पत्रकार जगेंद्र और संदीप, दोनो की हत्या के पीछे खनन माफिया

बालाघाट (मप्र) : पत्रकार संदीप कोठारी हत्याकांड के संबंध में कटंगी के अनुविभागीय अधिकारी पुलिस जे एस मरकाम ने बताया कि पुलिस को पता चला है कि तीनों गिरफ्तार आरोपी अवैध खनन और चिटफंड के कारोबार से जुड़े हुए हैं और पत्रकार पर उनके खिलाफ अवैध खनन का एक स्थानीय अदालत में दर्ज प्रकरण वापस लेने का दबाव बना रहे थे। संदीप इसके लिए राजी नहीं था और संभवत: उसे इसकी ही कीमत चुकानी पड़ी है।

गौरतलब है कि जिले की कटंगी तहसील मुख्यालय से दो दिन पहले अपहृत चालीस वर्षीय पत्रकार का जला हुआ शव शनिवार रात महाराष्ट्र में वर्धा के निकट स्थित एक खेत से मिला है।

कटंगी के अनुविभागीय अधिकारी पुलिस जे एस मरकाम ने बताया कि इस सिलसिले में पुलिस ने कटंगी निवासी तीन लोगों राकेश नसवानी, विशाल दांडी एवं बृजेश डहरवाल को गिरफ्तार किया है। इन तीनों पर पत्रकार संदीप कोठारी का अपहरण कर उसे जिंदा जलाने का आरोप है। 

शाहजहांपुर में जिंदा जलाए गए पत्रकार जगेंद्र सिंह का मामला भी खनन से जुड़ा है। उत्तर प्रदेश सरकार उक्त मामले को आत्महत्या बताने में लगी है। गवाह भी तैयार किए जा रहे हैं। मध्य प्रदेश का मामला कहां तक जाएगा, यह देखने की बात है। अब सरकारें और माफिया इतने पवित्र हो गए हैं कि उनपर सवाल उठाना अपनी जान गंवाना है।

कृष्णकांत के एफबी वाल से

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *