both the above aspects are serious actions against the interest of children and clearly comes under the category of infringement of child rights. The Commission, which emphasizes the principle of universality and inviolability of child rights, needs to immediately take up this issue and enquire into the manner in which the district administration under DM Rampur harped upon the child rights of these children by making them forcibly stand for hours and by closing their schools for political celebrations.

This Commission has been mandated under Section 31 of the Right of Children to Free and Compulsory Education Act, 2009 to inquire into complaints relating to violation of child’s right to free and compulsory education and to take necessary steps as provided under Section 15 of the Commission for Protection of Child Rights, 2005.

In addition, the forcible attendance of the children and their restrain for this purpose seems to come under the category of offence under section 342 IPC, if through enquiry it is proved that the children were made to stand as cheer-leaders against their will.

Thus, from the above facts, it seems imperative to enquire into the above facts/complaints so as to arrive at the truth as regards the child rights deprived in the above incidents and the role of District administration, including that of DM, Rampur Sri C P Tripathi in this.

This issue seems extremely important because of the gross insensitivity shown here to child rights and because any appropriate action in this administration sponsored mega- event will set an example for all others to refrain from doing similar acts of child rights violation in future.

Lt No- NT/Compliant/22/14                                                                   
Dated- 22/11/2014                                                                                                                      
Regards,
Yours,                                                                                                                                               
(Dr Nutan Thakur),
5/426, Viram Khand,
Gomti Nagar, Lucknow
# 94155-34525
nutanthakurlko@gmail.com

 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: